Soap Making Business Idea: कम खर्चे के साथ साबुन बनाने का बिज़नेस शुरू करे और कमाए लाखो रुपए, ये है तरीका

248

इस पोस्ट के माध्यम से आप Soap Making Business Idea के बारे में जानेंगे| साबुन बनाना कुछ लोगों के लिए लोकप्रिय शौक है, इसी शौक को कई लोगों ने एक सफल व्यवसाय (successful business) में बदल गया है|

कुछ लोगों को लगता है कि वे अपनी विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अनुकूलित साबुन चाहते हैं|

साबुन बनाने का व्यवसाय (soap making business)

साबुन बनाने का व्यवसाय (Soap Making Business) उन लोगों के लिए एक आदर्श व्यवसाय (ideal business) है, जो साबुन बनाने में अपनी रुचि तथा कुशलता का उपयोग करना चाहते हैं|

इसके अलावा यह वित्तीय स्थिरता हासिल करने का एक अच्छा तरीका है| 

इस तरह के व्यवसाय (Business) को शुरू करने के लिए अपनी स्किल्स के साथ ही बुनियादी व्यापार प्रबंधन कौशल (business management skills) का इस्तेमाल करना महत्वपूर्ण है|

इसके बारे में जानने के कई तरीके हैं जैसे की कोर्स, किताबों या ऑनलाइन पढ़ाई करके या ऐसे प्रोफेशनल्स के पास जा सकते हैं जो पहले से ही व्यापार की जानकारी रखते हैं|

Soap Making Business Idea

साबुन के प्रकार (Types of soap)

1- Glycerin Soap

ग्लिसरीन तेल या वसा का एक घटक है। किसी भी हाथ से बने साबुन में ग्लिसरीन होता है| 

2- Transparent Soap

यह गर्म प्रक्रिया विधि द्वारा बनाया जाता है| आमतौर पर इसे पारदर्शी बनाने के लिए इसमें किसी न किसी रूप में अल्कोहल को उचित मात्रा में मिलाया जाता है।

3- Liquid Soap

साबुन बार को बनाने की तुलना में लिक्विड सोप बनाने की प्रक्रिया अधिक जटिल है। यह आमतौर पर गर्म प्रक्रिया विधि के साथ बनाया जाता है। इसमें एक अलग प्रकार की लाइ (सोडियम हाइड्रॉक्साइड के बजाय पोटेशियम हाइड्रॉक्साइड) का इस्तेमाल करने के कारण पानी मिलाने के कारण तरल रूप बन जाता है।

साबुन के उपयोग के आधार पर भिन्नता (Types of soaps different by usage)

4- Kitchen Soap

किचन सोप का इस्तेमाल किचन में मुख्य रूप से बर्तन धोने के उद्देश्य से किया जाता है।

5- Laundry Soap

कपड़ों में ग्रीस, ठोस कणों और कार्बनिक यौगिकों को साफ करने में प्रभावी होता है| इससे यात्रा के दौरान कपड़े धोना काफी सुविधाजनक हो जाता क्योंकि इसे ले जाना आसान होता है।

6- Novelty Soap

इस प्रकार के साबुन विभिन्न आकार के रंगों जैसे मछली, केक जैसी shape में आता है। यह बच्चों को आनंद और मनोरंजन प्रदान करता है|

7- Guest Soap

आम तौर पर साबुन सामान्य साबुन बार से छोटा होता है यह विभिन्न आकर्षक आकृतियों के साथ आता है। इसे मेहमानों के उपयोग के लिए डिज़ाइन किया जाता है|

8- Medicated Soap

औषधीय साबुन में अतिरिक्त एंटीसेप्टिक्स और कीटाणुनाशक डाले जाते हैं जो बैक्टीरिया को मारने के लिए कारगर होते है।

9- Beauty Soap

ब्यूटी सोप में विभिन्न प्रकार की त्वचा के लिए  सामग्री और सुगंध होती है। ये विशेष तेल मिश्रण या ग्लिसरीन की के द्वारा बनाए जाते हैं| 

साबुन के लिए आवश्यक कच्चा माल (raw material needed for soap)

  1. सोप नुडल्स
  2. रंग
  3. परफ्यूम
  4. स्टोन पाउडर
  5. डोलोमाइट पाउडर
  6. सोडा पाउडर 
  7. एसिड घोल (Acid Slurry) 
  8. AOS (ALPHA OLEFIN SULPHONATE)
  9. सोडियम सिलिकेट 
  10. पॉलीमर 

साबुन बनाने के लिए जरुरी उपकरण (Equipment needed for soap making)

नायलॉन शीट: दस्ताने, मास्क, लोहे का या प्लास्टिक का मिक्सर,एक तराजू, एक साँचा, हाइड्रोमीटर (नमी मापने के लिए),प्लास्टिक की बाल्टी। ताड की गरी का तेल, कास्टिक सोडा , सोडा पाउडर, सोडियम सलफेट, इत्र, पानी, रंग इत्यादि। 

कच्चा माल कहाँ से खरीदें?

साबुन बनाने के लिए कच्चा माल के wholsale supplier आप https://www.justdial.com की मदद से खोज सकते हैं|

साबुन बनाने की मशीनों के नाम (Names of soap making machines)

  • Soap printing machine (कीमत लगभग 80,000 रुपए)
  • Soap cutting machine (कीमत लगभग 30,000 रुपए)
  • soap Mixer machine (कीमत लगभग 15,000 रुपए)
  • Soap saponification section (कीमत लगभग 150,000 रुपए)
  • Duplex vacuum plodder (कीमत लगभग 4000,00 लाख रुपए)

साबुन बनाने की मशीन कहाँ से खरीदें? (Where to buy soap making machines?)

इसे आप अनलाइन भी पता कर सकते हैं|

इसके लिए https://www.indiamart.com या https://www.tradeindia.com पर विज़िट करें|

साबुन बनाने की विधि (soap making method)

साबुन बनाने का तरीका 

इसके लिए कास्टिक सोडा को प्रयोग में लाने से पहले 24 या 48 घंटे पहले तैयार होने के लिए छोड़ दें|

आइये! जानते हैं कास्टिक सोडा को तैयार करने की विधि|

पहली विधि 

1- सबसे पहले कास्टिक सोडा में पानी मिलाना होता है इसका और पानी का अनुपात 1:2 होना चाहिए, अर्थात यदि 2- आपके पास 4 लीटर कास्टिक सोडा है तो, पानी की मात्रा 8 लीटर होनी चाहिए|

3- पानी में कास्टिक सोडा को हिला कर मिला दें|

4- इसके बाद उसको उसी अवस्था में 24 से 48 घंटे के लिए छोड़ दें|

इसके बाद इसकी इच्छानुसार आकार की बट्टियाँ काट लें।

दूसरी विधि 

1- सबसे पहले 100 किलोग्राम सोप नूडल्स को मिक्सर में डाल कर नूडल को टूटने के लिए छोड़ दें|

2- कुछ समय बाद इसमें स्टोन पाउडर डालें,यह स्टोन पाउडर नूडल्स की मात्रा पर निर्भर करता है| 100 किलोग्राम नूडल्स में लगभग 3 किलोग्राम स्टोन पाउडर डालना होता है|

3- स्टोन पाउडर देने के बाद साबुन में आवश्यकतानुसार परफ्यूम और रंग डालना होता है| उदाहरण: यदि आप चन्दन का साबुन बना रहे हैं, तो चन्दन का परफ्यूम और रंग डालें| 100 किलो स्टोन पाउडर में लगभग आधा किलो रंग और परफ्यूम डालना होता है|

4-स्टोन पाउडर और सोप नूडल्स को अच्छी प्रकार से मिल जाने पर इस मिश्रण को मिक्सर मशीन में डालें.

इस मशीन के द्वारा इस मिश्रण को और भी बारीक किया जाता है| 

अपने प्रोडक्ट को अच्छा बनाने के लिए आप इस मिश्रण को मशीन से 5 से 7 तक बारीक कर सकते हैं| इस दौरान लगभग एक लीटर पानी का भी इस्तेमाल करें.

5- पंद्रह मिनट के अंदर 100 किलो रॉमटेरियल की सहायता से 100 ग्राम वज़न की 1000 पीस साबुन बन कर तैयार हो जाती हैं|

6- इस मिश्रण को सोप प्रिंटिंग मशीन से गुज़ारने पर साबुन बन कर तैयार हो जाता है|

व्यापार के लिए लाइसेंस

1- Municipal Authority License लेना अनिवार्य है| 

2- Udyog Aadhar MSME में रजिस्टर्ड करना चाहिए, हालांकि यह अनिवार्य नहीं है परंतु इससे आपको ऋण और सब्सिडी प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।

एमएसएमई तथा लोन के बारे में अधिक जानने के लिए यह पोस्ट पढ़े:

(i) Business loan कैसे मिलेगा?

(ii) एमएसएमई क्या है? तथा MSME full form

3- BIS (Bureau of Indian Standards) certification भी अनिवार्य डॉक्यूमेंट नहीं है परंतु आपका बिजनेस बढ़ेगा तब आपको अवश्य ही लेना पड़ेगा|

4- ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन (Apply for Trademark for your brand name): इससे आपके प्रोडक्ट के नाम को कोई कॉपी नहीं कर पाएगा!

ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के बारे में अधिक जानने के लिए यह पोस्ट पढ़ें: Trademark registration कैसे होता है तथा कितनी फीस लगती है?

5- ISO (International Organization for Standardization) भी अनिवार्य डॉक्यूमेंट नहीं है|

6- जीएसटी रजिस्ट्रेशन (GST Registration): यदि आपके बिजनेस का दायरा इतना बड़ा है कि आप जीएसटी के दायरे में आते हैं तो आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है|

7- Registration of firm: साबुन विनिर्माण व्यवसाय के रुप में या तो एक प्रोपराइटरशिप कंपनी, पार्टनरशिप फर्म या फिर कंपनी के रूप में भी शुरु कर सकते हैं। 

यदि आप इस व्यवसाय को अकेले मालिक के रूप में शुरू कर रहे हैं, तो आपको अपनी फर्म को एक स्वामित्व के रूप में पंजीकृत करना होगा।

इनके बारे में अच्छी तरह जाने के लिए यह पोस्ट पढ़ें:

(i) Sole proprietorship क्या होती है?

(ii) पार्टनरशिप फर्म क्या होती है? इसे खोलने के फ़ायदे तथा नुकसान क्या होते हैं?

(iii) LLP: लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप फर्म क्या होती है?

(iv) Partnership deed क्या होती है?

(v) कंपनी क्या होती है?, भारत में कैसे खोले? तथा कंपनी तथा साझेदारी में क्या अंतर होता है?

(vi) वन पर्सन कंपनी क्या होती है तथा इसका लाभ कैसे लें?

8- इसके लिए Trade License लेना अनिवार्य है|

9- IEC code: यदि आप भविष्य में अपने प्रोडक्ट को अन्य देशों में निर्यात करने के इच्छुक हैं तो आपको आईईसी कोड (Import Export Code) लेना अनिवार्य है| 

एक्सपोर्ट के बारे में और अधिक जानकारी के लिए यह पोस्ट पढ़े: Export import business कैसे शुरू करें?

10- सेफ्टी को ध्यान में रखते  हुए आपको कुछ इंश्योरेंस पॉलिसी भी अवश्य ही करवा लेनी चाहिए| बीमा-किस्त का मूल्य बहुत अधिक नहीं होता|

अधिक जानने के लिए यह पोस्ट पढ़े: Fire insurance के फायदे, सिद्धांत तथा शर्तें क्या होती हैं?

पैकेजिंग

किसी भी प्रोडक्ट को बेचने के लिए पैकेजिंग का ध्यान रखना अति आवश्यक है| पैकेजिंग के दौरान रॉ मटेरियल से बने साबुन को soap printing machine की सहायता से अपने ब्रांड का नाम दिया जाता है|

इसके बाद अपने ब्रांड के प्रिंटेड काग़ज़ में पैक करना होता है|

इसी पैकेज को शहर के विभिन्न दुकानों में बेचा जाता है|

व्यापार के लिए मार्केटिंग

थोक मे बेचने के लिए शहर के बड़े किराना स्टोर्स से जाकर बात करें|

इन थोक की दुकानों में साबुन की काफी खपत होती है, क्योंकि इन्ही दुकानों से छोटी-छोटी दुकान वाले साबुन खरीदते हैं|

आप ऑन लाइन अपने व्यवसाय के लिए वेबसाईट बनाकर ग्राहक खोज सकते हैं|

अधिक जानने के लिए यह पोस्ट पढ़ें: 

Business के लिए website कैसे बनाये?

बिना website बनाये कैसे online business करें?

आवश्यक स्थान

इस व्यापार को करने के लिए बहुत अधिक स्थान की आवश्यकता नहीं है| इस व्यवसाय के लिए कम से कम 25 गज का स्थान चल जाएगा|

व्यापार बढ़ने पर आप इससे अधिक स्थान ले सकते हैं|

कुल लागत

वैसे तो किसी व्यापार में कितना भी पैसा आप लगा सकते हैं, किंतु यदि आप कम निवेश में इस व्यापार को शुरु करना चाहते हैं तो शुरुआत में आप लगभग 2 लाख रुपए से 2.5 लाख रुपए तक लगा सकते हैं|

कितना कमा सकते हैं? 

इस व्यवसाय से लगभग 1 लाख रुपए महीने तक की कमाई हो सकती है|

साबुन व्यापार के फायदे (Advantages of soap business)

1- लचीलापन 

आप व्यवसाय में जितना चाहें उतना समय लगा सकते हैं। यदि आपको काम करना पसंद है और आपके पास कुछ शुरुआती अनुभव है तो, आप कम लागत से शुरू कर सकते हैं|

2- घर से अपना व्यवसाय शुरू करने की योग्यता 

इस व्यवसाय शुरू करने के लिए दुकान या ऑफिस स्पेस होना जरूरी नहीं है। आप सब कुछ अपने घर से आराम से कर सकते हैं|

3- पुरस्कृत कार्य 

साबुन बनाने का व्यवसाय शुरू करना वास्तव में रिवार्ड मिलने का कार्य हो सकता है।

4- अपने खुद के मालिक

आप अपने व्यवसाय के सभी कार्यों का निर्णय स्वयं ले सकते|

साबुन व्यापार के नुकसान (Disadvantages of soap business)

1- प्रतिस्पर्धा 

इसमें प्रतिस्पर्धा बहुत अधिक है|, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप बाजार का विश्लेषण अवश्य करें और किस चीज के मांग कहां है?, यह समझने में अपना समय व्यतीत करें।

2- कम मार्जिन 

साबुन बनाने के व्यवसाय में प्रतिस्पर्धा होने के कारण मार्जिन कम हो जाता है|

3- केमिकल

केमिकल का इस्तेमाल होने के कारण काफी सावधानी रखनी पड़ती है| यदि मिश्रण का अनुपात गलत हो जाए तो पूरा लॉट खराब हो सकता है|

साबुन बनाने में सावधानियां (Precautions in making soap)

S. NO:सावधानियां
1.लाइ या कास्टिक सोडा एक क्षारीय रसायन (alkaline chemicals) है जो मानव शरीर के किसी भी खुले हिस्से पर रासायनिक जलन पैदा कर सकता है। पानी के साथ इसकी प्रतिक्रिया भी रासायनिक भाप (chemical vapor) उत्पन्न करती है जिसमें सांस नहीं लेना चाहिए|
2.सुरक्षात्मक यंत्रों का हमेशा इस्तेमाल करें| जैसे की चश्मा, सुरक्षात्मक दस्ताने और मुखौटा इत्यादि।
3.ऐसे कपड़े और जूते पहनें जिनसे त्वचा पूरी तरह से ढकी रहे।
4.यदि थोड़ा सा साबुन या लाइ अनैच्छिक रूप से त्वचा के किसी हिस्से तक पहुँच जाता है, तो प्रभावित त्वचा को तुरंत ठंडे पानी से धो लें।
5.पानी को लाइ के साथ मिलाने के लिए खुली जगह का इस्तेमाल करें| 
6.मास्क का हमेशा प्रयोग करें।
7.लाइ (ग्रेन्यूल्स) को पानी में डालें और कभी भी इसके विपरीत न डालें, क्योंकि इससे लाइ फट सकती है। 
8.गर्म पानी का उपयोग न करें|
9.साबुनीकरण प्रक्रिया के दौरान साबुन के घोल में तब तक लाइ जब तक होती है जब तक यह पूरी तरह बन ना जाए।
10.साबुन के घोल को हमेशा दस्तानों से ही मिलाएँ, यहां तक ​​कि ठोस अवस्था में भी, कम से कम 48 घंटे तक भी बिना दस्तानों के ना छुएं|
11.साबुन उत्पादन के दौरान जानवरों और बच्चों को दूर रखें|
12.एल्युमीनियम या सिलिकॉन के अलावा किसी भी प्रकार के प्लास्टिक के बर्तनों का उपयोग न करें, क्योंकि वे लाइ के साथ प्रतिक्रिया करके साबुन को दूषित/खराब कर सकते हैं।
साबुन बनाने में सावधानियां

साथ ही यह भी अवश्य देखें:

बिजनेस कैसे शुरु करें? (How to start a business)

Pillow cover making business idea

Papad Making Business Idea

Photocopy Shop Business Idea

यदि आपको यह पोस्ट “Soap Making Business Idea: कम खर्चे के साथ साबुन बनाने का बिज़नेस शुरू करे और कमाए लाखो रुपए” पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर अवश्य करें|

बिजनेस आइडियास से संबंधित ऐसी ही अगली पोस्ट में फिर मिलूँगा, तब तक के लिए नमस्कार

धन्यवाद

Previous articlePillow cover making business idea: कम निवेश में शुरु करें पिलो कवर का बिज़नेस, होगी तगड़ी कमाई!
Next articleCutlery Manufacturing Business: कम लागत में ये बिजनेस शुरू करें और लाखों रुपए कमाएं, ऐसे शुरू करें
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!