Logistics Management कैसे करें | Best logistics companies कौन सी हैं?

246

दोस्तों, यह पोस्ट business के सबसे इंपोर्टेंट पार्ट Logistics Management के बारे में है| Business में यदि customer को सही समय पर product की delivery ना हो तो, इससे आपके बिजनेस पर बुरा प्रभाव पड़ना तय है|

यदि कस्टमर को समय पर प्रोडक्ट नहीं मिलता या प्रोडक्ट खराब क्वालिटी का मिलता है तो वह शायद ही उस website से दोबारा खरीदारी करेगा! 

इसके लिए यह जरूरी है कि हमें हमेशा ऐसी लॉजिस्टिक कंपनी को चुनना चाहिए जो समय पर प्रोडक्ट को कस्टमर तक सही सलामत पहुंचा दें 

आज हम बात करेंगे कि हम अपने product की delivery का system  कैसे बनाएं?, इसके लिए हम logistics management के बारे में अच्छी तरह समझेंगे|

इसमें हम जानेंगे कि हमें logistic company चुनते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?, भारत में Best logistics companies कौन सी है? इत्यादि

तो चलिए दोस्तों! शुरू करते हैं आज का टॉपिक “Logistics Management कैसे करें? तथा Best logistics companies कौन सी हैं?”

सबसे पहले हम logistics companies को चुनते समय किन बातों का ध्यान रखें? यह logistics management का सबसे मुख्य पार्ट है| 

Logistics companies को चुनते समय किन बातों का ध्यान रखें?

अपने प्रोडक्ट की डिलीवरी के लिए किसी भी लॉजिस्टिक कंपनी का चुनाव आंख बंद करके नहीं करना चाहिए| 

इसके लिए आप इस लिस्ट को फॉलो अवश्य करें! 

Shipping cost क्या होगी? 

कोई भी logistics company product के वजन और साइज के अनुसार उसे deliver करने की कीमत लेती है|  ऐसे में हमें लॉजिस्टिक कंपनी से सबसे पहले उसके डिलीवरी चार्ज जरुर पूछना चाहिए| 

1-COD

साथ ही कई buyer COD (Cash on delivery)  का ऑप्शन भी पसंद करते हैं| आपको अपनी logistic company यह पता करना है कि कहीं वह “ कैश ऑन डिलीवरी” के लिए कुछ एक्स्ट्रा चार्ज तो नहीं करती?

2- Fast Delivery

कुछ कस्टमर को प्रोडक्ट जल्दी अपने हैं मंगवाना होता है|  कंपनी से यह भी तय कर लें कि यदि कोई कस्टमर फास्ट डिलीवरी चाहता है तो उसका कितना एक्स्ट्रा चार्ज होगा|

3- Hidden charges

आप को logistic company से यह भी क्लियर कर लेना है कि क्या उसके कोई हिडन चार्ज भी हैं?, जैसे कि:  कोई TAX, बरसात के मौसम में एक्स्ट्रा चार्ज, LOADING & UNLOADING CHARGE इत्यादि 

4- Warehouse Charges

यदि कंपनी का कोई अपना वेयरहाउस है तो, उस वेयरहाउस के बारे में आपको उसकी सुविधाएं लेने के लिए क्या अलग से चार्ज देना पड़ेगा?, इत्यादि की जानकारी भी अवश्य लें| 

5- Bad behaviour

किसी बिजनेस में व्यवहार सबसे महत्वपूर्ण तत्व होता है|

यदि आप अपने ग्राहकों से अच्छे रिलेशन नहीं बनाओगे तो आपका बिजनेस कभी तरक्की नहीं कर सकता|

इसलिए आपको अपने लॉजिस्टिक कंपनी से यह बात खुलकर कर लेनी चाहिए कि उनके किसी एम्पलाई द्वारा बदतमीजी करने पर वह क्या एक्शन लेते हैं?

क्योंकि आपका ग्राहक यह नहीं जानता कि आपने किसी  थर्ड पार्टी का इस्तेमाल करके product deliver करवाया है, उसके लिए प्रोडक्ट लाने वाला आपकी कंपनी का ही कर्मचारी है| 

कितने शहरों में Product deliver कर देगी?

Logistic company से यह अवश्य पता करना है कि वह देश के कितने शहरों में माल पहुंचा (product delivery) सकती है? 

कंपनी किन-किन शहरों में प्रोडक्ट डिलीवरी नहीं देती इसकी लिस्ट भी अवश्य बना लें|

इसके बाद आपको यह सोचना है कि आप उस एरिया में अपने प्रोडक्ट की डिलीवरी कैसे दे सकते हैं?

यदि logistic company  के चार्ज बहुत सस्ते हैं  और उसकी service  खराब है तो ऐसी लॉजिस्टिक कंपनी से डील करने का कोई फायदा नहीं है| 

अब!  कस्बों, गांव,  छोटे शहरों से भी काफी संख्या में ऑर्डर आने लगे हैं, ऐसे में आप इन कस्टमर को नजरअंदाज नहीं कर सकते| आपको अपनी logistic company से यह भी क्लियर कर लेना चाहिए कि वह इन एरिया में सर्विस दे पाएगी या नहीं? 

हालांकि, अब logistics companies Remote Area में भी सर्विस देने लगी हैं|

Product की Tracking

Online purchasing में product की tracking बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है| इससे buyer को उसके द्वारा खरीदे गए प्रोडक्ट की वास्तविक लोकेशन तथा टाइम की जानकारी मिल जाती है|

यदि आपके द्वारा चुने गई logistic company  यह सुविधा नहीं देती होगी तो, आपके पास कस्टमर की इंक्वायरी मेल की लाइन लग जाएगी| 

इसलिए यदि लॉजिस्टिक कंपनी ट्रैकिंग की सुविधा नहीं दे रही है तो उसकी सर्विस ना लें| 

वरना आपको अपने ग्राहकों को हैंडल करना बहुत ही मुश्किल हो जाएगा| 

साथ ही साथ आपको कंपनी के साथ ऐसा Eco system बनाना चाहिए कि प्रोडक्ट की डिलीवरी के समय कंपनी आपको भी अपडेट अवश्य करें| 

Product की Return Delivery

आपको अपने लॉजिस्टिक कंपनी से है प्रोडक्ट की रिटर्न डिलीवरी के लिए भी पूरी बात कर लेनी चाहिए|  कई बार ऐसा हो जाता है कि कस्टमर ऐसा प्रोडक्ट खरीद लेता है जो उसके काम का नहीं है, या प्रोडक्ट में कोई खराबी है इत्यादि|

यदि buyer किसी वजह से प्रोडक्ट को वापस करता है तो, ऐसे में कंपनी की क्या पॉलिसी है?

वरना यह सब विषय बाद में बहुत परेशान कर सकते हैं| 

प्रोडक्ट रिटर्न के समय जो चार्ज लगता है वह merchant  को देना पड़ता है, इसलिए logistic company से इस विषय पर अच्छी तरह जानकारी ले लें|

logistics management में third party portal delivery system

यदि आप अपना product थर्ड पार्टी e-commerce कंपनियों के द्वारा बेचना चाहते हैं तो आपको इन कंपनियों से भी product deliver को लेकर पूरी बात कर लेनी चाहिए| 

थर्ड पार्टी e-commerce store  जैसे कि: Flipkart, Amazon, Myntra, Ebay, Jio Mart, Snapdeal इत्यादि 

ऐसा मैं इसलिए बता रहा हूं क्योंकि यह कंपनियां कई ऐसी जगह है जहां से productको pick नहीं करवाती हैं| 

ऐसी स्थिति में, आपके पास दो रास्ते हैं|

1- अपने प्रोडक्ट को इन कंपनियों के वेयरहाउस में रख दें|

2- अपनी तरफ से  किसी कंपनी को product delivery के लिए चुन सकते हैं| 

यदि आप अपने प्रोडक्ट को इन कंपनियों के वेयरहाउस में रखने का ऑप्शन सुनते हैं तो आपको warehouse के charges के बारे में अवश्य ही पता कर लेना चाहिए| 

कहीं आप सोचो कि यह सर्विस फ्री है, माल कंपनी के वेयरहाउस में पहुंचा दो, बाद में पता लगने पर ऐसा हो सकता है कि आपका नुकसान ज्यादा लग जाए!

हालांकि, शुरुआत में 2 से लेकर 3 महीने तक यह कंपनियां वेयरहाउस की सुविधा फ्री भी देती है, परंतु जैसा कि आपको पता है की मैं आपको सारी जानकारी देता हूं, इसलिए मैंने आपको यह कंडीशन बताई है| 

अब आपके दिमाग में एक सवाल यह आ रहा होगा की “यह कंपनियां वेयरहाउस के लिए कितना चार्ज करती होगी?”

चलिए दोस्तों, मैं इसका एक थोड़ा सा आइडिया आपको दे देता हूं| 

सबसे पहले एक फोटो के माध्यम से आप थोड़ा सा समझ लीजिए कि वेयरहाउस कैसा होता है? 

logistics management

Warehouse के लिए यह कंपनियां ₹20 प्रति क्यूबिक फुट से लेकर ₹30 प्रति क्यूबिक फुट तक हर महीने का चार्ज ले सकती हैं| 

अब! आपके दिमाग में एक प्रश्न यह भी आ रहा होगा कि आप अपने प्रोडक्ट का साइज कैसे निकालेंगे?

तो इसके लिए दोस्तों,

मान लीजिए, आप Amazon के warehouse में अपना प्रोडक्ट रखवाना चाहते हैं| ऐमेज़ॉन कंपनी ने आपको  ₹20 प्रति क्यूबिक फुट के हिसाब से चार्ज बताया|

इसके लिए आप internet के माध्यम से google पर सर्च कीजिए|  “inches convert into cubic meter” 

इस Keyword पर आपको ढेरों रिजल्ट मिल जाएंगे|

इन वेबसाइट के माध्यम से आप आसानी से यह गणना निकाल सकते हैं| 

Warehouse में माल रखने पर पैकिंग कौन करेगा?

दोस्तों वेयरहाउस में अपना प्रोडक्ट रखने के बाद, प्रोडक्ट की डिलीवरी से लेकर पेमेंट तक की जिम्मेदारी warehouse उपलब्ध करवाने वाली e-commerce वेबसाइट की होती है| 

इसमें merchant  को पैसे तो खर्च करने पड़ते हैं लेकिन सुविधाएं मिल जाती हैं| जैसे कि:  अलग से किसी प्रकार के लिए पैकिंग का खर्चा नहीं लगता,  यह वेयरहाउस की फीस में पहले ही जुड़ा होता है| 

Best logistics companies

यदि आप भारत में अपना बिजनेस करते हैं और आपको अपने product की delivery के लिए कोई Best Logistics companies ढूंढ रहे हैं तो, आप इन  कंपनियों में से किसी को चुन सकते हैं|

इन Best Logistics companies की list मैंने रिसर्च के आधार पर तय की है|

  1. India Post (indiapost.gov.in)
  2. BlueDart (bluedart.com)
  3. Delhivery (delivery.com)
  4. WareIQ (wareiq.com)
  5. XpressBees (xpressbees.com)
  6. Ekart (ekartlogistics.com)
  7. Fedex (fedex.com) 

दोस्तों,  मैं इस पर अभी और रिसर्च कर रहा हूँ|  यदि मुझे कोई और Best logistics company मिलेगी तो मैं इस Best logistics companies list में उसे add कर दूंगा| 

यदि आपके पास किसी अच्छी कंपनी का नाम हो तो मुझे अवश्य बताएं| इससे भारत के व्यवसायियों को काफी मदद मिलेगी| 

मैं अपनी जिंदगी के तजुर्बे से बता सकता हूं कि, यदि आप दूसरों की मदद करना सीखोगे तो आपका कोई भी काम कभी भी नहीं अटकेगा| 

लोगों के लिए मददगार बनने से आपका स्वयं का मुश्किल से मुश्किल काम भी बनने के चांस बढ़ते जाते हैं| 

ऐसा हो सकता है कि थोड़ा समय लग जाए परंतु यदि काम ठीक है तो उसमें आपको निश्चित ही सफलता हाथ लगेगी|

FAQs: Logistics Management

Logistics management में भारतीय रिटेल इंडस्ट्री पर क्या प्रभाव पड़ रहा है?

कोरोना महामारी ने लॉजिस्टिक कंपनियों का कारोबार यकायक बढ़ा दिया| भारतीय रिटेल इंडस्ट्री को भी इससे काफी फायदा हुआ है| अब रिटेल इंडस्ट्री logistics management के बारे में अच्छी तरह पढ़ कर, इसको अपने बिजनेस के लिए अप्लाई कर रही है|

Retail logistics के management से दिए जाने वाले महत्वपूर्ण लाभ कौन से है?

वैसे तो रिटेल लॉजिस्टिक मैनेजमेंट के द्वारा बहुत सारे लाभ मिल रहे हैं, परंतु सबसे ज्यादा लाभ product return delivery, रिमोट एरिया में भी आसानी से प्रोडक्ट का पहुंचना, कम किराया इत्यादि शामिल है|

Logistics management में इंटरनेट कैसे भूमिका निभाता है?

वैसे तो बिजनेस में इंटरनेट का बहुत बड़ा रोल है, परंतु यदि लॉजिस्टिक मैनेजमेंट की बात की जाए तो, इंटरनेट के माध्यम से ग्राहक आसानी से अपने प्रोडक्ट की ट्रैकिंग कर सकता है|

Logistics management के लिए कौन सी सेवाएं महत्वपूर्ण है?

मेरे हिसाब से लॉजिस्टिक मैनेजमेंट में “Product returning” तथा “Product tracking” सबसे महत्वपूर्ण सेवाएं हैं|

अच्छा लॉजिस्टिक मैनेजमेंट सिस्टम अपनाने से देश पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

आज के समय में आप तेल की कीमत तो देख ही रहे हैं कहां पर पहुंच रही हैं|  लॉजिस्टिक कंपनियां केवल आपका सामान ही नहीं लेकर जाती बल्कि वह और भी कई रिटेलर्स का सामान उसके साथ लेकर जाती हैं| अब!  इससे होता यह है कि देश में एक ऐसा इको सिस्टम डिवेलप हो जाता है जिसमें तेल की भी बचत होती है, समय की भी बचत होती है तथा ट्रैफिक भी कम होता है|
यदि हर कोई अपना प्रोडक्ट अलग गाड़ी से भेजेगा तो निश्चित ही उससे देश के संसाधनों पर बोझ पड़ेगा| आपने अक्सर ऐसे ट्रांसपोर्टर्स देखे होंगे जो एक जगह से दूसरी जगह माल ले जाने के लिए पूरी गाड़ी फुल कर लेते हैं|  इससे किराया सस्ता हो जाता है, लोगों को रोजगार मिल जाता है, तेल जैसे प्राकृतिक संसाधनों की बचत होती है|

साथ ही यह भी अवश्य देखें:

E-Marketing कैसे करें?

दुबई में बिजनेस सेटअप कैसे करें?

Payment gateway procedure क्या है?

फ्री में Business का Online promotion कैसे करें?

आपने क्या सीखा? 

इस पोस्ट के माध्यम से मैंने आपको business में logistics का क्या महत्व है?, logistics management कैसे करें?, आपको लॉजिस्टिक कंपनियों को चुनते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?, India में Best logistics companies कौन सी हैं? इत्यादि के विषय में बताया है|

उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट अवश्य ही पसंद आई होगी|

कृपया इसे अधिक से अधिक मात्रा में शेयर अवश्य करें|  इसी प्रकार business से संबंधित नई पोस्ट में, मैं फिर मिलूंगा तब तक के लिए नमस्कार

धन्यवाद| 

Previous articlePayment gateway क्या है? | Payment gateway process in Hindi
Next articleDimensions of business environment in Hindi | कारोबारी माहौल के आयाम
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!