वित्तीय प्रबंधन का परिचय | Introduction to financial management in Hindi

343

इस पोस्ट के माध्यम से आप वित्तीय प्रबंधन का परिचय (Introduction to financial management), बिजनेस फाइनेंस का अर्थ तथा परिभाषा?, बिजनेस फाइनेंस क्या होता है?, Financial management meaning in Hindi, फाइनेंशियल मैनेजमेंट में क्या होता है? इत्यादि के बारे में पढ़ेंगे 

परिचय (Introduction to financial management)

किसी बिजनेस को अच्छी प्रकार चलाने के लिए धन की आवश्यकता होती है! बिजनेस तरक्की करेगा या नहीं करेगा, यह बिजनेस के वित्तीय प्रबंधन पर मुख्य रूप से निर्भर होता है! इसलिए हम बिजनेस स्टडीज में वित्तीय प्रबंधन को अवश्य पढ़ते हैं! 

इसमें यह समझा जाता है कि व्यवसाय के लिए धन उस जगह से लेना चाहिए जहां पर उसे चुकाने के लिए सबसे कम कीमत अदा करनी पड़े तथा उसमें रिस्क बहुत कम होना चाहिए!

फाइनेंशियल मैनेजमेंट समझने से पहले हमको Business finance के बारे में समझ लेना चाहिए! 

Meaning & definition of business finance in Hindi

Business finance meaning: “ऐसा धन जिसे बिजनेस के लिए इस्तेमाल किया जाता है उसे बिजनेस फाइनेंस कहते हैं|” 

Business finance definition in Hindi: “वह धन जो बिजनेस गतिविधियों में लगता है या व्यापार को चलाने के लिए लगता है उसे बिजनेस फाइनेंस कहा जाता है|” 

व्यापार वित्त क्या होता है? (What is business finance?)

किसी भी बिजनेस को बनाने, चलाने तथा अपग्रेड करने के लिए धन की आवश्यकता पड़ती है| व्यापार में नए प्रोडक्ट्स जोड़ने के लिए भी धन की आवश्यकता होती है! 

बिजनेस के लिए  मशीनरी, फैक्ट्री, बिल्डिंग, ऑफिस, अमूर्त (intangible), मूर्त (tangible), trademarks, patents, technical expertise इत्यादि में लगने वाला धन व्यापार वित्त (business finance) कहलाता है| 

साथ ही व्यवसाय में प्रत्येक दिन लगने वाला खर्च जैसे कि: बिजली बिल, पानी बिल, टेलीफोन  बिल, सैलरी, सामान खरीदने इत्यादि में लगने वाले धन भी बिजनेस फाइनेंस कहलायेगा|

यानी कि व्यापार चलाने के लिए सभी गतिविधियों में इस्तेमाल किए जाने वाला धन व्यापार वित्त (business finance) कहलाता है|

फाइनेंशियल मैनेजमेंट का हिंदी में अर्थ (Financial management meaning in Hindi)

Financial meaning in Hindi: “धन संबंधी, आर्थिक, वित्त-संबंधी, माली, वित्तीय, पैसे संबंधी” 

Management meaning in Hindi: “प्रबंधन, प्रबंध, संचालन, नीति, इंतिज़ाम, शासन, चालाकी, महकमा, कपट, कपटाचरण, छल, चलाना”

Financial management meaning in Hindi: “वित्तीय प्रबंधन, पैसों का प्रबंधन, धन का प्रबंधन” 

वित्तीय प्रबंधन की परिभाषा (Financial management definition in Hindi)

Financial management definition in Hindi: “वित्तीय प्रबन्ध एक व्यवसाय की वह संचालनात्मक प्रक्रिया (operational process) है जो कुशल प्रचालनों (operations) के लिए आवश्यक वित्त को प्राप्त करने तथा उसका प्रभावशाली ढंग से उपयोग करने हेतु उत्तरदायी होता है।”

साधारण भाषा में अर्थ: अपने बिजनेस को प्रभावशाली ढंग से चलाने के लिए धन का प्रबंध ऐसी जगह से करना जहां पर सबसे कम रिस्क हो तथा सबसे कम मूल्य चुकाना पड़े, तथा उस पैसे का अपने बिजनेस में सही ढंग से इस्तेमाल करना ही वित्तीय प्रबंधन होता है| 

इसे अच्छी तरह समझ ले के लिए हम एक उदाहरण की सहायता ले लेते हैं! 

वित्तीय प्रबंधन का उदाहरण: मान लीजिए, एक व्यक्ति जिसका नाम सुनील है उसे 10,000 रुपए की आवश्यकता है| 

सुनील के पास अपने धन की पूर्ति के लिए तीन स्थान है| 1- पापा 2-  दोस्त 3-  बैंक

अब! सुनील इन तीनों में जिस से भी पैसा लेगा उसे कितना पैसा वापस करना पड़ेगा यह देख लेते हैं!

पापा: पापा से पैसे लेने पर सुनील को अपने घर का बिजली का बिल भरना पड़ेगा! (बिजली का बिल ₹100 महीना)

दोस्त: दोस्त को उसके ऑफिस छोड़ कर आना पड़ेगा! (ऑफिस छोड़कर आने पर तेल का खर्चा ₹180 महीना)

बैंक: बैंक को 2% की ब्याज दर से पैसा वापस देना पड़ेगा! (2% के हिसाब से ₹200) 

अब! सुनील की किस से पैसे लेगा कि वह आर्थिक फायदे में रहे? तथा वह उस धन का अपने बिजनेस के लिए सही तरीके से इस्तेमाल कर सके!, यही वित्तीय प्रबंधन होता है| 

फाइनेंशियल मैनेजमेंट में क्या होता है? (What Happens in Financial Management?)

  • सभी वित्त किसी न किसी कीमत पर आते हैं। यह बहुत जरूरी है कि इसे सावधानीपूर्वक प्रबंधित करने की आवश्यकता है।
  • वित्तीय प्रबंधन में वित्त कहां से आ रहा है? तथा इसके साथ-साथ वित्त के उपयोग से संबंधित है।
  • इसमें जहां जहां से भी धन मिल रहा है उसके प्रत्येक सोर्स को सबसे पहले अच्छी तरह रिस्क तथा कीमत के आधार पर आईडेंटिफाई किया जाता है| 
  • जिस कीमत पर धन लिया गया है, बिजनेस में उस कीमत से अधिक मुनाफा होना चाहिए| यानी कि आपने जो धन लिया है,  उसके ब्याज से ज्यादा कमाई होनी चाहिए! 
  • फाइनेंसियल मैनेजमेंट का लक्ष्य होता है कि जहां से धन लिया गया है, वह कम से कम कीमत तथा कम से कम रिस्क पर मिलना चाहिए! 
  • फाइनेंसियल मैनेजमेंट में इस बात का खासतौर पर ध्यान दिया जाता है कि खर्चे के समय आपके पास उपयुक्त मात्रा में धन अवश्य हो! यानि कि आप अपने बिजनेस के लिए नई मशीन की खरीदना चाहते हैं तो मशीन खरीदने के समय पर आपके पास पर्याप्त धन होना चाहिए| 

FAQs: वित्तीय प्रबंधन का परिचय (Introduction to financial management)

वित्तीय प्रबंधन से आप क्या समझते है?

वित्तीय प्रबंधन से अभिप्राय बिजनेस  चलाने के लिए धन का प्रबंध करना| धन का प्रबंध ऐसे स्रोत द्वारा करना जिसमें कम से कम रिस्क हो तथा कम से कम देनदारी पर वह धन उपलब्ध हो जाए|  इसके साथ ही उस धन को बिजनेस में इस प्रकार लगाना कि उससे अधिक से अधिक मुनाफा हो सके ही वित्तीय प्रबंधन कहलाता है!

वित्तीय प्रबंधन को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

Financial management

वित्तीय प्रबंधन क्या सिखाया जाता है?

बिजनेस में धन उपलब्ध करवाने तथा उसके सही प्रकार से इस्तेमाल करने के बारे में सिखाया जाता है|

बिजनेस फाइनेंस मीनिंग इन हिंदी 

व्यावसायिक वित्त

बेहतर वित्तीय प्रबंधन के लिए क्या सुझाव हैं?

अपना गैर जरूरी खर्चा कम करें, अपनी आय बढ़ाने के लिए जरूरी कदम उठाएं| बचत को सुरक्षित रखें। मार्केट पर नजर बनाए रखें| अपने बिजनेस को अपग्रेड करते रहें| अपने बिजनेस को ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लेकर आएं जैसे कि: बिजनेस वेबसाइट जरूर बनाएं 

साथ ही यह भी अवश्य देखें:

GDP kya hai 

Customer base kya hota hai

affiliate marketing kya hoti hai

Business environment

दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट “वित्तीय प्रबंधन का परिचय, Introduction to financial management in Hindi” अवश्य ही पसंद आई होगी!

कृपया इसे शेयर अवश्य करें|

Business studies से रिलेटेड ऐसी ही अगली पोस्ट में, मैं फिर मिलूंगा तब तक के लिए नमस्कार धन्यवाद 

Previous articleForeign company: विदेशी कंपनी क्या होती है?, नियम एवं शर्तें | Foreign company registration India in Hindi
Next articleवित्तीय प्रबंधन के उद्देश्य क्या है? | Objectives of Financial Management in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!