कंपनियों के प्रकार: Company limited by guarantee & limited by shares

869

Company limited by guarantee, Shares & Unlimited liability: इस पोस्ट में हम “दायित्व (Liability) के आधार पर कंपनियों के प्रकार क्या होते हैं?” इसके बारे में पढ़ेंगे| 

दायित्व के आधार पर तीन प्रकार की कंपनियां होती है| 

1- Company limited by guarantee 

2- Company limited by shares 

3- Unlimited liability 

Company limited by guarantee

Company limited by guarantee meaning in Hindi: “प्रत्याभूति द्वारा परिसीमित कंपनी”

कंपनी के नुकसान या बंद (समापन-Wind Up) होने की स्थिति में, इसके सदस्यों का दायित्व लिमिटेड होता है|

जितने भी इसके सदस्यों द्वारा शेयर खरीदे गए हैं, जितना भी पैसा उन्होंने चुकाया नहीं है उनका दायित्व उतना ही माना जाएगा| यहां पर कंपनी के सदस्यों की बात हो रही है, ना कि डायरेक्टर्स की| 

यदि गारंटी द्वारा सीमित कंपनी में कोई सदस्य समापन से पहले बाहर निकलता है तो, उसे निर्दिष्ट राशि का भुगतान नहीं करना पड़ेगा|

Company limited by shares का उदाहरण

एक व्यक्ति ने कंपनी के शेयर खरीदे| शेयर खरीदने के बाद इसे शेयर होल्डर (मेंबर या सदस्य) कहा जाएगा|

इसने एक लाख रुपए के शेयर खरीदे थे| लेकिन उसने अभी तक कंपनी को 50 हजार रुपए ही दिए हैं| 

ऐसी स्थिति में कंपनी यदि बंद (समापन-Wind Up) होने की स्थिति में चली जाए|

सबसे पहले कंपनी अपने करदाताओं को कर्ज  चुकाएगी| इसके लिए कंपनी अपनी संपत्ति को बेचना शुरू करेगी| 

रकम पूरी ना होने की स्थिति में वह इस सदस्यों से अपने बकाया की मांग करेगी| कंपनी द्वारा इस व्यक्ति से केवल 50 हजार रुपए की ही मांग की जा सकती है| 

इस व्यक्ति की देनदारी केवल 50 हजार रुपए ही बनेगी| 

यदि इसने पहले ही शेयर्स की सारी रकम का भुगतान कर दिया होगा तो इसकी देनदारी ₹0 होगी| 

यानी की इस सदस्य को जितना भी शेयर कैपिटल देना है वह पहले ही दे चुका है| 

Company limited by shares 

Company limited by guarantee meaning in Hindi: “अंशों द्वारा परिसीमित कंपनी”

जितनी भी किसी व्यक्ति के द्वारा गारंटी ली जाएगी, केवल उतने ही पैसे उसे देने पड़ेंगे| 

जैसे की: यदि किसी  व्यक्ति ने ₹500000 की गारंटी ली है तो, कंपनी के नुकसान या बंद (समापन-Wind Up) होने की स्थिति में उसे केवल ₹500000 ही चुकाने पड़ेंगे| कंपनी केवल नुकसान या बंद होने की स्थिति में ही पैसे की मांग कर सकती है| इससे पहले, किसी भी प्रकार से, वह इस धनराशि की मांग नहीं कर सकती है| 

Company limited by guarantee का उदाहरण:

यह व्यक्ति भी कंपनी का मेंबर है| इस केस में किसी व्यक्ति द्वारा शेयर्स नहीं खरीदे जाएंगे| बल्कि यह केवल गारंटी लेगा|

यह कितने की भी गारंटी ले सकता है| मान लीजिए इसने 5 लाखों रुपए की गारंटी ली| 

अब! कंपनी के सामने ऐसी स्थिति आ जाती है कि उसे कर्जदारों का कर्ज चुकाना है या फिर कंपनी बंद होने की कगार पर आ गई है| 

ऐसी स्थिति में! कंपनी इस व्यक्ति से 5 लाख रुपए की डिमांड कर सकती है| इस व्यक्ति को यह 5 लाख रुपए देने पड़ेंगे| 

यानी कि इस स्थिति में 5 लाख रुपए की लायबिलिटी लिमिटेड है| 

यदि कंपनी का काम कम में चल जाता है तो वह कम की डिमांड कर सकती है, परंतु वह ज्यादा जरूरत होने पर पांच लाख रुपए से ज्यादा की डिमांड नहीं कर सकती|इस प्रकार की गारंटी को  Company limited by guarantee कहा जाता है| 

Unlimited liability 

Unlimited liability meaning in Hindi: “असीमित दायित्व”

कंपनी के नुकसान या बंद (समापन-Wind Up) होने की स्थिति दायित्व (Liability) की कोई लिमिट नहीं होती|

यह गारंटी, सोल प्रोपराइटरशिप या पार्टनरशिप फर्म की तरह ही व्यवहार करती है| कंपनी कर्ज चुकाने के लिए आपसे कितना भी पैसा मांग सकती है| इसके लिए चाहे आपकी निजी संपत्ति ही क्यों ना बेचनी पड़े! 

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मामले में यदि यह गारंटी प्रमोटरों ने ली है तो उन्हे पैसा देना पड़ेगा| यदि प्रमोटरों ने कोई व्यक्तिगत गारंटी निष्पादित नहीं की है तो उन्हे कोई पैसा नहीं देना पड़ेगा|

Unlimited liability का उदाहरण:

एक व्यक्ति कंपनी का सदस्य है| इसने Unlimited liability ली हुई है| 

अब! इस केस में भी कंपनी के साथ वही सिचुएशन आ गई कि या तो उसे कर्जदारों का कर्ज चुकाना है या फिर वह बंद होने  जा रही है| 

कंपनी को इस सबके लिए बहुत अधिक पैसे की भी आवश्यकता है| अपनी सारी संपत्ति बेचने के बाद भी उसको बहुत सारा कर्जा चुकाना है| 

ऐसी स्थिति में कंपनी Unlimited liability लेने वाले मेंबर से कितनी भी धनराशि की डिमांड कर सकती है|  

यानी कि कंपनी को कर्ज पूरा करने के लिए जितने भी बचे हुए पैसों की आवश्यकता है| 

अब भैया! चाहे इस मेंबर के घर के बर्तन भांडे भी बिक जाएं, इसको यह पैसा देना ही पड़ेगा, क्योंकि इसने अपने दायित्व की लिमिटेशन नहीं बांधी| 

साथ ही यह भी अवश्य पढ़ें:

सेक्शन 8 कंपनी क्या होती है?

वन पर्सन कंपनी क्या होती है तथा इसका लाभ कैसे लें?

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी क्या होती है तथा इसके क्या फ़ायदे हैं?

स्मॉल कंपनी क्या होती है? इसकी परिभाषा तथा फ़ायदे क्या हैं?

आपने क्या सीखा? 

इस पोस्ट के माध्यम से आपने  “Company limited by guarantee” “Company limited by shares” तथा “Unlimited liability” क्या होती है? इसके बारे में सीखा| 

उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट अवश्य पसंद आई होगी|

कृपया इस पोस्ट को अधिक से अधिक मात्रा में शेयर अवश्य करें| नमस्कार

धन्यवाद

Previous articleIntraday Trading क्या होती है? | Difference between intraday and delivery
Next articleकंपनी को बंद कैसे करते हैं?: कंपनी का समापन | Winding Up of a company in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!