Tax News: टैक्स दरों में बदलाव संभव तथा शक के आधार पर नहीं रुकेगा टैक्स क्रेडिट

91

टैक्स दरों में बदलाव पर राय देगी इंडस्ट्री, साथ ही तर्क भी देने होंगे 

नई दिल्ली: वित्त मंत्रालय ने 2022-23 देश के बजट के लिए व्यापार निकायों और उद्योग निकायों से टैक्स के मसले पर सुझाव मांगे हैं| 

अगला आम बजट कोविड-19 महामारी से प्रभावित भारत की अर्थव्यवस्था की ग्रोथ की दिशा करने वाला होगा| 

व्यापार और उद्योग संगठनों को भेजे पत्र में वित्त मंत्रालय ने अप्रत्यक्ष कर तथा प्रत्यक्ष कर दोनों की शुल्क संरचना में बदलाव, दरों और कर आधार को व्यापक करने के बारे में सुझाव आमंत्रित किए हैं|

उद्योग संगठनों को अपने सुझावों के साथ यह भी बताना होगा कि आर्थिक रूप से इनकी क्यों जरूरत है? 

मंत्रालय को यह सुझाव 15 नवंबर तक भेजे जा सकते हैं|

मंत्रालय ने कहा, “आपके सुझावों और विचारों में उत्पादन, कीमत तो, सुझाए गए  परिवर्तनों के राज्य स्वभाव का उल्लेख होना चाहिए| प्रस्ताव को क्यों स्वीकार किया जाए उसके समर्थन में  प्रासंगिक सांख्यिकीय जानकारियों का भी उल्लेख होना चाहिए|”

2022 23 का बजट अगले साल 1 फरवरी को संसद में पेश किए जाने की उम्मीद है| यह मोदी 2.0 सरकार और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का चौथा आम बजट होगा|

सिर्फ शक के आधार पर नहीं रुकेगा टैक्स क्रेडिट

अब! केवल संदेह के आधार पर GST फील्ड ऑफिसर इनपुट टैक्स क्रेडिट को ब्लॉक नहीं कर सकेंगे|

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स एंड  कस्टम्स ने टैक्स क्रेडिट को ब्लॉक करने से जुड़े दिशा निर्देश जारी किए हैं|

इसके तहत अब टैक्स क्रेडिट को महज संदेह की बजाय तथ्यों के आधार पर ब्लॉक किया जा सकेगा| सीबीआई ने 5 परिस्थितियां तय की हैं जिसमें टैक्स क्रेडिट को ब्लॉक किया जा सकेगा| 

इसमें प्रमुख हैं: बिना किसी इनवॉइस/ वैध दस्तावेज के क्रेडिट हासिल करना या किसी इनवॉइस पर खरीद्वार द्वारा क्रेडिट हासिल करना जिस पर विक्रेता ने जीएसटी नहीं चुकाया हो|

सीबीआई के अनुसार कमिश्नर या कमिश्नर द्वारा प्राधिकृत किए गए अधिकारी को ही क्रेडिट ब्लॉक करने की इजाजत होगी|

कमिश्नर असिस्टेंट कमिश्नर से नीचे बैंक के किसी अधिकारी को इस काम के लिए नहीं प्राधिकृत कर सकेगा| इसके अलावा सभी तथ्यों की जांच करने के बाद ही क्रेडिट पर रोक लगाई जा सकेगी

सेक्शन 861 के तहत प्रावधानों का इस्तेमाल करने के लिए सावधानी से जांच करनी होगी और इलेक्ट्रिक क्रेडिट लेजर से पैसों के डेबिट को रोकने की प्रक्रिया मैकेनिकल तरीके से होगी|

साथ ही यह भी अवश्य देखें:

जीएसटी क्या है ?

खुद का बिजनेस कैसे शुरु करें? (How to start a business)

affiliate marketing क्या होती है?

दुबई में बिजनेस सेटअप कैसे करें? (business setup in Dubai)

Previous articleRBI ने ऑनलाइन पेमेंट नियमों में बदलाव कर नियमों को किया सख्त!
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!