Promissory note क्या होता है? | प्रॉमिसरी नोट की परिभाषा, सम्मिलित पार्टियां तथा प्रकार

239

इस पोस्ट के माध्यम से आप Promissory note के बारे में जानेंगे| इसमें आप जानेंगे कि प्रॉमिसरी नोट किस प्रकार कार्य करता है? प्रॉमिसरी नोट में क्या-क्या डिटेल्स लिखी जानी चाहिए? तथा प्रॉमिसरी नोट का कंसेप्ट क्या होता है? इन सब विषयों के बारे में जानेंगे| 

यदि आप बिज़नेस करते हैं तो आपको बैंक गारंटी, जीएसटी calculation, बिल discounting, बिल एक्सचेंज की तरह ही Promissory Note के बारे में अवश्य पता होना चाहिए|

प्रामिसरी नोट क्या होता है? | What is Promissory note in Hindi?

Promissory note एक तरह का इनफॉर्मल लोन होता है| इसे आप इनफॉर्मल लोन का डॉक्यूमेंट भी कह सकते हैं| 

सामान्यतः यह ग्राहक को उधार माल लेने में मदद करता है| इसके द्वारा ग्राहक को एक निश्चित समय के लिए उधार माल मिल जाता है, जिसकी वह एक निश्चित समय सीमा की तारीख पर पेमेंट कर देता है| 

इसका उपयोग आप अपने किसी दोस्त को या किसी रिश्तेदार को नगद पैसा उधार देने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं|

यह कानूनी रूप से मान्य होता है| 

Promissory note meaning in Hindi: “वचन पत्र, प्रतिज्ञापत्र, वचनपत्र, इकरार-नामा, प्रोनोट, रुक्का, वचन-पत्र, वचनपत्र

प्रामिसरी नोट का अर्थ: सामान्य भाषा में यदि मैं कहूं तो इसमें Buyer द्वारा Seller को यह वादा किया जाता है कि “मैंने आपसे इतने रुपए का माल लिया है तथा मैं इस निश्चित राशि को आपको इस निश्चित तारीख को दे दूंगा या फिर आप जब भी पैसा मांगेंगे तो मैं आपको पैसा वापस कर दूंगा|” इस तरह के वित्तीय प्रपत्र (financial instruments) को प्रॉमिसरी नोट कहा जाता है| 

  • यह एक तरीके का अनौपचारिक ऋण (informal loan) होता है| 
  • इसमें उधार देने वाला – Seller/Creditor /Drawee कहलाता है|
  • उधार लेने वाला – Buyer/Debtor/ Drawer कहलाता है|
  • इसमें उधार लेने वाला एक प्रॉमिसरी नोट उधार देने वाले के पक्ष में जारी करता है

प्रॉमिसरी नोट की परिभाषा

  • इसे Negotiable instruments act, 1881 के सेक्शन 4 में परिभाषित किया गया है| 
  • यह एक  प्रकार का वित्तीय लेख-पत्र होता है जो कि लिखित में ही मान्य है| इसमें पैसा वापस करने के एवज में कोई नियम एवं शर्तें होनी हीं चाहिए| इस पर जारी करने वाले के हस्ताक्षर होने चाहिए- Debtor/Drawer/Buyer के| इसमें एक निश्चित राशि लिखी होनी चाहिए तथा साथ ही इसमें भुगतान पाने वाले का नाम भी होना चाहिए| यह लाभ पाने वाला व्यक्ति  उधार देने वाला या कोई अन्य तीसरा भी हो सकता है| यदि उसमें यह पॉइंट लिखा है कि जिसके पास भी प्रॉमिसरी नोट होगा वह  भुगतान पाने का हकदार है तो इस स्थिति में जिसके पास भी  यह प्रॉमिससरी नोट होगा तो वह  भुगतान पाने का अधिकारी है|

इसमें पैसा ना लौट आने की स्थिति में किसी भी प्रकार की जब्ती नहीं की जा सकती ना ही इसमें कुछ गिरवी रखा जाता है इसीलिए यह एक लोन एग्रीमेंट से भिन्न होता है| 

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: बिल डिस्काउंटिंग क्या होती है? इसके नियम, शर्तें क्या होती हैं?

Promissory note में कौन सी पार्टियां सम्मिलित होती हैं? 

  • जारी करने वाला- Issuer/Promisor/Maker/Debtor/Payer/Drawer
  • लाभ पाने वाला- Acceptor/Pomisee/Lender/Payee/Drawee
  • या कोई तीसरा अनुमोदित पक्ष भी हो सकता है|

प्रॉमिसरी नोट के प्रकार | Types of promissory note

  • On Demand Promissory note तथा Usance Promissory note

On Demand Promissory note का अर्थ यह है कि जब भी उधार देने वाला अपना उधार वापस मांगे तब तथा Usance Promissory note मैं कोई निश्चित तारीख खुली हुई होती है|

  • ब्याज रहित तथा ब्याज सहित (interest bearing and interest free)
  • Single or joint borrower

इसमें एक से ज्यादा पक्ष भी सम्मिलित हो सकते हैं| 

  • Negotiable or non negotiable 

यदि इसमें beneficiary का नाम मेंशन है तो केवल उसको ही पेमेंट होती है यदि beneficiaryका नाम मेंशन नहीं होता तो किसी थर्ड पर्सन को भी beneficiary बनाया जा सकता है| 

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट का अर्थ क्या होता है?

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट में नेगोशिएबल तथा इंस्ट्रूमेंट का अर्थ होता है|

Negotiable instruments act में Negotiable का अर्थ: “हस्तांतरणीय (transferable)”

Negotiable instruments act में Instruments का अर्थ: “कोई ऐसा पेपर या ऑब्जेक्ट जिसकी आधार पर ट्रांसफरेबिलिटी की जा सकती है|” 

Negotiable instruments की परिभाषा: “ऐसे पेपर तथा वे डाक्यूमेंट्स जो ट्रांसफरेबल है तथा अधिकार देते हैं पैसे को कलेक्ट करने का वह नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट कहलाते हैं|”

कितने प्रकार के Negotiable instruments होते हैं?

नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट तीन प्रकार के होते हैं| 

  1. Bills of exchange: इसे Bills भी कहते हैं| इसे B/E भी लिख सकते हैं|
  2. Promissory Note: इसे Pro-Note भी कहते हैं|
  3. Cheque

Negotiable instruments act का इतिहास 

Negotiable instruments act 1/March/1882 को प्रभाव में आया था| English common law द्वारा नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट बना था|

व्यापार (Trade) तथा वाणिज्य (Commerce) को सुगम बनाने के लिए यह एक्ट बनाया गया था| इसे कितनी भी बार नेगोशिएट किया जा सकता है|

यानी कि यदि किसी नेगोशिएट इंस्ट्रूमेंट की मैच्योरिटी 3 महीने की है तो उसे इस 3 महीने के दौरान कितनी बार भी ट्रांसफर किया जा सकता है| 

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: बैंक गारंटी क्या होती है? बहुत ही आसान तरीके से समझें

Promissory Note format (with interest)

कानूनी तत्व 

  • यह लिखित में होना चाहिए| मौखिक एग्रीमेंट  मान्य नहीं होगा| 
  • पैसा वापस देने के लिए  कोई भी शर्त नहीं होनी चाहिए जैसे कि:- “मेरी पेमेंट वहां से आएगी तब मैं दूंगा|” इत्यादि
  • जारी करने वाले व्यक्ति का नाम (Drawer) अवश्य होना चाहिए| Promissory note को कंपनियां जारी नहीं कर सकती|
  • निश्चित राशि लिखी होनी चाहिए कि कितनी राशि देनी है|
  • यदि ब्याज लिया जाना है तो ब्याज का प्रतिशत अवश्य लिखा होना चाहिए| 
  • लाभ पाने वाले व्यक्ति (Drawee)  का नाम ठीक लिखा होना चाहिए| 
  • Promissory note जारी करने की तारीख तथा स्थान अवश्य लिखा होना चाहिए| 
  • Maturity Date साफ़ तौर पर लिखी होनी चाहिए| 
  • इसको स्टांप करना आवश्यक है| इसके लिए आप ₹1 का रिवेन्यू स्टैंप लगा सकते हैं स्टांप पेपर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं|
  • जारी करने वाले व्यक्ति (Drawer) के हस्ताक्षर अनिवार्य हैं| 
  • पैसा उधार ना पाने की स्थिति में आप लीगल केस कर सकते हैं| लीगल केस आप भुगतान की तारीख से लेकर 3 साल के अंदर और यदि भुगतान की तारीख नहीं लिखी हुई है तो जब आपने अपना पैसा वापस मांगा जब से लेकर 3 साल के अंदर आप केस कर सकते हैं| 

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: लैटर ऑफ क्रेडिट क्या होता है? तथा इसके फायदे क्या होते हैं?

लेखक का सुझाव-

Promissory note में आपको एक रसीद भी साइन करा लेनी चाहिए| 

इससे आपका कानूनी पक्ष और भी ज्यादा मजबूत हो जाता है क्योंकि इसमें दो गवाहों  की उपस्थिति भी दर्ज हो जाती है|

Receipt Format

FAQs: Promissory note

Promissory note क्या होता है?

प्रॉमिसरी नोट पैसा या माल उधार देने के लिए इस्तेमाल होता है| इसके द्वारा उधार देने वाला अपना उधार वसूल सकता है क्योंकि यह एक लीगल डाक्यूमेंट्स होता है|

Promissory note के साथ आपको एक और आवश्यक डाक्यूमेंट्स क्या लगाना चाहिए?

प्रॉमिसरी नोट के साथ आपको लेनदेन की एक रसीद भी लगा देनी चाहिए|

क्या कंपनियां Promissory note जारी कर सकती हैं?

जी नहीं,  कंपनियां प्रॉमिसरी नोट का इस्तेमाल नहीं कर सकती|

Promissory note पर किसके साइन होते हैं?

उधार लेने वाले के साइन होते हैं|

Promissory note को हिंदी में क्या कहते हैं?

प्रॉमिसरी नोट को हिंदी में वचन पत्र कहते हैं|

Promissory note कितने प्रकार के होते हैं?

On-Demand Promissory note तथा Usance Promissory note: Single or joint borrower, Negotiable or non-negotiable 

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अधिक से अधिक मात्रा में शेयर अवश्य करें साथ ही साथ नए-नए पोस्ट के लिए ब्लॉग को सब्सक्राइब अवश्य कर लें|

 धन्यवाद 

Previous articleBill Discounting क्या होती है? | बिल डिस्काउंटिंग की क्या नियम तथा शर्तें होती हैं?
Next articleTransshipment क्या होता है? | Trans shipping तथा Liner में क्या अंतर होता है?
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!