शेयर तथा डिबेन्चर में अंतर | Difference between share and debenture

627

दोस्तों,  इस पोस्ट में आप  शेयर तथा डिबेंचर में क्या अंतर होता है? (difference between share and debenture) को समझेंगे|

जैसा कि आपने पिछली पोस्ट में पढ़ा कि शेयर क्या होता है? तथा डिबेंचर क्या होता है? 

शेयर तथा डिबेंचर को अच्छी तरह समझने के लिए आपको डिबेंचर और शेयर के बीच अंतर (Difference between debenture and share) को समझना बहुत ही आवश्यक है|

इक्विटी शेयर और डिबेंचर के बीच अंतर (Difference between equity share and debenture) समझने के बाद आपको कंपनी के बारे में भी थोड़ा सा समझ आ जाएगा|

तो चलिए दोस्तों!! शुरू करते हैं आज का यह टॉपिक – शेयर तथा डिबेंचर में क्या अंतर होता है? (difference between share and debenture

Share vs Debenture

शेयर तथा डिबेंचर के बीच अंतर समझने के लिए हम एक टेबल का इस्तेमाल करते हैं| 

सबसे पहले हम शेयर तथा डिबेंचर के बीच स्वभाव में क्या अंतर होता है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
1. स्वभाव/Nature) इसमें दिया हुआ फंड एक प्रकार से ऑनर फंड होता है|  इस प्रकार से दिया हुआ धन आपको कंपनी का मालिक बना सकता है| इसके द्वारा दिए गए धन को उधार लिए हुए धन (Borrowed Fund) की तरह गिना जाता है|  बौरोड फंड में आप एक ऋण दाता की तरह व्यवहार करते हो|  इस तरह के दिए हुए धन के द्वारा आप कभी भी कंपनी के मालिक नहीं बन सकते| 
Difference between share and debenture

शेयर तथा डिबेंचर में शेयर होल्डर तथा डिबेंचर होल्डर की स्थिति क्या होती है?  

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
2. स्थिति (Status)शेयर होल्डर को कंपनी के मालिक के रूप में जाना जाता है| डिबेंचर होल्डर को कंपनी के ऋणदाता के रूप में जाना जाता है| 
Difference between share and debenture

कंपनी में शेयर तथा डिबेंचर होल्डर में से किसको मतदान का अधिकार होता है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
3. मतदान अधिकार (Voting Rights)शेयर होल्डर को मतदान का अधिकार दिया जाता है|  शेयर होल्डर कंपनी के मैनेजमेंट को प्रभावित कर सकता है| डिबेंचर होल्डर को मतदान का अधिकार नहीं दिया जाता|  यह किसी प्रकार भी कंपनी के मैनेजमेंट को प्रभावित नहीं कर सकता| 
Difference between debenture and share

कंपनी पर शेयर होल्डर का अधिकार होता है या डिबेंचर होल्डर का अधिकार होता है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
4. नियंत्रण (Control)कंपनी का नियंत्रण इक्विटी शेयर होल्डर्स के हाथों में होता है| डिबेंचर होल्डर के हाथों में कंपनी का कोई नियंत्रण नहीं रहता है| 
Difference between debenture and share

शेयर तथा डिबेंचर में प्रतिफल पाने का अधिकार किसको होता है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
5. प्रतिफल का अधिकार (Rights to return)इक्विटी शेयर होल्डर्स को प्रॉफिट तभी मिलता है जब कंपनी को फायदा होता है|कंपनी को डिबेंचर होल्डर को एक निश्चित रकम देनी ही पड़ेगी| 
Debenture Vs Share

शेयर तथा डिबेंचर में सुरक्षा की भावना किसमें अधिक पाई जाती है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
6. सुरक्षा (Security) शेयर के विरुद्ध कोई भी प्रॉपर्टी गिरवी नहीं रखी जाती| इसलिए  इनमें सुरक्षा की भावना कम होती है| यदि कंपनी प्रॉफिट में है तो शेयर होल्डर भी प्रॉफिट में होता है|  यदि कंपनी घाटे में है तो शेयर होल्डर भी घाटे में होता है| इसमें कंपनी को कुछ गिरवी रखना पड़ता है|  यदि कंपनी पैसा वापस देने की स्थिति में नहीं रहती तो इस संपत्ति को बेच कर नुकसान की भरपाई की जाती है|  इस प्रकार इन में सुरक्षा की भावना अधिक होती है| 
Debenture Vs Share

शेयर तथा डिबेंचर में पैसा कब वापस मिलता है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
7. प्रतिदान (Redemption)इक्विटी शेयर  का पैसा पूरी जिंदगी में कभी वापस नहीं मिलता| वह पैसा केवल तभी मिल सकता है, जब कंपनी बंद हो रही हो| प्रेफरेंस शेयर में यदि रिडीमेबल शेयर लिया गया है तभी आप पैसा वापस ले सकते हो| इनमें एक निश्चित तारीख के बाद पैसा वापस पाया जाता है| कंपनियां डिबेंचर को वापस ले लेती हैं तथा डिबेंचर होल्डर को उसकी तय रकम दे देती हैं| 
Share Vs Debenture

शेयर तथा डिबेंचर में से किसमें जोखिम ज्यादा है? 

S.No.अंतर बिन्दु शेयर डिबेन्चर 
8.जोखिम (Risk)शेयर होल्डर्स को नुकसान उठाने वालों की कतार में सबसे पहले रखा जाता है| डिबेंचर होल्डर्स को नुकसान का जोखिम बहुत कम होता है| कम जोखिम के कारण ही डिबेंचर होल्डर को एक तय  इनकम मिल जाती है| 
Share Vs Debenture

निष्कर्ष

इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आपको डिबेन्चर तथा शेयर के बीच का फर्क अच्छी तरह मालूम चल गया होगा| 

अब मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि यदि आप रिस्क नहीं लेना चाहते और एक फिक्स्ड इनकम चाहते हैं तो आपको Debenture में पैसा लगाना चाहिए|

यदि आप बिजनेस में रिस्क लेना चाहते हैं और आपको शेयर्स के बारे में अच्छी जानकारी है तो आप शेयर्स में इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए|

साथ ही यह भी देखें:

E-Business क्या होता है?

ई बिजनेस की सीमाएं तथा नुकसान क्या हैं?

E-business के क्या फायदे होते हैं?

Scope of e business ई व्यवसाय का दायरा कितना है?

यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो कृपया इसे शेयर अवश्य करें|

 धन्यवाद

Previous articleबॉन्ड क्या होता है? | Difference between bond and debenture
Next articleShare capital क्या होती है? | शेयर कैपिटल के सभी प्रकार के बारे में जानें
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!