इंडियन ट्रैड पोर्टल का आयात-निर्यात में क्या फ़ायदा है | Indian Trade Portal benefits

192

इस पोस्ट में हम Indian Trade Portal के बारे में जानेंगे | Indian Trade Portal को हिन्दी में भारतीय व्यापार पोर्टल कहते हैं| यदि आप आयात निर्यात करते हो तो आपके लिए इंडियन ट्रेड पोर्टल के बारे में जानना बहुत ही जरूरी है| इंडियन ट्रेड पोर्टल की वेबसाइट हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषाओं में उपलब्ध है|
अब मैं INDIAN TRADE PORTAL WEBSITE का एक विस्तृत वर्णन आपको दे रहा हूं|

Indian trade portal introduction

भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ाने के मकसद से इंडियन ट्रेड पोर्टल का गठन किया गया है|
इस वेबसाइट के माध्यम से आप बहुत ही सरलता के साथ में सरकार की नीतियों को स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं|
हर किसी देश का मकसद अपने देश के निर्यात को बढ़ावा देना होता है|

आयात निर्यात (विदेशी व्यापार) से विदेशी पूंजी का भंडार बढ़ता है जिससे किसी भी देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होती है| 

यही कारण है कि सरकार हमेशा निर्यात को बढ़ावा देती है तथा आयात को हतोत्साहित करने की दिशा में कदम उठाती रहती है| 

आपको international trade की लैटस्ट न्यूज की जानकारी भी indian trade portal के माध्यम से मिल सकती है|

आप इसका फ़ायदा indian b2b portal की तरह भी उठा सकते हैं| साथ ही आपका यह टॉपिक – how to export indian trade portal? भी clear हो जाएगा|

एक्सपोर्ट डाटा भी आप भारतीय व्यापार पोर्टल के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं|

indian trade portal
INDIAN TRADE PORTAL

भारतीय व्यापार पोर्टल द्वारा ITC तथा HS CODE कैसे ढूंढे? 

आप INDIAN TRADE PORTAL की वेबसाइट के माध्यम से बहुत ही आसानी से अपने प्रोडक्ट का एचएसएन कोड मालूम कर सकते हैं तथा किसी भी एच एस एन कोड के माध्यम से उस प्रोडक्ट का नाम जान सकते हैं|
HS CODE पूरे विश्व में एक ही रहता है|
इसका उद्देश्य प्रोडक्ट की सही जानकारी लेना होता है क्योंकि विभिन्न विभिन्न भाषाओं तथा विभिन्न विभिन्न बोलियों में किसी प्रोडक्ट को भिन्न-भिन्न नामों से पुकारा जाता है|
वर्ना सरकार द्वारा यह सुनिश्चित करना अत्यंत ही मुश्किल हो जाएगा कि किस प्रोडक्ट पर कितना टैक्स है?
इसी दुविधा को खत्म करने के लिए HS CODE की जरूरत होती है|

साथ ही यह अवश्य देखें: एमएसएमई के बारे में सारी जानकारी

इंडियन ट्रैड पोर्टल
INDIAN TRADE PORTAL

इंडियन ट्रैड पोर्टल द्वारा Export Policy कैसे पता करें?

हमें अक्सर एक्सपोर्ट इंपोर्ट व्यापार में एक्सपोर्ट पॉलिसी कैसे पता करें यह दुविधा रहती है|
यदि आप किसी भी प्रोडक्ट की एक्सपोर्ट पॉलिसी को पता करना चाहते हैं तो आपको यह बहुत ही आराम से पता चल जाएगा|
इसके लिए आप नीचे दिए स्टेप्स को फॉलो करें

  • सबसे पहले मुख्य पृष्ठ पर आप अपना प्रोडक्ट का एचएसएन कोड लिखकर फाइंड का बटन दबाएं|
  • इसके बाद में आपको उस हेडिंग के उत्पादों की लिस्ट मिल जाएगी जिसमें आपको एक्सपोर्ट या इंपोर्ट एक चीज को सेलेक्ट करना है|
  • अब आपको आपके प्रोडक्ट का डिस्क्रिप्शन मिल जाएगा जिसमें आपको एक प्रोडक्ट सेलेक्ट करना है तथा सेलेक्ट करने के बाद NEXT का बटन दबाना है|
  • अब आपको टॉप 25 कंट्रीज की लिस्ट मिलेगी इनमें से आपको एक कंट्री सेलेक्ट करनी है, जिस भी कंट्री में आप एक्सपोर्ट करना चाहते हैं|
  • उस कंट्री को सेलेक्ट करने के बाद आपको आपके प्रोडक्ट का 8 डिजिट का एचएसएन कोड दिखाई देगा जिसको आप सेलेक्ट करके नेक्स्ट का बटन दबा दें|
  • अब यहां पर आपको आपके प्रोडक्ट के ओरिजन के नॉर्मल रूल्स की लिस्ट मिल जाएगी जिनको आप डाउनलोड करके अच्छी तरह पढ़ सकते हैं|
  • यहीं पर आपको ऊपर एक एक्सपोर्ट पॉलिसी का  बटन दिखेगा जिसे दबाकर आप अपने प्रोडक्ट की एक्सपोर्ट पॉलिसी  देख सकते हैं|

DUTY DRAWBACK finding by Indian trade portal 

ड्यूटी ड्रॉबैक पता करने के लिए ऊपर दिए प्रोसीजर में आपको ऊपर एक बटन दिखाई देगा|
इस बटन के द्वारा आप अपने प्रोडक्ट का Duty Drawback पता कर सकते हैं|
INDIAN TRADE PORTAL के माध्यम से आपको बिल्कुल लेटेस्ट ड्यूटी ड्रॉबैक पता चलता है|
यह समय-समय पर चेंज भी हो सकता है इसलिए आपको इसी वेबसाइट के माध्यम से ही जानकारी लेनी चाहिए|

इंडियन ट्रेड पोर्टल द्वारा MEIS कैसे पता करें?

आप अपने प्रोडक्ट पर Merchandise Exports from India Scheme इंडियन ट्रेड पोर्टल द्वारा पता कर सकते हैं|
ऊपर दिए बटनों में एक बटन MEIS स्कीम पता करने के लिए होता है|
इसी प्रकार एक ही जगह आपको एक प्रोडक्ट के बारे में सारी जानकारी मिल जाती है|

Indian trade Portal द्वारा GST कैसे पता करें?

एक्सपोर्ट में जीएसटी पर छूट होती है| पर इसके 2 तरीके होते हैं |
पहला यह कि आप प्रोडक्ट खरीदते समय यदि आप मर्चेंट एक्सपोर्टर हैं तो अपने मैन्युफैक्चरर्स से जीएसटी में छूट ले सकते हैं|
इसके लिए आपको एक LUT देना होता है|
इसके विषय में मैं एक विस्तार से पोस्ट लिख दूंगा ताकि आपको आराम से यह चीज क्लियर हो जाए|
दूसरा तरीका होता है कि पहले आप जीएसटी भर दें तथा बाद में उसका रिफंड ले लें|
मैं आपको यही सुझाव दूंगा कि आप पहले जीएसटी भर दें तथा बाद में उसका रिफंड ले लें|
LUT (LETTER OF UNDERTAKING) के चक्कर में ना पड़े क्योंकि इससे आपके मैन्युफैक्चर को आपके ग्राहक के बारे में पता चल सकता है|
उपरोक्त दी गई पद्धतियों के अनुसार आपको एक बटन जीएसटी का भी मिलेगा|
इस बटन को दबाकर आप अपने प्रोडक्ट पर लगने वाले जीएसटी की परसेंटेज को पता कर सकते हैं|

 इस बटन को दबाकर आप अपने प्रोडक्ट पर लगने वाले जीएसटी की परसेंटेज को पता कर सकते हैं|

How to find the Top 25 Export Countries list?

यदि आप अपने प्रोडक्ट के लिए सही मार्केट का चुनाव नहीं कर पा रहे हैं तो आप indian trade portal की मदद से बहुत ही आसानी से यह चुनाव कर सकते हैं|

इंडियन ट्रेड पोर्टल के होम पेज पर बटन होता है जिसके माध्यम से आप TOP 25 EXPORT DESTINATION COUNTRIES के बारे में पता कर सकते हैं| 

इससे आपको buyer finding के लिए एक target country मिल जाएगी|

अब इस पोस्ट को मैं ज्यादा लंबा न करते हुए नीचे इसमें आपको मुख्य मुख्य चीजों के लिंक दे रहा हूं जिनके द्वारा अब बड़ी सरलता से आप जो भी चीज खोजना चाहते हैं वह इंडियन ट्रेड पोर्टल के माध्यम से आसानी से खोज सकते हैं|

मैं समय-समय पर इस पोस्ट में नई-नई जानकारियां ऐड करता रहूंगा|

साथ ही यह अवश्य देखें:

डिजिटल इंडिया पोर्टल के बारे में पूरी जानकारी

एक्सपोर्ट बिज़नेस में ग्राहक कैसे ढूंढे?

एक्सपोर्ट इंपोर्ट बिजनेस कैसे शुरू करें?

लघु उद्योग क्या होता है तथा इसमें कौन कौन से प्रोडक्ट आते हैं?

आशा करता हूं आपको यह पोस्ट काम की लगी होगी|
यदि आपको अच्छी लगी हो तो मेरे इस ब्लॉग को सब्सक्राइब अवश्य करें|

 धन्यवाद|

Previous articlelaghu udyog: लघु उद्योग में आने वाले प्रोडक्ट्स की लिस्ट व जानकारी
Next articleJute: जूट के बैग बनाने का व्यवसाय कैसे शुरु करें | जूट उद्योग की सारी जानकारी
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!