क्रिप्टो करेंसी क्या है? | Cryptocurrency meaning in Hindi

531

इस आर्टिकल में मैं आपको क्रिप्टोकरेंसी क्या है? तथा Cryptocurrency meaning in hindi के बारे में विस्तार से बताऊँगा|

इसके हर पहलू से आपको रू-ब-रू कराऊँगा, साथ ही बताऊँगा कि इसका भारत में इसका चलन है या नहीं?

भविष्य में इसका कैसे इस्तेमाल कैसे होगा? क्रिप्टोकरेंसी की पूरी एबीसीडी के बारे में खुलकर समझते हैं|

दोस्तों, सबसे पहले हम क्रिप्टो करेंसी का हिंदी अर्थ समझ लेते हैं| 

विषय सूची | Page index

Cryptocurrency meaning in Hindi (क्रिप्टोकुरेंसी मीनिंग इन हिंदी)

Cryptocurrency meaning in Hindi: “गुप्त पैसा, छुपा हुआ पैसा, डिजिटल पैसा, छिपा हुआ पैसा”

क्रिप्टो करेंसी क्या है? 

Cryptocurrency दो शब्दों CRYPTO + CURRENCY से मिलकर बना शब्द है| Crypto एक लैटिन भाषा का शब्द है जो cryptography से बना है, इसका मतलब होता है, छुपा हुआ या छुपी हुई|

Currency भी लैटिन के Currentia से आया है, इसका अर्थ रुपये-पैसों के लिए इस्तेमाल होता है|

यानि क्रिप्टोकरेंसी का अर्थ हुआ गुप्त पैसा या छुपा हुआ पैसा या डिजिटल रुपया|

क्रिप्टोकरेंसी एक तरह का digital currency है, जिसे आप छू तो नहीं सकते, लेकिन रख सकते हैं|

यानी यह currency का एक digital रूप होता है|

यह किसी नोट या सिक्के की तरह ठोस रूप में आपकी जेब में नहीं होती, यह पूरी तरह से online होती है| 

इसे और आसान भाषा में ऐसे समझते हैं की कि हर देश की अपनी एक मुद्रा (Currency) है, जैसे कि: अमेरिका के पास डॉलर, भारत के पास रुपया, सउदी अरब के पास रियाल, इंग्लैंड के पास यूरो है|

प्रत्येक देश की अपनी-अपनी करेंसी होती हैं|

यानी एक ऐसी धन-प्रणाली होती है जो किसी देश के द्वारा मान्य हो और वहां के लोग इसके इस्तेमाल से जरूरी चीजें खरीदने या वित्तीय लेनदेन के लिए कर सकते हों,

यानी जिसकी कोई वैल्यू हो वह करेंसी (Currency) कहलाती है|

आसान भाषा में कहें तो क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल कैश प्रणाली है, जो कम्प्यूटर के एल्गोरिदम पर बनी होती है| यह सिर्फ डिजिट के रूप में ऑनलाइन रहती है| 

अभी तक इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है| शुरुआत में क्रिप्टो करेंसी को अवैध करार दिया गया था, परंतु बाद में Bitcoin की बढ़ती लोकप्रियता के चलते इसे कई देशों में लीगल कर दिया है|

कुछ देश तो अपनी खुद की क्रिप्टोकरेंसी ला रहे हैं और कुछ इसे लीगलाइज करने के लिए काम कर रहे हैं| Bitcoin अभी तक दुनिया की सबसे महंगी वर्चुअल करेंसी है

क्रिप्टो करेंसी क्यों और किसने बनाई?

इस बारे में बहुत सारे लोग मानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी का उदय  सन 2009 में सतोशी नाकामोतो ने शुरू किया था, लेकिन ऐसा नहीं है| 

इससे पहले भी कई निवेशकों ने या देशों ने डिजिटल मुद्रा पर काम किया हुआ था| 

यूएस ने 1996 मुख्य इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड बनाया था, यह ऐसा गोल्ड जिसे रखा नहीं जा सकता था, लेकिन इससे दूसरी चीजें खरीदी जा सकती थीं|

हालांकि 2008 इसे बैन कर दिया गया था| ठीक वैसा ही 2000 की साल में नीदरलैंड ने पेट्रोल भरने के लिए कैश को स्मार्ट कार्ड से जोड़ा था| 

Cryptocurrency कैसे काम करती है?

पिछले कुछ सालों से क्रिप्टोकरेंसी मुद्राओं की लोकप्रियता और मांग बढ़ी है| 

इनका लेनदेन ब्लॉकचेन सॉफ्टवेयर प्रणाली पर होता है|  

यह डिजिटल मुद्रा इनक्रिप्टेड यानी कोडेड होती हैं| इसे एक डिसेंट्रेलाइज्ड सिस्टम के जरिए मैनेज किया जाता है|

यानी कि इसमें हेर-फेर करने के लिए प्रत्येक सिस्टम में हेरफेर करना पड़ेगा| 

इसमें प्रत्येक लेन-देन का डिजिटल सिग्नेचर द्वारा वेरिफिकेशन किया जाता है| 

क्रिप्टोग्राफी की मदद से इनका रिकॉर्ड रखा जाता है|

इसके जरिए खरीदी (purchased) को क्रिप्टो माइनिंग (Cryptocurrency Mining) कहा जाता है, क्योंकि हर जानकारी का डिजिटल रूप से डेटाबेस तैयार करना पड़ता है|

जिनके द्वारा यह डिजिटल माइनिंग की जाती है, उन्हें माइनर्स कहा जाता है. 

आसान भाषा में समझें तो क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारिक एक वर्चुअल करेंसी है, जो क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित रहती है| 

यह सारा काम पावरफुल कंप्यूटर्स के जरिए होता है| इसके कोड को कॉपी करना लगभग नामुमकिन है, इसलिए और भी अधिक सुरक्षित हो जाती है| 

क्रिप्टो करेंसी का लेनदेन कैसे होता है?

क्रिप्टोकरेंसी में जब भी कोई ट्रैंजेक्शन होता है तो इसकी जानकारी ब्लॉकचेन में दर्ज होती है, यानी उसे एक ब्लॉक में रखा जाता है|

इस ब्लॉक की इंक्रिप्शन और सिक्योरिटी का काम माइनर्स का होता है, इसके लिए उन्हें एक क्रिप्टोग्राफिक (Cryptographic) पहेली को हल कर ब्लॉक के लिए उचित Hash (एक कोड) खोजना होता है| 

क्या होता है हैश खोजने के बाद? 

जब कोई माइनर पुख्ता hash खोजकर ब्लॉक को सिक्योर कर देता है तो उसे ब्लॉकचेन से जोड़ दिया जाता है और नेटवर्क में दूसरे नोड (Computers) के जरिए उसे वेरिफाई किया जाता है|

इस प्रक्रिया को आम सहमति (consensus) कहा जाता है. 

क्या होता है आम सहमति मिलने के बाद?

अगर consensus हो गया तो समझिए ब्लॉक के सिक्योर होने की पुष्टि हो गई| जब वह सही पाया जाता है तो उसे सिक्योर करने वाले माइनर को क्रिप्टोक्वॉइन (cryptocoin) दे दिए जाते हैं|

यह एक रिवार्ड होता है जिसे काम का सबूत माना जाता है|

क्रिप्टो करेंसी कितने की तरह होती हैं?

अब! आपके दिमाग में एक सवाल यह भी उठ रहा होगा कि यदि है डिजिटल रूप में है तो यह कितने तरह की होती है होगी?

देखा जाये तो अभी तक कुल 1850 से ज्यादा क्रिप्टो मुद्राएं उपलब्ध हैं, जिन्हें आप Bitcoin के अलावा भी इस्तेमाल कर सकते हैं|

Cryptocurrency List

  • Ethereum
  • Binance coin
  • Kusama
  • Quant
  • ZCash
  • Terra
  • Helium
  • Cosmos
  • Uniswap
  • Qtum
  • DyDx
  • Thorchain
  • OMG Network
  • Sushi
  • Synthetix Network
  • The sandbox
  • Tezos
  • Theta Token
  • EOS
  • Curve
  • Decentraland
  • 1Inch
  • Enjin Coin
  • Loopring
  • Polygon
  • Algorand
  • Fantom
  • ICON
  • USD Coin
  • Ripple
  • The Graph
  • Chromia
  • Alpaca Finance
  • Gala
  • Polymath
  • Phoenix Global
  • Wax
  • Flamingo
  • Civic
  • Chiliz
  • Stellar Lumens
  • Harmony
  • Tron
  • SHIBA INU 

क्रिप्टोकरेंसी कैसे भरोसा करें?

कुछ बुद्धिजीवी लोगों ने भविष्यवाणी की थी कि बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी लगभग $180-$200 के आसपास आकर खत्म हो  जाएगी, लेकिन लोगो द्वारा यह अभी भी बड़े पैमाने पर अपनाने के साथ और यह अधिक विश्वास प्राप्त कर  रही है| हालांकि, सितंबर 2020 के बाद से कीमत लगभग दोगुने से अधिक है. 

देशों की क्रिप्टोकरंसी के बारे में राय 

हालांकि, इस बात पर बहस होती रही रहती है कि यह बबल स्पेस में है और किसी भी समय फट सकता है, लेकिन बड़े पैमाने पर नए निवेशकों द्वारा प्रवेश करने और स्वीकृति से और अधिक वैल्युएबल हो गया है|

भरोसा तो करना ही पड़ेगा क्योंकि कई देश अब अपनी क्रिप्टोकरेंसी लाने पर भी विचार कर रहे हैं|

पहले सरकारें इसे बैन करने पर विचार कर रही थी, लेकिन अब इसमें नरमी देखी गई है|

मैंने अपनी पिछली पोस्ट में एक जगह बताया है कि जिस विषय को सरकार कंट्रोल नहीं कर सकती उस विषय को सरकार Regularize कर देती है| 

भारतीय मार्केट कौन-कौन से प्लेयर हैं?

Cryptocurrency हमारे मोबाइल वॉलेट से काफी मिलती-जुलती हैं, जहां पर हम अपना पैसा स्टोर करते हैं और उसी के द्वारा ट्रांजेक्शन करते हैं|

CoinDCX, WazirX, CoinSwitch, Krypto, Bitbns, BybitUnocoin, Zebpay jaise mobile app हैं जो cryptocurrency के कारोबार में हैं| 

WazirX के फाउन्डर का क्या कहना है?

WazirX के CEO और फाउंडर निश्चल शेट्टी ने एक इंटरव्यू में कहा था की, ‘भारत में अभी इसे लेकर बहुत कनफ्यूजन है, क्योंकि देश में इसके लिए कोई रेगुलेशन नहीं है| लोग इसके बारे में सुनते हैं तो डर जाते हैं| वास्तव में इंटरनेट पर मौजूद बहुत सारी चीजें अनरेगुलेटेड हैं| जैसे की: uber, ola सहित ई-कॉमर्स स्टोर भी अनरेगुलेटेड हैं| इन्वेस्टर्स के लिए सबसे जरूरी बात यह है कि रेगुलेटेड नहीं होने से स्कैम और फ्रॉड की संभावना भी बढ़ जाती है|”

क्रिप्टो कैसे बेचें और खरीदें?

इस सवाल का जवाब अब और भी आसान हो गया है| अपनी बढ़ती लोकप्रियता के चलते अब! बाजार में ढेरो crypto exchange platforms उपलब्ध हैं| 

ऐसे में देश में Bitcoin और Ethereum जैसी क्रिप्टोकरेंसी को बेचना और खरीदना काफी आसान है|

पॉपुलर प्लेटफॉर्म्स में CoinDCX GO, WazirX, Coinswitch, और Zebpay जैसे नाम शामिल हैं|

इन्वेस्टर्स Binance और Coinbase जैसे इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म्स से Ethereum, Bitcoin और Dogecoin जैसी दूसरी क्रिप्टोकरेंसी भी आसानी से खरीद सकते हैं|

सबसे खास बात यह है कि खरीदारी के ये सभी प्लेटफॉर्म 24 hours  खुले रहते हैं|

क्रिप्टोकरेंसी को बेचने और खरीदने की प्रक्रिया भी काफी आसान है|

आपको इन प्लेटफॉर्म्स पर केवल साइन अप करना होगा| अपना KYC प्रोसेस पूरा करने के बाद वॉलेट में मनी ट्रांसफर करना होगा| इसके बाद आप आसानी से खरीदारी कर पाएंगे| 

क्रिप्टोकरन्सी के साथ क्या-क्या किया जा सकता है?

जुलाई में क्रिप्टोकरेंसी से दुनिया का सबसे महंगा हीरा खरीदा गया है| इससे यह साफ हो गया है कि भविष्य में, इससे भौतिक चीजें भी खरीदी जा सकेंगी|

हालांकि क्रिप्टोकरेंसी को  सिक्कों  और नोट के रूम में प्रिंट नहीं किया जा सकता, लेकिन फिर भी इसकी अपनी एक वैल्यू है|

Cryptocurrency से आप सामान खरीद सकते हैं, इन्वेस्ट कर सकते हैं और trade कर सकते हैं, लेकिन इसे अपनी तिजोरी में नहीं रख सकते और ना ही बैंक के लॉकर में रख सकते हैं क्योंकि, यह Digits के रूप ऑनलाइन रहती है|

इसलिए ही इसे डिजिटल मनी,  इलेक्ट्रॉनिक मनी और वर्चुअल मनी भी कहा जाता है| सामान्यतः इसकी वैल्यू फिजिकल करेंसी से कहीं ज्यादा होती है|

कुछ टॉप क्रिप्टोकरेंसी की वैल्यू तो डॉलर से भी बहुत ज्यादा है|

Cryptocurrency exchange क्या है?

वह जगह जहां पर cryptocurrencies की ट्रेडिंग और  खरीद-फरोख्त होती है| इसे Digital Currency Exchange (DCE), cryptocurrency Exchange, Coin market और Crypto Market जैसे नामों से भी जाना जाता है| 

Digital Currency का भविष्य क्या है?

चलिए अब जानने की कोशिश करते हैं की आखिर! क्रिप्टो करेंसी का भविष्य क्या है? Bitcoin के बारे में दो बातें सबसे अहम हैं- पहली, यह एक डिजिटल यानी इंटरनेट के ज़रिए इस्तेमाल होने वाली मुद्रा है और दूसरी, इसे पारंपरिक मुद्रा के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है|

क्रिप्टोकरेंसी को इस समय भरोसे के संकट का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि सरकारें इसे शक़ की निगाहों से देख रही हैं और इसे पारंपरिक करेंसी के लिए ख़तरा मानती हैं|

सरकारों को यह भी लगता है कि क्रिप्टोकरेंसी ऐसी वर्चुअल दुनिया का हिस्सा है जो सरकार के कंट्रोल से मुक्त होने की कोशिश कर रही है और वास्तविक दुनिया के समानांतर चलने के साथ-साथ उसको चुनौती देने की कोशिश कर रही है|

इस पर सरकार का क्या है रुख?

अहम बात यह है कि केंद्र सरकार द्वारा नए प्रस्तावित बिल में क्रिप्टो करेंसी पर पूरी तरह से पाबंदी लगाई जा सकती  है| 

इसके regarding वर्ष 2017 में केंद्र द्वारा एक कमेटी का गठन किया गया था| इस कमेटी ने केंद्र सरकार को क्रिप्टो करेंसी पर पाबंदी लगाने का प्रस्ताव दिया था|

ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी के जानकारों का मानना है कि आने वाले दिनों में सरकार द्वारा सभी क्रिप्टो करेंसी पर पाबंदी लगाने का फैसला ले सकती है|

FAQ: क्रिप्टो करेंसी क्या है?: cryptocurrency meaning in Hindi

ऑल ओवर वर्ल्ड में क्रिप्टोकरेंसी कितने प्रकार की होती है?

अभी लगभग 1850 से से ज्यादा क्रिप्टोकरंसी उपलब्ध हैं|

क्रिप्टोकरेंसी का इन्वेस्टमेंट भारत में कब से शुरू हुआ?

क्रिप्टो करेंसी का भारत में इन्वेस्टमेंट लगभग 2010 में शुरू हुआ था|

भारत में क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेनिंग के लिए सबसे अच्छा ऐप कौन सा है?

CoinDCX, Wazirx

क्रिप्टो करेंसी से रुपया में बदलने वाले ऐप

Wazirx, CoinDCX

क्रिप्टो करेंसी में तेजी कब आएगी?

जैसे ही, सरकार द्वारा क्रिप्टोकरंसी के लिए नए नियम कायदे बन जाएंगे तथा क्रिप्टोकरंसी के लिए रेगुलेटरी बोर्ड की स्थापना हो जाएगी, भारत में वैसे ही क्रिप्टोकरंसी में तेजी आ जाएगी|

क्रिप्टो करेंसी डाउन क्यों हो रही है?

अभी सरकार द्वारा क्रिप्टोकरंसी के विषय में नकारात्मक पहलुओं की वजह से क्रिप्टो करेंसी डाउन हो रही है|

क्रिप्टो करेंसी का बाजार आगे का क्या रहेगा?

आने वाला भविष्य क्रिप्टो करेंसी ही रहेगा, क्योंकि यह ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित होती है, जिसमें हेराफेरी करना लगभग नामुमकिन है| साथ ही इससे फिजिकल करेंसी में लगने वाले कच्चे पदार्थों की बचत होगी|
जैसे कि: फिजिकल नोट में पेड़ों की कटाई तथा धातु को गलाने से होने वाले प्रदूषण मुख्य है|

नई लॉन्च क्रिप्टोकरेंसी

नई लॉन्च क्रिप्टोकरेंसी ये हैं: Gala, Flamingo, Chromia, MyNeighborAlice, ICON, Helium, Near Protocol, Quant, IoTex, Wax, Chiliz

हम 1 घंटे पहले कैसे पता करेंगे कि क्रिप्टो करेंसी का रेट 1 घंटे बाद ऊपर जाएगा या नीचे जाएगा?

इसे पता करना लगभग नामुमकिन है| आप केवल उस करेंसी का प्राइस चार्ट और डिटेल देखकर केवल उसका अनुमान लगा सकते हैं|

भारत में क्रिप्टो करेंसी को अनुमति न देने के क्या कारण हैं?

भारत में क्रिप्टो करेंसी अनुमति न देने के कारण यह है:
1- सरकार का मानना है कि यह एक समानांतर इकॉनमी  बन जाएगी| 
2- अभी सब लोग साक्षर नहीं है ऐसे में उनको बहुत ज्यादा नुकसान लग सकता है|
3-  अभी तक इसके लिए ठीक से नियम नहीं बने हैं|
4-  इंटरनेट की हर कहीं पहुंच ना हो पाना|
5- सबसे मुख्य बात यह है कि सरकार का इस पर नियंत्रण कैसे रहेगा? सरकार को यह भी डर है कि फ्रॉड जैसे मामलों का निपटारा कैसे किया जाएगा? 
6- इंटरनेट फ्रॉड जैसे मामलों को सुलझाने में अभी हम बहुत पीछे हैं|

साथ ही यह भी अवश्य पढ़ें:

e-Rupi क्या है?

E-Marketing कैसे करें?

ओनलाइन पैसा कमाने का तरीका

दुबई में बिजनेस सेटअप कैसे करें? (business setup in Dubai)

आपने क्या जाना?

दोस्तों, आपने इस पोस्ट के माध्यम से क्रिप्टो करेंसी क्या है? तथा Cryptocurrency meaning in hindi के बारे में जाना|

उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी!

अगली पोस्ट में फिर मिलेंगे तब तक के लिए नमस्कार,

धन्यवाद

Previous articleशेयर मार्केट टिप्स, ट्रिक्स, आइडियाज 2022 | Share market trading tips in Hindi
Next articleCrypto Bill News: इस सत्र में क्रिप्टो बिल लाना मुश्किल!!, नहीं बनी एक राय
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!