PM Modi Launches New Schemes For MSMEs: छोटे कारोबार‍ियों के ल‍िए पीएम मोदी का बड़ा ऐलान, सुनकर हो जाएंगे खुश!

358

PM Modi Launches New Scheme For MSME: केंद्र सरकार द्वारा छोटे कारोबार‍ियों के ल‍िए लगातार बेहतर कदम उठाया जा रहा है! इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को सूक्ष्म,लघु एवं मझोले उद्यम (MSME) सेक्‍टर को आश्‍वासन द‍िया क‍ि सरकार द्वारा  छोटे उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिये जरूरी कदम उठाने की तैयारी की जा रही है! साथ ही उन्होंने यह भी यह एमएसएमई उद्यमी सरकार की “आत्मनिर्भर भारत पहल” में अहम भूमिका निभा रहे हैं!

PM Modi Launches New Schemes For MSME

PM Modi Launches New Schemes For MSMEs

एमएसएमई पर प्रधानमंत्री ने क्या कहा?

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘“उद्यमी भारत” कार्यक्रम को संबोधित करते हुए छोटे उद्यमियों से सरकार को वस्तुओं की आपूर्ति के लिये सरकारी खरीद मंच Government e-Marketplace (जीईएम) पोर्टल पर पंजीकरण कराने के ल‍िए भी कहा है! 

साथ ही उन्होंने यह भी कहा की, “एमएसएमई आत्मनिर्भर भारत के लिये बहुत जरूरी है! एमएसएमई क्षेत्र ने पिछले आठ साल में आत्मनिर्भर भारत को एक आकार देने में बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है!”

आठ साल में बजट कितना बढ़ाया?

आठ साल में भारत सरकार द्वारा बजट 650% से अधिक बढ़ाया गया!

मोदी जी ने कहा की, “मैं चाहता हूं कि अगले सप्ताह GEM पोर्टल पर एक करोड़ नये पंजीकरण हो!” 

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, “सरकार ने एमएसएमई सेक्‍टर को मजबूत बनाने के लिये पिछले आठ साल में बजट 650% से अधिक बढ़ाया है!”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा क‍ि यद‍ि कोई उद्योग आगे बढ़ना चाहता है! या विस्तार करना चाहता है तो सरकार न केवल उसे समर्थन कर रही है बल्कि नीतियों में भी जरूरी बदलाव ला रही है!

खादी और ग्रामोद्योग पर क्या असर पड़ा?

यही नहीं खादी और ग्रामोद्योग का कारोबार एक लाख करोड़ के पार पहुँच गया!

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि, “खादी और ग्रामोद्योग का कारोबार पहली बार एक लाख करोड़ के पार पहुंचा है! खादी बिक्री पिछले आठ साल में चार गुना तक बढ़ी है!”

इससे पहले भी, मोदी ने एमएसएमई के प्रदर्शन को बढ़ाने और उसे गति देने को लेकर 6 हज़ार करोड़ रुपये की योजना “RAMO” ‘रैंप’ (रेजिंग एंड एक्सिलेरेटिंग एमएसएमई परफार्मेन्स) की शुरुआत की थी!

साथ ही उन्होंने वस्तुओं और सेवाओं के निर्यात (EXPORT) को प्रोत्साहित करने के लिये ‘पहली बार निर्यात करने वाले MSME Exporters की क्षमता निर्माण (सीबीएफटीई) की योजना शुरू की!

साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) की नई विशेषताओं की भी शुरुआत भी की!

इसमें विनिर्माण क्षेत्र (Manufacturing area) के लिये अधिकतम परियोजना लागत 2500,000 रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये तथा सेवा क्षेत्र में 10,00000 रुपये से बढ़ाकर 20 लाख रुपये करना शामिल है!

साथ ही यह भी अवश्य देखें:

एमएसएमई क्या है

लघु उद्योग क्या होता है

एक्सपोर्ट बिजनेस कैसे करे

मर्चेंट एक्सपोर्टर तथा मैन्युफैक्चरर एक्सपोर्टर के फ़ायदे तथा नुकसान 

Previous articleनियोबैंक: क्या होता है?, NIYO bank के फायदे तथा लिस्ट
Next articleBOB Aadhar Center Good News: सिर्फ 7 दिनों में, खोलें अपने गांव में ‘नया आधार सेवा केंद्र‘ होगी बंपर कमाई!
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!