Share capital क्या होती है? | शेयर कैपिटल के सभी प्रकार के बारे में जानें

227

इस पोस्ट में आप जानेंगे कि Share capital क्या होती है? तथा शेयर कैपिटल के प्रकार क्या-क्या है? 

तो चलिए दोस्तों, शुरू करते हैं! 

शेयर कैपिटल क्या होती है? (What is share capital)

शेयर कैपिटल को समझने से पहले आपको यह समझना आवश्यक है कि आखिर “शेयर होता क्या है?” इसके बारें में जानना आवश्यक है|

इसके उपरांत आपको “कैपिटल” के बारे में समझना पड़ेगा|

अब आप “शेयर कैपिटल होता क्या है?” इसे आसानी से समझ जाएंगे!

जब भी हम किसी कंपनी या बिज़नेस के संदर्भ में जब हम बात करते हैं तब  हमें अक्सर “कैपिटल” शब्द सुनाई देता है| 

कैपिटल से अभिप्राय होता है- पूंजी, रकम, धन राशि 

Share capital meaning in Hindi: “शेयर पूंजी, अंश पूंजी”

कंपनी कैपिटल को हम दो हिस्सों में बांट लेते हैं|

1-  शेयर द्वारा जुटाई गई धनराशि| 

2-  कर्ज द्वारा जुटाई गई धनराशि| 

शेयर

कंपनी में शेयर कैपिटल दो प्रकार की होती है|

1-  इक्विटी शेयर तथा प्रेफरेंस शेयर

नोट:- इक्विटी शेयर किसी भी कंपनी के लिए परमानेंट कैपिटल होती है|

कर्ज

 कंपनी द्वारा निम्न प्रकार से कर्ज द्वारा धनराशि जुटाई जाती है|

1- डिबेंचर द्वारा 

2- डिपॉजिट द्वारा

3- बॉन्ड द्वारा

4- लोन द्वारा 

आप समझ गए होंगे कि हम कंपनी की पूँजी,रकम या धनराशि के बारे में शेयर कैपिटल में बात करेंगे| 

शेयर कैपिटल की परिभाषा– शेयर कैपिटल को सामान्य भाषा में समझने के लिए आपको यह जानना चाहिए की शेयर कैपिटल वह धन राशि होती है जो कंपनी द्वारा अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए शेयर द्वारा इकट्ठी की जाती है

नोट:- कंपनी अधिनियम 2013 में सेक्शन 43 से सेक्शन 70 तक शेयर के प्रावधान दिए गए हैं|

चलिए!  दोस्तों, Share capital और अच्छी तरह समझने के लिए हमें और भी कई चीजें समझनी पड़ेंगी  

नोट:- लोग शेयर द्वारा कंपनी में पैसा इसलिए लगाते हैं क्योंकि कंपनी Perpetual succession के सिद्धांत पर चलती है| 

इक्विटी शेयर कैपिटल क्या होती है?

 आपके मन में यह प्रश्न आना अनिवार्य है कि  “इक्विटी शेयर कैपिटल क्या होती है?” कंपनी के द्वारा वह धन जो इक्विटी शेयर के माध्यम से इकट्ठा किया गया है तथा जिसको केवल कंपनी को बंद होने के समय ही वापस दिया जाना होता है| वह इक्विटी शेयर कैपिटल कहलाती है|

प्रेफरेंस शेयर कैपिटल क्या होती है?

इक्विटी शेयर कैपिटल क्या होती है? यह जान लेने के बाद अब आपके मन में दूसरा प्रश्न आ रहा होगा कि “प्रेफरेंस शेयर कैपिटल क्या होती है?”

जैसा किसके नाम से ही स्पष्ट हो रहा है प्रेफरेंस यानी कि प्राथमिकता|

 इसका अर्थ यह है कि इसमें शेयर धारक को प्राथमिकता के आधार पर पैसा दिया जाता है| 

शेयर प्रतिफल 

प्रतिफल का अर्थ होता है बदले में कुछ देना| 

कंपनी के संदर्भ में यदि हम बात करें कि शेयर प्रतिफल किस प्रकार दिया जाता है? तो

कंपनी द्वारा शेयर प्रतिफल डिविडेंड के रूप में दिया जाता है|

आपको शेयर कैपिटल के बारे में अवश्य ही पता होना चाहिए|

चाहे आप कोई एक्सपोर्ट व्यापार करते हो या निम्न में से कोई सी भी कंपनी चला रहे हो 

कर्ज प्रतिफल 

कर्ज का प्रतिफल कंपनी द्वारा ब्याज के रूप में दिया जाता है| 

कंपनी द्वारा शेयर कैपिटल किस प्रकार जुटाई जाती है?

कोई भी कंपनी पैसा इकट्ठा करने से पहले यह हिसाब लगाती है कि उसे वास्तव में कितने धन की आवश्यकता है?  तथा यह धन  किस प्रकार से इकट्ठा किया जाए?

उदाहरण के लिए किसी कंपनी को 20 करोड़ रुपए की धनराशि की आवश्यकता है| 

अब यह समझना सामान्य सी बात है कि इतनी बड़ी रकम एक ही व्यक्ति से लेने के मुकाबले बहुत सारे व्यक्ति से लेने में आसानी होगी| 

उदाहरण

अब कंपनी द्वारा इस 20 करोड़ रुपए की धनराशि को हिस्सों में बांट दिया जाता है| 

कंपनी द्वारा एक हिस्से (Single Unit) की मिनिमम राशि ₹20 रख दी जाती है| 

यह राशि किसी भी शहर के फ्रंट पर लिख दी जाती है|  इस अंकित राशि को फेस वैल्यू भी कहते हैं| 

इसे आप नॉमिनल वैल्यू या Face value कह सकते हैं| 

यानी की 20 करोड़ रुपए की धनराशि इकट्ठा करने के लिए कंपनी को एक करोड़ यूनिट बेचने पड़ेंगे या आप यह भी कह सकते हैं कि एक करोड़ पार्ट बेचने पड़ेंगे|

यह यूनिट तथा पार्ट इस 20 करोड़ रुपए की धनराशि का एक छोटा सा हिस्सा है|

हिस्से को हम शेयर भी कह सकते हैं| 

इसलिए इसका नाम शेयर रख दिया गया|

 शेयर जारी (issue of shares) करने की भी एक प्रक्रिया होती है|  

शेयर कैपिटल कितने प्रकार की होती हैं?: Share capitals types

शेयर कैपिटल 7 प्रकार की होती हैं| 

  1. Authorised capital

ऑथराइज्ड कैपिटल को 3 नामों से जाना जाता है – Authorized capital/Nominal capital/Registered capital

जब कोई कंपनी बनती है उस दौरान 3 डाक्यूमेंट्स बनाए जाते हैं|

1- मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन (MoA) 

2- आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन (AoA) 

3- प्रस्पेक्टस (Prospectus) 

Authorised capital वह अधिकतम कैपिटल होती है जिसे मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन में लिखा जाता है| इसे मैक्सिमम कैपिटल के नाम से भी जाना जाता है|  इसे कंपनी जिंदगी भर स्थापित किए रहती है| 

यह कंपनी के मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन में लिखी होती है| इसे लिखने के समय कंपनी द्वारा भविष्य की परियोजनाओं को ध्यान में रखकर बहुत ही ध्यान पूर्वक लिखा जाता है|

इसे ध्यान पूर्वक लिखने का कारण यह है कि इस पर ROC को एक निश्चित प्रतिशत के अनुसार फीस दी जाती है| 

  1. Issued capital

ऑथराइज्ड कैपिटल का वह हिस्सा जो पब्लिक को सदस्यता लेने के लिए जारी किया जाता है उसे Issued capital कहते हैं|

  1. Subscribed capital

लोगों द्वारा सदस्यता लेने के लिए जितनी कैपिटल के लिए आवेदन किए जाते हैं उसे सब्सक्राइब कैपिटल कहते हैं| 

नोट:- SEBI रुल: कंपनी जितने कैपिटल सदस्यों के लिए जारी करती है उसका 90% हिस्सा सदस्यों द्वारा लेने के लिए तैयार होना चाहिए अन्यथा सेबी की गाइडलाइन के अनुसार सारी रकम सब्सक्राइबर्स को वापस करनी पड़ेगी| 

  1. Called – up capital

कंपनी द्वारा  पब्लिक से पैसा किस्तों में लिया जाता है| 

जैसे की – 1- एप्लीकेशन 2- अलॉटमेंट 3- फर्स्ट कॉल 4- फाइनल कॉल 

मान लीजिए कंपनी ने ₹20 का शेयर की कीमत ₹5 के 4 किस्तों में बांट दिया| 

इसमें  द्वारा जब कंपनी की सदस्यता ली जाती है तब एप्लीकेशन के रूप में पहली किस्त चली जाती है| 

इसके बाद अलॉटमेंट या फर्स्ट कॉल द्वारा कंपनी  धनराशि की मांग करती है| 

यानी-  Issued capital या Subscribed capital कब है हिस्सा जो कंपनी द्वारा शेयर होल्डर से मांगा जाता है उसे Called – up capital  कहते हैं|

  1. Paid – up capital

Called – up capital का वह हिस्सा जो शेयर होल्डर तो द्वारा दे दिया गया है उसे Paid – up capital कहते हैं|

  1. Uncalled capital

सब्सक्राइब कैपिटल का वह हिस्सा जो कंपनी द्वारा मांगा नहीं गया है उसे Uncalled capital कहते हैं|  

  1. Reserve capital

यह वह धन राशि होती है जो कंपनी के पास जमा रहती है|  इसे केवल कंपनी के बंद होने के समय ही प्राप्त किया जा सकता है| 

FAQs: शेयर कैपिटल

कंपनी में शेयर कितने प्रकार की होती है? 

कंपनी में दो प्रकार की शेयर होती है 1-  इक्विटी शेयर 2-  प्रेफरेंस शेयर

शेयर कैपिटल कितने प्रकार की होती है?

शेयर कैपिटल सात प्रकार की होती है| 1- Authorized capital 2- Issued capital 3-Subscribed capital 4-Called – up capital 5- Paid – up capital 6- Uncalled capital 7-Reserve capital

किस प्रकार के शेयर से आप अपनी मर्जी से पैसा नहीं निकाल सकते?

इक्विटी शेयर में आप अपना पैसा जब तक कंपनी बंद नहीं हो जाती तब तक नहीं ले सकते|

शेयर कैपिटल के अलावा और किस प्रकार का धन कंपनी के पास होता है?

1- डिबेंचर  2- डिपॉजिट 3- बॉन्ड 4- लोन 

साथ ही यह भी अवश्य पढ़ें:

E-business के क्या फायदे होते हैं?

ज्वाइंट स्टॉक कंपनी क्या होती है?

सोल प्रोपराइटरशिप क्या होती है?

कंपनी को बंद करने का प्रोसीजर

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो कृपया इसे अधिक से अधिक मात्रा में शेयर अवश्य करें|

धन्यवाद| 

Previous articleशेयर तथा डिबेन्चर में अंतर | Difference between share and debenture
Next articleशेयर ज़ब्ती क्या होती है? | Forfeiture of shares meaning & definition in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!