लॉजिस्टिक मैनेजमेंट कैसे करें?, 8 स्टेप्स में जानें

1- Shipping cost

कोई भी logistics company product के वजन और साइज के अनुसार उसे deliver करने की कीमत लेती है| ऐसे में हमें लॉजिस्टिक कंपनी से सबसे पहले उसके डिलीवरी चार्ज जरुर पूछना चाहिए|

2- Cash on delivery

कई buyer COD (Cash on delivery) का ऑप्शन भी पसंद करते हैं| आपको अपनी logistic company यह पता करना है कि कहीं वह “ कैश ऑन डिलीवरी” के लिए कुछ एक्स्ट्रा चार्ज तो नहीं करती?

3-  Fast Delivery

कुछ कस्टमर को प्रोडक्ट जल्दी मंगवाना होता है| कंपनी से यह भी तय कर लें कि यदि कोई कस्टमर फास्ट डिलीवरी चाहता है तो उसका कितना एक्स्ट्रा चार्ज होगा?

4- Hidden charges

logistic company से यह भी क्लियर कर लेना है कि क्या उसके कोई हिडन चार्ज भी हैं?, जैसे कि:  कोई TAX, बरसात के मौसम में एक्स्ट्रा चार्ज, LOADING & UNLOADING CHARGE इत्यादि

5- Warehouse Charges

यदि कंपनी का कोई अपना वेयरहाउस है तो, उस वेयरहाउस के बारे में आपको उसकी सुविधाएं लेने के लिए क्या अलग से चार्ज देना पड़ेगा?, इत्यादि की जानकारी भी अवश्य लें|

6-  Bad behavior

किसी बिजनेस में व्यवहार सबसे महत्वपूर्ण तत्व होता है| यदि आप अपने ग्राहकों से अच्छे रिलेशन नहीं बनाओगे तो आपका बिजनेस कभी तरक्की नहीं कर सकता| आपको अपने लॉजिस्टिक कंपनी से यह बात खुलकर कर लेनी चाहिए कि उनके किसी एम्पलाई द्वारा बदतमीजी करने पर वह क्या एक्शन लेते हैं?

7-  Pin Code Reach

पहले आपको यह जानना होगा कि आपको देश भर से किन स्थानों और किन पिन कोडों से ऑर्डर प्राप्त होते हैं। इसमें टियर 2 और टियर 3 शहरों में सुदूर स्थान (remote locations) भी शामिल हो सकते हैं जो, अधिकांश logistic partners द्वारा उपलब्ध नहीं हो सकते हैं।

8-  Terms of Service

लॉजिस्टिक्स सर्विस के अंतर्गत कई अलग-अलग प्रकार की सेवाएं शामिल हैं। आप पहले से अपनी लोजिस्टिक कंपनी से इस बात पर सहमति बना लें की कुछ प्रमुख उद्देश्यों के लिए कौन सी ऊपरी सीमा जैसे RTOs (Real Time Operating System) की अधिकतम संख्या या नकली डिलीवरी जिसके बाद जुर्माना लगाया जाता है।

बिजनेस के बारे में सभी जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करें