पेपर प्लेट बनाने का बिजनेस कैसे शुरु करें | Paper Plate Manufacturing business

785

पेपर प्लेट (Dona-Pattal) बिजनेस का भविष्य क्या है? 

Paper plate का बिजनेस आज के समय में एक टॉप ग्रोइंग बिजनेस बन गया है| आज के आधुनिक समाज में लोग अक्सर पार्टियों में इन प्लेटस का ही इस्तेमाल करते हैं| सामान्य भाषा में हम इन्हें “दोने-पत्तल” कहते हैं| 

जब से प्लास्टिक बैन हुई है तब से तो पेपर प्लेट व्यवसाय में बहुत तेजी से तरक्की हुई है| 

एक तो इनके गिर के टूटने की समस्या नहीं होती दूसरा इन्हें धोने के झंझट से छुटकारा मिल जाता है|

इन्हीं  वजह से दोना पत्तल व्यवसाय बिजनेस की दुनिया में एक अपना खास मुकाम बना चुका है|

पेपर प्लेट मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के द्वारा आप काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं| इस पोस्ट में आप Paper plate व्यवसाय के बारे में जानेंगे|

तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं!!

Paper Plate बनाने के लिए क्या कच्चा माल चाहिए?

चलिए! सबसे पहले हम यह जानते हैं कि Paper plate बिजनेस में क्या-क्या रॉ मैटेरियल चाहिए? 

  • Laminated paper blinds
  • Printed laminated paper blinds
  • Sunmica paper blind

Paper plate बनाने के लिए कौन सी machine ठीक रहेगी?

आइए! यह भी जान लेते हैं कि Paper plate बनाने के लिए कौन सी मशीन ठीक रहेगी| मेरे अनुसार एक ऑटोमेटिक पेपर प्लेट बनाने की मशीन सबसे उपयुक्त रहेगी| इससे उत्पादन की क्षमता बढ़ जाती है| जब उत्पादन बढ़ जाता है तो बचत भी बढ़ जाती है! 

  • Automatic paper plate making machine
  • Different dies for different shapes of plates (अलग-अलग प्रकार की प्लेटों के साँचो को बनाने के लिए अलग-अलग प्रकार की डाई की आवश्यकता होगी) 

यह मशीनरी लगभग एक लाख रुपए की राशि के अंदर आ जाएगी| लगभग मैंने इसलिए कहा है क्योंकि अलग-अलग मशीन का क्वालिटी के हिसाब से अलग-अलग प्राइस हो जाता है| 

इस मशीन के द्वारा कम से कम 11000 हजार पीस तथा अधिकतम 51 हजार पीस तैयार किए जा सकते हैं| 

टिप्स

मशीन खरीदने से पहले आपको मार्केट की स्टडी अवश्य करनी चाहिए| आपको दुकानों पर जाकर यह देखना है कि किस प्रकार के दोने पत्तल दुकानदार अधिक मात्रा में रखते हैं?  किस प्रकार का साइज अधिक मात्रा में चलता है? 

इससे आपको यह पता चल जाएगा कि आपको क्या बनाना है? आप फिर उसी हिसाब से अपनी पेपर प्लेट बनाने की मशीन खरीदेंगे|

जैसे कि:  यदि 6 इंच का दोना ज्यादा बिकता है, 8 इंच साइज की प्लेट ज्यादा बिकती है| तो आपको छोटे साइज की पेपर प्लेट तथा दोने बनाने की मशीन खरीदनी चाहिए|

यदि 11 से 12 इंच के प्लेट कि डिमांड है तो आपको इस साइज के अनुसार मशीन खरीदनी चाहिए|

मशीन के प्रकार (Machine Types)

अब बात करते हैं कि आप को किस प्रकार की मशीन लेनी चाहिए?

यदि आपको केवल 8 इंच तक का साइज ही निकालना है तो आपके लिए डबल डाई की मशीन उपयुक्त रहेगी| यदि इससे ऊपर का साइज आपको बनाना है तो उसके लिए आपको सिंगल डाई की मशीन ही लेनी चाहिए| 

कारण: डाई की वजन की अधिकता के कारण मोटर लोड नहीं ले पाती|

साथ ही यह भी अवश्य पढ़ें: ग्राहक को संतुष्ट करने के आसान तरीके

पेपर प्लेट कितने प्रकार की होती है?

पेपर प्लेट इंडस्ट्री में इस वक्त पांच से सात प्रकार की प्लेट्स की डिमांड है| इस समय सबसे ज्यादा डिमांड में आने वाली Paper plate का नाम buffet paper plate है| इस प्लेट की खासियत यह होती है कि यह बहुत सख्त होती है| इस कारण से आप इस प्लेट से खड़े होकर आराम से खाना खा सकते हैं| 

यह प्लेट विभिन्न प्रकार के रंगों में भी उपलब्ध होती है जैसे कि सनमाइका, ग्रीन कलर, केला पत्ता प्लेट इत्यादि 

इन प्लेटो की हार्डनेस की वजह से इनके द्वारा आराम से एक हाथ में लेकर खाना खाया जा सकता है| 

पेपर प्लेट का व्यवसाय करने के लिए कितनी जगह की जरुरत होगी?

जब भी हम कोई व्यवसाय करना चाहते हैं| तो हमारे दिमाग में आने वाले सामान्य प्रश्नों में सबसे मुख्य प्रश्न होता है कि “किसी भी व्यवसाय को करने के लिए कितनी जगह की जरूरत पड़ेगी?”

 चलिए! इस बात का जवाब भी मैं आपको दे देता हूं|

यदि आप पूरा प्लांट लगाना चाहते हैं तो आपको 900- 1000 स्क्वायर फीट की जरूरत होगी| यदि हम गज में बात करें तो 100 से सवा सौ गज| 

अरे! ठहरिए

यह तो प्लांट लगाने के विषय में थी परंतु यदि आप एक मशीन के साथ शुरू करना चाहते हैं तो आपको मात्र 250 स्क्वायर फीट से 400  स्क्वायर फीट की जरूरत होगी|  यदि गज में बात करें तो  लगभग 25 गज से 50 गज के बीच| 

पेपर प्लेट/दोना-पत्तल बनाने की क्या प्रक्रिया है?

चलिए! अब आप बात करते हैं दोना पत्तल को बनाने की प्रक्रिया के बारे में|

जिस भी रॉ मटेरियल (कच्ची सामग्री)  की प्लेट आप बनाना चाहते हैं उस मटेरियल के पेपर रोल को आप Paper plate बनाने वाली मशीन के इनपुट सेक्शन में फिट कर दें| 

फिर पेपर रोल एक के बाद एक प्लेट बनाने वाली मशीन के पावर यूनिट में जाते हैं| इस पावर यूनिट में अलग अलग टाइप के हिसाब से अलग-अलग सांचो की प्लेट तैयार हो जाती है| 

तैयार पेपर प्लेट मशीन के दूसरे हिस्से से बाहर निकल जाती है|

अब आप इन पेपर प्लेट को एक के ऊपर एक रखकर इनकी एक गड्डी बना लीजिए| इससे बहुत थोड़ी सी जगह में बहुत सारी प्लेट  को रखा जा सकता है|

अब यह तैयार प्लेट मार्केट में बिकने के लिए बिल्कुल तैयार है| बस आपको इनकी सही ढंग से पैकिंग करनी है| पैकिंग के लिए आपको अलग-अलग संख्या निर्धारित करनी पड़ेगी| जैसे कि 100 पीस की पैकिंग, 200 पीस की पैकिंग इत्यादि|

कितने लोगों की तथा कितनी बिजली की जरूरत पड़ेगी?

 किसी भी व्यवसाय को करने के लिए आपको लेबर तथा बिजली इन दोनों की आवश्यकता तो पड़ती ही है| 

देखते हैं! इस व्यवसाय के लिए कितने लोगों की तथा कितनी बिजली की जरूरत पड़ने वाली है?

इस प्लांट को आप 2 किलोवाट बिजली मीटर के साथ चला सकते हैं|

यदि लोगों की बात करूं तो इसके लिए  दो से तीन लोगों की आवश्यकता पड़ेगी| यह काम आप स्वयं से भी कर सकते हैं परंतु मेरी एक राय है कि आप इसके लिए अपने पास वर्कर अवश्य रखें|

बेशक वर्कर की संख्या आप कम कर लें परंतु अवश्य रखे से मतलब यह है कि यदि आप खुद से लेबर बन जाएंगे तो यह माल बेचने का काम कौन करेगा? 

दूसरी बात: किसी को काम देने से आप अपने देश में रोजगार को बढ़ावा देते हैं| यह भी आपका देश के हित में उठाया हुआ एक कदम है| आपके साथ किसी और के घर का चूल्हा भी जल जाएगा! 

पेपर प्लेट बिज़नेस में कितनी पूंजी का निवेश करना पड़ेगा?

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से एक प्रश्न जो बार-बार हमारे दिमाग में गूंजता है  वह है “ बिजनेस को शुरू करने के लिए पूंजी कितनी लगेगी?”

यदि आप Semi automatic paper plate making machine के साथ शुरुआत करते हैं तो इसके लिए आपको लगभग ₹1,25,000 की धनराशि की आवश्यकता पड़ेगी| साथ ही आपको बैकअप के लिए 50 हजार रुपए अलग से रख लेना चाहिए| 

Fully automatic paper plate making machine के साथ शुरुआत करने पर यह राशि लगभग ₹6 लाख से ₹7 लाख के बीच पहुंच जाएगी|

तो दोस्तों! मेरी राय में आप पहले सेमी ऑटोमेटिक पेपर प्लेट मशीन के साथ शुरुआत कीजिए| जब आपको लगे कि हां इस बिजनेस में तरक्की हो सकती है तब आप फुली ऑटोमेटिक पेपर प्लेट मेकिंग मशीन के साथ अपग्रेड हो सकते हैं| 

दोना पत्तल व्यवसाय में कितना मार्जिन ले सकते हैं?

दोस्तों, किसी भी व्यवसाय में मार्जिन का सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण स्थान होता है| आप किसी भी मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस की तरह इसमें भी आराम से 15% से 20% तक आसानी से कमा सकते हैं| 

मार्जिन में मुख्य रोल स्थान का भी होता है| इसमें हमेशा रेट ऊपर नीचे होते रहते हैं| अब आप कारण जानने को उत्सुक हैं इसका भी वही कारण है डिमांड तथा सप्लाई में अंतर आना तथा कंपटीशन|

पेपर प्लेट मेकिंग मशीन तथा कच्चा माल कहां से मिलेगा?

आजकल इंटरनेट का जमाना है| बस कुछ वर्ड टाइप करो और जवाब आपके सामने| 

तो दोस्तों!, मशीनरी खरीदने के लिए आप इंटरनेट का सहारा ले सकते हैं|

इन वेबसाइट में Indiamart.com का प्रमुख स्थान है| यहां पर आपको ढेरों रिजल्ट मिल जाएंगे| 

साथ ही साथ मैं आपको एक बात यह भी बता दूं कि यदि आपको कारीगर चाहिए? तो अक्सर जो लोग मशीन बेचते हैं उनके पास कारीगर की भी सुविधा होती है| मशीन बेचने वालों के पास कारीगरों के नंबर अवश्य होते हैं| आप इनसे कारीगर के संबंध में भी सहायता ले सकते हैं| 

इसी वेबसाइट के द्वारा आप Paper plate के लिए कच्ची सामग्री भी आसानी से खरीद सकते हैं|

आपको इस वेबसाइट पर जाना है| इसके बाद आपको Paper Plate raw material टाइप करना है| अब अब जो रिजल्ट आपके सामने आएंगे उनमें से आप कुछ विक्रेताओं को चयनित कर लीजिए| 

टिप्स 

  • कच्चा माल आपकी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट से कितनी दूरी पर उपलब्ध है? 
  • आपके पास कितना कच्चा माल रखने की जगह है?
  • यदि आपको सारा माल बिना उधारी के लिए रहे हैं तो उस पर कितना डिस्काउंट दिया जा रहा है? लगभग 3% डिस्काउंट मार्केट में चलता है|
  • आपके पास कच्चा माल पहुंचने में कुल कितना समय लगता है?
  • ट्रांसपोर्टेशन के दौरान उस पर किराया कितना लगेगा?  
  • अक्सर अधिक मात्रा में माल लेने पर किराया मैन्युफैक्चरर ही वहन करता है परंतु इसके लिए एक निश्चित दूरी तय होती है| 

इसके बाद आपको इन होलसेलर से कोटेशन मंगवानी है| जिस भी होलसेलर का व्यवहार तथा प्राइस आपको समझ में आए आप उसके साथ डील कर सकते हैं|

आप इंडियामार्ट  की वेबसाइट पर जब विजिट करेंगे तब हो सकता है उसके बाद आपको इंडियामार्ट की तरफ से एक कॉल भी आ जाए| वह आपसे आपकी रिक्वायरमेंट के बारे में पूछेंगे| 

आप उन्हें अपने रिक्वायरमेंट के बारे में जब बता देंगे तो वह आपको कुछ चुनिंदा होलसेलर की लिस्ट उपलब्ध करवा देंगे| साथ ही साथ उन पेपर प्लेट की कच्ची सामग्री बेचने वाले होलसेलर के पास आपका कांटेक्ट नंबर भी चला जाएगा|

यह होलसेलर आपको स्वयं भी कांटेक्ट करके आपकी जरूरत के विषय में पूछ सकते हैं| आपको सब दुकानदारों की बातें ध्यान पूर्वक सुननी चाहिए| यह होलसेलर आपको 1 से 2 मिनट के अंदर ही समझ जाएंगे कि आप इस व्यवसाय में बिल्कुल नए हैं| 

आप यदि इनकी बातें ध्यान पूर्वक सुनेंगे तो निश्चित ही आपको ज्ञान अवश्य मिलेगा|

किसी को भी आप किसी अन्य होलसेलर से आपकी क्या बात हुई है? यह ना बताएं|

एक खास बात और बता दूं कि जब भी आप कोई बिजनेस करेंगे आपको उसकी अच्छाई बुराई के विषय में बिजनेस प्रारंभ करने के बाद ही तजुर्बा होगा| 

पेपर प्लेट व्यवसाय के क्या नुकसान होते हैं?

दोस्तों,  किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले हमेशा उसके नुकसान के बारे में जरूर जानकारी लें| 

नुकसान हर बिजनेस में होते हैं| अब आपको यह देखना है कि क्या आप उन लगने वाले नुकसानों से बच सकते हो या नहीं? यदि हां तो निश्चित ही आप उस व्यवसाय को शुरू कर सकते हो|

चलिए! अब बात करते हैं कुछ जरूरी बातों की|

  • सबसे पहले आपको उस व्यवसाय के डिमांड तथा सप्लाई के बारे में जानकारी लेनी है| जैसे कि: अक्सर शादी-विवाह के सीजन के दौरान दोना प्लेट व्यवसाय की डिमांड बढ़ जाती है| अक्सर शादी विवाह में गुलाब जामुन, हलवा जैसी चीजों को सर्व करने के लिए दोने का इस्तेमाल होता है| 
  • अब आपको यह देखना है कि क्या जो व्यवसाय आप करने वाले हैं कहीं वह सीजनल तो नहीं है?
  • सीजनल व्यवसाय का अर्थ : किसी एक खास टाइम समय के दौरान होने वाला व्यवसाय
  • छोटा बिजनेस होने के कारण इसमें कंपटीशन बहुत अधिक मात्रा में होने की संभावना बनी रहती है|
  • कंपटीशन के चक्कर में कई सप्लायर रेट बिगाड़ देते हैं| उधारी पर माल देना शुरू कर देते हैं| 

टिप्स

1. बेशक आप मार्जिन कम करके बेचें परंतु माल उधार ना दें| 

2. यदि आप अपने माल की क्वालिटी उम्दा रखेंगे तो आपका ग्राहक कहीं नहीं जाएगा| 

साथ ही यह भी अवश्य पढ़ें:

गद्दे बनाने की फैक्ट्री कैसे लगायें?

ग्राहक को समझने के तरीके

प्रोडक्ट बेचने के आसान तरीके

Selling स्किल्स को निखारने के तरीके

उम्मीद करता हूं यह पोस्ट आपको अवश्य ही पसंद आया होगा| मैं नवीन कुमार अब आपसे इजाजत चाहता हूं अगली पोस्ट में फिर मिलूंगा तब तक के लिए नमस्कार! 

धन्यवाद| 

Previous articleLoan News: लोन पर सुप्रीम कोर्ट का ऐसा फैसला आया कि बैंकिंग शेयरों में आ गया उछाल!!
Next articleगद्दे बनाने की फैक्ट्री कैसे लगायें? | Mattress manufacturing process in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!