खरीदार को समझाने के सर्वोत्तम तरीके | how to sell a product in Hindi?

110

इस आर्टिकल – how to sell a product? | Best ways of buyer Convincing tips – in hindi में आप product sell, buyer convincing, के बारे में पढ़ेंगे यदि आप अपने selling skills में improvement करना तथा कुछ नया सीखना चाहते हैं तो आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए| 

इस पोस्ट के माध्यम से आपको how to sell a product? के सवाल में Human behavior का क्या रोल है? यह भी पता चलेगा| 

How to Sell a Product in the International market?

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: ग्राहक को संतुष्ट करने के आसान तरीके 

जब भी हम अंतरराष्ट्रीय या घरेलू मार्किट मे अपना Product sell करना चाहते हैं हमारे मन में ये सवाल बार-बार आता है|

how to sell a product in the international market?

हमे buyer convincing tips के बारे में भी जानने की मृगतृष्णा रहती है|

यदि आप अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में अपना Product sell करना चाहते हैं तो आपको कुछ तैयारियां करना अत्यंत आवश्यक है|

इन तैयारियों को करने के बाद आपका कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ जाएगा जो कि एक अच्छी Salesmanship के लिए बहुत ही जरूरी तत्व है| 

  • Pricing – कीमत – आप जिस भी देश में अपना माल sale करना चाहते हैं सबसे पहले उस देश का Product का आयात डाटा निकलवा लें|

Import data उस Product का होना चाहिए जो Product sale करना चाहते हैं|

आयात डाटा खरीदने के लिए आपको इंटरनेट पर बहुत सी वेबसाइट मिल  जाएंगी|

आपको एक चीज़ का ध्यान रखना है कि आप जो Data खरीदेंगे वह कम से कम 3 महीने का तो होना ही चाहिए|

सबसे पहले आप उन Buyers का अध्ययन करेंगे जिन्होंने 3 महीने पहले माल लिया था क्योंकि अब उनका पिछला माल समाप्त हो चुका होगा|

अब आप इसमें ध्यान पूर्वक अध्ययन करके अपने काम की जानकारियों को इकट्ठा कर लेंगे जैसे कि उन व्यापारियों  ने किस से माल लिया है|

अब जो मैं अगला पॉइंट आपको बता रहा हूं इस बात पर ध्यान दें| आपको Data में दिये Importers से संपर्क करना है|

जी हां आपने ठीक पढ़ा!

आपको Importers से ग्राहक बनकर उनसे Product Quotation मंगानी है|

अब आपको इस Product Quotation का बहुत अच्छी तरह अध्ययन करना है|

इस Product Quotation के माध्यम से आपको अपने प्रतिद्वंदी की  Product Quality के बारे में पता चल जाएगा| 

उसके पेमेंट टर्म के बारे में पता चल जाएगा| उसका मुनाफा भी भली-भांति जान लोगे  तथा उसकी किसी विशेष कमी के बारे में भी आपको पता चल जाएगा|

अब यहां से शुरू होते हैं आपके इस आर्टिकल को पढ़ने के फायदे| अब आपके पास में बहुत सारी जानकारियों का संग्रह हो चुका है|

अब तक आपको अपने सवाल- how to sell a product? का आधा जवाब मिल चुका है|

पर रुको! अभी तो article शुरू हुआ है|

अब आपको अपने ग्राहक से संपर्क साधना है| सबसे पहले मैंने  इस Topic का नाम Pricing इसलिए दिया क्योंकि आप लोग क्या गलती करोगे? यह मैं भली-भांति जानता हूँ|

आप सीधे-सीधे  ग्राहक से संपर्क करके उसको कम कीमत का Offer  करोगे जो कि मैं बिल्कुल भी नहीं चाहता|

हमें उस ग्राहक का आकर्षण  कीमत पर नहीं उत्पाद की Quality पर लाना है|

मनुष्य हमेशा स्वभाव से यह चाहता है  उसे उसी दाम में Quality अच्छी मिल जाए|

बस हमें अपनी बातों द्वारा उसके ग्राहक के दिमाग में  यह बात फिट करनी है कि वह अब तक वह अधिक कीमत अदा करके निम्न Quality का माल खरीद रहा था|

वह कभी भी अपने विक्रेता से कीमत कम करने का आग्रह नहीं करेगा| ग्राहक केवल माल की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए अपने विक्रेता से कह सकता है और भाइयों एक कहावत तो आपने सुनी ही होगी की

“ग्राहक कभी किसी का सगा नही होता ”|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: Selling स्किल्स को निखारने के तरीके 

Website use for product selling

यह सब तैयारियां अंतर्राष्ट्रीय ग्राहक को माल sale करने के लिए अत्यंत ही आवश्यक है|

आपको इंटरनेशनल Product selling के लिए Website का होना बहुत जरूरी है|

how to sell a product
BuBusiness Website

इन सब तैयारियों के बिना आपको अपने  ग्राहक को समझाने में बहुत दिक्कत होगी तथा इसके बिना प्रतिस्पर्धा में भी आप बहुत पिछड़ जाएंगे|

सुनने में ये टॉपिक बहुत आसान लगता है- (how to sell a product?) पर असलियत में यही टॉपिक समझना बहुत मुश्किल है|

आपको अपने स्तर की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए जो चीजें इस आर्टिकल में बताई है इन सब का सहारा लेना पड़ेगा|

इन सब तैयारियों के साथ आप जब भी सेल्स के क्षेत्र में कदम रखेंगे आप अपने आपको दिमागी रूप से बहुत ही मजबूत पाएंगे|

आप लोगों की स्किल को इंप्रूव करने के लिए जो तरीके मैंने इस आर्टिकल में बताए हैं वह बहुत ही अच्छे औज़ार है|

यह आपकी स्किल में बहुत ही पैनापन ले आएंगे|

Brochure

आपको अपने Product के brochure  जरूर बनवा लेना चाहिए| इससे आपको अपने Product के बारे में ग्राहक को समझाने में बहुत ही आसानी होगी|

how to sell a product

यह अंतरराष्ट्रीय  व्यापार में बहुत ही जरूरी तत्व है| इस आर्टिकल में मैं कोई भी विषय छोड़ना नहीं चाहता जिसके बिना आपको माल sell करने में कोई भी परेशानी हो|

इसलिए मैं इन सब विषयों को भी इस आर्टिकल में लिख रहा हूं|

अब बढ़ते हैं इस आर्टिकल – (how to sell a product?) के अगले पड़ाव पर|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: एक्सपोर्ट बिज़नेस में ग्राहक कैसे ढूंढे?

भूल जाओ की यह पहली डील है! | Forget This Is A First Time Deal

आप के शुरुआती दिनों में आपको अपने दिमाग से यह बात निकाल देनी चाहिए की अभी इस फील्ड में आप नए हैं|

इससे होगा यह की आपका डर आपके चेहरे पर दिखाई देगा|

और मेरा ऐसा मानना है कि जो बात सामने वाला शब्दों से नहीं समझ सकता वह चेहरा देखकर समझ जाता है|

ग्राहक को यह पता चल गया कि आपको इस Product के बारे में जानकारी कम है और उसको ज्यादा है उसी पल ग्राहक अटैकिंग मोड में आ जाएगा|

अब उसके सवालों का दायरा बढ़ जाएगा| वह खोद- खोद कर आपसे सवाल करने लगेगा |

वह आपको समझाने लग जाएगा| वह अपना व्यवहार इस तरह का कर लेगा मानो उसने इस विषय पर पी.एच.डी. कर रखी है|

इसलिए मैंने यह कहा कि आपको यह भूलना पड़ेगा कि यह आपकी पहली डील है या आप की शुरुआती डील्स हैं|

यह बात भी मैं आपको एक उदाहरण द्वारा समझाता हूं जिससे आपको अच्छी तरह समझ में आ जाएगा|

उदाहरण:-

मैंने गद्दे के साथ-साथ सोचा कि मैं सोफे भी आर्डर पर बनवाने लग जाऊँ| इसके लिए मैंने इंटरनेट पर Product Promotion किया|

मुझे एक सोफे की लीड हाथ लग गई| अब मुझे उस ग्राहक से वह ऑर्डर लेना था|

अब मैंने अपने कारीगर से सोफे के सामान्य से डाइमेंशंस पूछे|

  • बैक की हाइट कितनी होनी चाहिए?
  • सीट की हाइट कितनी होनी चाहिए?
  • पर सीट कपड़ा कितना लगता है?
  • लकड़ी कौन सी इस्तेमाल होती है?

अब मुझे एक बात कन्फ़र्म थी कि जहां मैं जा रहा हूं वहां पर उस ग्राहक को इतनी बात तो पता होगी नहीं यानी कि  जितनी मुझे पता है|

मैं यह बात जानता था की वह सोफे के बारे में नहीं जानता

और मुझे एक बात यह भी अच्छी तरह पता थी कि वह यह भी नहीं जानता था कि सोफे से संबंधित यह मेरी पहली डील है|

यदि उसे यह पता चल जाता कि मैंने सोफे का काम अभी शुरू किया है तो वह निश्चित ही मुझे आर्डर नहीं देता

क्योंकि उसका सोफा लग्जरी Quality का था और उसे डर था कि कहीं यह मेरा सोफा बिगाड़ ना दे| 

उम्मीद करता हूं आप लोग यह समझ गए होंगे कि इस उदाहरण के माध्यम से मैं आपको क्या बताना चाह रहा था|

आपकी जानकारी के लिए बता देता हूँ की उस सोफ़े का ऑर्डर मुझे ही मिला था|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: इंडियन ट्रेड पोर्टल के फायदे तथा इसका आयात निर्यात में क्या फ़ायदा है?

Jealousy

किसी भी व्यापार को करने के लिए और उसमें तरक्की का अंश बढ़ाने के लिए आप में एक ऊर्जा की जरूरत होती है|

यह ऊर्जा का स्रोत आपको इस तत्व द्वारा मिल सकता है Jealousy!!

पर यह जलन सौहार्दपूर्ण होनी चाहिए|

इसका यह मतलब नहीं है कि अपने प्रतिद्वंद्वी के यहां आप रेड डलवा दें या और किसी प्रकार का षड्यंत्र रचने लग जाएं|

आपको अपने प्रतिद्वंद्वी से competition इस प्रकार करना है कि आप उससे अच्छा Product बेचें तथा उससे ज्यादा मात्रा में बेचें|

आपके मन में अपने प्रतिद्वंद्वी से हमेशा आगे निकलने की मन में लगी रहनी चाहिए|

यह तरक्की करने का एक बहुत अच्छा साधन है|

इस तत्व के माध्यम से आप हमेशा ऊर्जा वान रहेंगे|

जैसे ही आपको पता चलेगा कि आपके प्रतिद्वंद्वी को कोई बड़ा ऑर्डर मिलने वाला है|

आप उस आर्डर के लिए या उससे बड़े आर्डर  को प्राप्त करने के लिए अपनी जी जान लड़ा देंगे|

आप माने या ना माने पर किसी के द्वारा कभी कोई चुभती हुई बात कही गई हो चाहे वे जाने अनजाने ही हो पर वह दिमाग़ में कहीं ना कहीं फिट हो जाती है|

जिसको अगर हम सही तरीके से लें तो यह हमारे बहुत काम आ सकती है|

हमको उस बात का जवाब कुछ करके दिखा कर देना चाहिए ना कि शब्दों द्वारा बोल कर|

How to sell a product के इस आर्टिकल का यह बहुत ही मुख्य part है|

Customer Hesitation

दोस्तों, how to sell a product? के इस आर्टिकल में हम ग्राहक अनिर्णय के बारे में पढ़ेंगे|

कस्टमर को आपसे बार-बार वार्तालाप करने के दौरान किसी भी तरह की झिझक महसूस नहीं होनी चाहिए|

आपको अपने ग्राहक के दिमाग में यह बात सेट कर देनी है कि-

उसके बार-बार फोन करने से या बार-बार सवाल पूछने से आप परेशान नहीं हो रहे|

बल्कि यह आपके व्यापार का ही एक हिस्सा है|

ग्राहक को संतुष्ट करना आपका कर्तव्य है|

इस प्रकार आपके ग्राहक के साथ में आपकी एक विशेष प्रकार की बॉन्डिंग  भी बन जाएगी|

यदि आपका ग्राहक निर्णय तक नहीं पहुंच रहा|

यदि वह इस बात में उलझ रहा है कि उसे क्या करना चाहिए?

यह स्थिति जब उत्पन्न होती है जब आपका ग्राहक नया हो|

उस समय वह जल्दी से किसी निर्णय पर पहुंचने में असमर्थ रहता है|

उसे सदा डर लगा रहता है कि कहीं वह नुकसान तो नहीं कर देगा?

यही वह समय होता है जब आप उसका सही मार्गदर्शन करके उसे अपना बना सकते हैं|

यह बात भी में उदाहरण  द्वारा आपको बताता हूं|

उदाहरण:-

पहले मैं शुरुआत करता हूं जब मैं नया था|

मेरे शुरुआती दिनों में जब मैं व्यापार के लिए कोई भी ख़रीददारी करता था- उस वक्त मुझे कहीं ना कहीं यह डर भी लगा रहता था कि मेरी कहीं किसी गलती की वजह से मुझे कुछ नुकसान ना लग जाए| 

इसके पीछे एक कारण यह भी था एक एक व्यापार में मैं काफी नुकसान उठा चुका था|

वह नुकसान लगने की प्रक्रिया काफी तेज़ थी क्योंकि मैं बहुत नया था तो मैं उस वक्त समझ ही नहीं पाया कि यह क्या हुआ?

ख़ैर यह नुकसान ही हमें  अनुभव दिलाते हैं|

उसके बाद मैंने दूसरा व्यापार प्रारंभ किया|

उस वक्त  कुछ बहुत ही अनुभवी, विद्वान तथा बेईमान लोगों के संपर्क में भी आया|

अब मैं व्यापारियों की चालाकियों को भली-भांति पढ़ने लगा था|

मुझे यह पता था कि अगर अबकी बार गिर गया तो संभल नहीं पाऊंगा|

उदाहरण

कुछ व्यापारी  मुझे माल के विषय में बार बार पूछने पर मुझे खुद से दो बात ज्यादा बताते थे|

यह बातें मेरे बहुत काम आती थी|

उस दिन मैंने सोच लिया था कि मैं अपने ग्राहक को उसके बार-बार सवाल पूछने पर कभी भी कोई चुभती हुई बात नहीं बोलूंगा|

हमें इस नज़रिए से सोचना चाहिए कि जितनी जल्दी उसका माल बिकेगा उतनी  जल्दी वह आपसे दोबारा माल लेने के लिए आएगा|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: मर्चेंट एक्सपोर्टर तथा मैन्युफैक्चरर एक्सपोर्टर के फ़ायदे तथा नुकसान

Product Pricing

किसी भी उत्पाद को बेचने के लिए उसकी कीमत का बहुत ही मनोवैज्ञानिक प्रभाव होता है| यह जरूरी नहीं कि केवल कीमत ही ग्राहक को आकर्षित करें| पर आप इसका मनोवैज्ञानिक लाभ ले सकते हैं|

सबसे पहले आप जो भी उत्पाद बेचते हैं उसकी 3 कीमतों का निर्धारण करें|

  • निम्न कीमत
  • मध्यम कीमत
  • उच्चतम कीमत
  • आपको ख्याल रखना है कि ग्राहक श्रेणी और उत्पाद कीमत श्रेणी इन दोनों में  अंतर होता है|
  • ग्राहक श्रेणी मैं आपको बता चुका हूं अतःइस कॉलम में मैं आपको उत्पाद कीमत श्रेणी के बारे में समझाता हूं|
  • आपको किसी भी Product को सफलतापूर्वक  बेचने के लिए उत्पाद की भी तीन कीमतों का निर्धारण कर लेना चाहिए|
  • सबसे पहले आपको निम्न कीमत से शुरुआत करनी चाहिए|
  • उसके बाद मध्यम कीमत तथा अंत में उत्तम कीमत के बारे में ग्राहक को बताना चाहिए|
  • अब कीमतों के हिसाब से आपको उस उत्पाद की विशेषताओं के बारे में ग्राहक को बताना चाहिए|
  • आपको कभी भी ग्राहक से उत्पाद के गुणों के बारे में झूठ नहीं बोलना है|
  • इसके लिए आपको अपने उत्पाद का अध्ययन अत्यंत आवश्यक है|

Face Expressions

हाव-भाव, इशारे, हमेशा भाषाओं के बंधन से मुक्त  होते हैं| यह भाषा की तुलना में बहुत ही आसानी से किसी को भी समझ आ सकते हैं|

हंसना-रोना, सुख-दुख, खुशी-गम, चालाकी, बेईमानी, इस तरह के भावों को कोई भी आसानी से समझ सकता है चाहे वह आपकी भाषा का ज्ञान रखता हो या ना रखता हो|

आपको हमेशा अपने ग्राहक से बात करते समय उसके सामने अपने हाव-भाव पर विशेष ध्यान देना चाहिए|

आपके चेहरे पर मुस्कुराहट होनी चाहिए| आपके शरीर में स्फूर्ति होनी चाहिए|

( नोट:- शरीर की स्फूर्ति का मतलब यह नहीं कि आप उसे दौड़ लगाकर दिखाएं)|

मैं दो उदाहरणों द्वारा आपको यह बात समझाता हूं|

जिसमें एक में मैं विक्रेता हूं तथा दूसरे में मैं क्रेता हूं|

उदाहरण 

जिसमें मैं  क्रेता हूं|

एक बार मैं कहीं पर कुछ ख़रीददारी कर रहा था|

विक्रेता इस बात से अनभिज्ञ था कि मैं उसके हाव-भाव को लगातार ध्यान से देख रहा हूं|

उसने अपने कर्मचारी से कहा कि-

“ भाई साहब को वह स्पेशल बढ़िया वाला सैंपल तो दिखा”|

मेरा ध्यान उसके कर्मचारी पर ना होकर उस पर ही था|

उसको लगा कि मेरा ध्यान कहीं ओर  है| यह कहते के साथ ही उसने अपने कर्मचारी को आंख मारी| 

मैं तुरंत समझ गया कि दाल में कुछ काला है और मैंने वहां से ख़रीददारी ना करने का मन बना लिया|

इस उदाहरण से आप समझ गए होंगे की आपके हाव-भाव का आपके ग्राहक पर क्या असर हो सकता है? 

उदाहरण

यह बात मेरे शुरुआती व्यापार के दिनों की है| एक बार एक ग्राहक मुझसे माल लेने के लिए आया|

वह ग्राहक लगभग लगभग माल ख़रीददारी के लिए तैयार हो गया था| 

उस ग्राहक ने मुझसे सैंपल की  जगह वास्तविक उत्पाद को देखने की इच्छा जाहिर की|

हमारा उत्पाद साइज में थोड़ा बड़ा होता है (गद्दे) इसलिए मैं थोड़ा आलस कर गया और मैंने अपने ग्राहक से कहा कि-

”सर बिल्कुल इसी तरह का ही  होगा”|

मेरे इस अंदाज से ग्राहक अंदर ही अंदर नाराज़ हो गया तथा वह बिना सामान ख़रीददारी किए ही चला गया|

इस बात से हमें यह सबक मिलता है कि हमें अंत तक  ऊर्जावान रहना चाहिए|

यदि  आपको यह लेख पसंद आया हो तो comment अवश्य करें? 

धन्यवाद 

Previous articleबेचने के सर्वोत्तम तरीके | Sales marketing & selling tips in Hindi
Next articleहल्दी के फ़ायदे, प्रकार, उपयोग, औषधीय गुण – Turmeric benefits in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!