बेचने की कला में कैसे सुधार करें? | sale skills improvement tips in Hindi

188

Best Selling skills improving tips | sales skills in hindi| इस आर्टिकल में आप selling skills तथा sales skills को आप कैसे इम्प्रूव कर सकते हैं इसके बारे में पढ़ोगे| आपको अपने selling skills improve करने के लिए जीतने भी sales skills चाहिए उनमे से काफी इस आर्टिकल के माध्यम से आप समझ सकते हो|

मैं अपने पूरे मन से यह पोस्ट लिख रहा हूँ| कृपया आप भी इसे पूरा पढ़ें! 

इस पोस्ट को और ज्यादा अच्छी तरह समझने के लिए आपको नीचे दी गई तीन पोस्ट भी अवश्य पढ़नी चाहिए| यह चारों पोस्ट एक दूसरे की पूरक हैं

1- प्रोडक्ट कैसे बेचें?

2- ग्राहक को संतुष्ट करने के महत्वपूर्ण तरीके

3- consumer behaviour study tips & tricks: in Hindi 

कोई भी product sell करने के लिए आपके अंदर selling skills का होना जरूरी है| 

इस पोस्ट के माध्यम से आप selling skills training ले सकते हैं| आपको selling skills improvement का कोई कोर्स करने की भी कोई जरूरत नहीं है|

यह selling skills आप कहीं से खरीद नहीं सकते| ये selling skills केवल प्रयासों द्वारा अपने अंदर समाहित किए जा सकते हैं| 

Product selling skills को सीखने के लिए आपको क्या करना चाहिए? यह इस लेख में बताया गया है| 

इस विषय में मैं आपको सफलतापूर्वक किसी भी उत्पाद को बेचने के लिए आप अपने  selling skills का किस तरह इस्तेमाल करेंगे? यह बताऊंगा|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: कंपनी क्या होती है?, भारत में कैसे खोले? तथा कंपनी तथा साझेदारी में क्या अंतर होता है?

इसमें मैं घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय व्यापार दोनों के बारे में बताऊंगा|

इसमें लगभग एक जैसी ही चीजें हैं कुछ चीजों को छोड़कर|

आप इन सारे विषयों को अच्छी तरह समझ लीजिए फिर चाहे घरेलू बाज़ार हो या अंतरराष्ट्रीय बाज़ार आपको कहीं भी अपना माल बेचने में किसी भी चीज़ की दिक्कत नहीं होगी|

व्यवहार कैसे करें?

एक ग्राहक की तरह सोचें और एक विक्रेता की तरह कार्य करें: Think Like A Buyer and Act Like A Seller

आपको अच्छा विक्रेता बनने के लिए ग्राहक की तरह से सोचना होगा|

इससे आपके selling skills में बहुत अच्छी तरह से समझ जाएंगे की आपको क्या करना है? क्या बोलना है?

यदि आपको यही नहीं पता होगा की ग्राहक आपकी किस बात पर क्या सोच सकता है? तो आप उसे समझोगे कैसे?

Sample Packing कैसे करनी चाहिए?

जब भी हमें अपने ग्राहक को सैंपल पीस भेजना हो तो हमें एक बात ध्यान रखनी है कि यह ठीक उसी प्रकार होता है|

जैसे कोई शादी के लिए अपनी फोटो भेज रहा हो!

कहने का मतलब यह है कि वह उस सैंपल की पैकिंग पर मोहित होना चाहिए| इससे आपकी selling skills भी बढ़ेगी|

यदि आपने पैकिंग ही अच्छी नहीं करी तो आपका उत्पाद उसे आकर्षक नहीं लगेगा और आपकी डील खराब भी हो सकती है| 

आपको सैंपल भेजते समय यह भी सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि वह ट्रांसपोर्टेशन के दौरान खराब ना होने पाए क्योंकि ग्राहक उसे अपने पास पहुंचने पर देखेगा कि वह उसे कैसा लग रहा है?

यह भी एक मनोवैज्ञानिक कारण है| आप सब को इस बात को मुख्य तौर पर अपने जहन में बैठा लेना है|

साथ ही आप की कोशिश यह होनी चाहिए कि आपका माल सैंपल से भी अच्छा हो जिससे कि आपको जल्दी से जल्दी दोबारा आर्डर मिल सके|

किसका फायदा सोचें?

यह भी देखें: इँकोटर्म्स क्या होती हैं? तथा इनका एक्सपोर्ट इंपोर्ट बिजनेस में क्या महत्व है?

केवल अपने फायदे के बारे में ही ना सोचे (Don’t just think about your benefits)

आपकी हमेशा यही कोशिश रहनी चाहिए कि आपका कोई भी इस प्रकार का मिला हुआ लाभ जो कि आपके ग्राहक को नुकसान लगाकर आपको मिल रहा है|

वह हमेशा ही हानिकर रहेगा| आपको हमेशा अपने ही फायदे के बारे में नहीं सोचना चाहिए|

हमेशा ग्राहक की जगह आकर यह सोचना चाहिए| यदि आप उसकी जगह होते तो आप अपने विक्रेता से किस तरह की अपेक्षाएँ करते|

आपकी इस विशेषता के कारण आपका ग्राहक आपकी तरफ आकर्षित होता चला जाएगा|

मैंने इस बात को बहुत बार आज़माया भी है कि जिस तरह का व्यवहार आप दूसरों के साथ करोगे बदले में उसी तरह का व्यवहार आपको मिलेगा |

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: CHA (कस्टम हाउस एजेंट) का एक्सपोर्ट इंपोर्ट बिजनेस में क्या रोल होता है?

After Sales Service कैसी होनी चाहिए?

आपको अपने ग्राहक को यह बात बहुत ही अच्छी तरह से समझानी चाहिए की बिक्री के बाद आप उसको किस तरह की सेवाएं देंगे|

सेवाएं उतनी ही देने का वादा करें जितनी आप देने में समर्थ हैं|

अच्छी सेवाओं के माध्यम से भी आप माल को आसानी से बेच सकते हैं|

इस बात को बहुत अच्छी तरह समझाने के लिए मुझे आपको उदाहरण देना पड़ेगा|

उदाहरण

जैसा की आप लोगों को पता है कि मैं गद्दों (Mattresses) का व्यापारी हूं|

अतः मैं अपने प्रत्येक उत्पाद पर कुछ सालों की गारंटी देता हूं|

मैं अपने क्रेता को यह अच्छी तरह से समझाता हूं कि यदि मेरे उत्पाद में कोई इस प्रकार की शिकायत आती है (जो कि सामान्य अवस्था में नहीं आनी चाहिए)

तो मैं उस उत्पाद को बदल कर नया उत्पाद ग्राहक के लिए उपलब्ध करा दूंगा, जो कि बिल्कुल फ्री होगा|

साथ ही साथ में उसको यह बात भी अच्छी तरह समझाता हूं कि किस प्रकार की चीजें गारंटी में नहीं आएंगी|

जैसे की: “यदि ग्राहक अपने कपड़े को गद्दे के ऊपर रखकर प्रेस (Ironing) करेगा तो गद्दा जल्दी खराब हो जाएगा तथा इस प्रकार इस्तेमाल करने पर गारंटी समाप्त मानी जाएगी|”

कोई भी विक्रेता यह नहीं चाहता कि उसका ग्राहक उसके पास शिकायत संबंधी निवारण के लिए बार-बार आए|

बिक्री के बाद अच्छी सेवाएं देने से भी माल बिकने की संभावनाएं बढ़ती जाती हैं|

यह सब विषय मैंने practically इस्तेमाल किए हैं| इन्ही को अपनाकर मेरे selling skills में जबरदस्त सुधार हुआ था|

Production Capacity – उत्पादन क्षमता

आपको हमेशा अपनी उत्पादन क्षमता के बारे में पता होना चाहिए तथा इसके बारे में अपने ग्राहक को सही जानकारी दें|

यदि आप अपनी उत्पादन क्षमता से बड़ा ऑर्डर पकड़ लेंगे तो भी आपको दिक्कत हो सकती है क्योंकि घरेलू बाजार में तो हम एक बार यह बात चला सकते हैं

परंतु अंतरराष्ट्रीय व्यापार में आपका नुकसान लगना तय है|

आप अपनी उत्पादन क्षमता के हिसाब से ही आर्डर लें|

मेरे निर्यातक भाई इस बिंदु पर बहुत ही विशेष ध्यान दें क्योंकि निर्यात में सब कुछ लिखित में चलता है|

उत्पादन क्षमता के ऊपर इसी article में एक एग्जांपल दे चुका हूं इसलिए मैं दूसरा उदाहरण देना उचित नहीं समझता 

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: पार्टनरशिप फर्म क्या होती है? इसे खोलने के फ़ायदे तथा नुकसान क्या होते हैं?

मेहनती बने

अच्छी सेल्समैनशिप के लिए आपको मेहनती होना पड़ेगा|

आपको आलस का त्याग करना पड़ेगा क्योंकि आलस एक ऐसी चीज है जो आपको हमेशा आपको आपकी मंज़िल से दूर ले जाएगा|

अब बहुत से लोगों को यही नहीं पता होता है कि व्यापार में मेहनत किस तरीके से होती है|

मेहनती बने का अर्थ: तो भाइयों! शारीरिक मेहनत के अलावा मानसिक मेहनत भी एक जरूरी तत्व है जैसे कि मेल डालना,  सैंपल कूरियर करना, ग्राहक के साथ लगातार संपर्क में रहना, इत्यादि|

जिस ग्राहक से आपकी बात चल रही है उसका फॉलो अप करते रहना|

यह सारे तत्व अच्छी सेल्समैनशिप  के जनक है|

इन सब बातों को अपने जीवन में शामिल करके आप में अच्छी सेल्समैनशिप की सभी विशेषताएँ धीरे-धीरे आ जायेंगी|

किस प्रकार के दोस्त से discuss करें?

Positive सोच वाले friend से ही discuss करें|

पहली बात तो आपको अपने किसी भी मित्र से अपने व्यापार के बारे में चर्चा नहीं करनी चाहिए|

मैं यह नहीं कहना चाहता कि प्रत्येक मित्र ठीक नहीं होता|

मैं यह कहना चाहता हूं कि यदि आपको किसी मित्र से चर्चा करनी है तो उस मित्र से करनी है जो सकारात्मक दृष्टिकोण का हो|

अन्यथा नकारात्मक मित्र से आप अपने व्यापार के बारे में चर्चा करके अपने पथ से बहुत ही जल्दी भटक जाएंगे

क्योंकि मनुष्य का स्वभाव इस प्रकार का है कि वह नकारात्मक बातों से बहुत जल्दी प्रेरणा लेता है|

यदि आप निर्यात करने के बारे में निर्णय नहीं ले पा रहे हैं| 

उस स्थिति में आप अपने किसी मित्र से चर्चा करते हैं तो मेरा दावा है 10 में से 9.5  मित्र आपको मना कर देंगे |

9.5 से मेरा तात्पर्य यह है कि केवल एक मित्र मिलेगा जोकि आपको ना तो प्रोत्साहित ही करेगा और ना हतोत्साहित करेगा| वह कहेगा “मुझे तो ठीक लग रहा है देख ले कहीं कोई नुकसान नया लग जाए”

यह बात ठीक है कि निर्यात में लोगों का नुकसान लग जाता है पर किन लोगों का नुकसान लग जाता है यह बात कोई नहीं बताता| 

इस बात का जवाब यह है कि जो भी व्यक्ति निर्यात में अपना नुकसान लगा कर बैठा है उसमें उसकी स्वयं की गलती अवश्य होगी|

अन्यथा निर्यात में कभी भी नुकसान लगने की संभावना नहीं होती|

जो भी व्यक्ति सही व्यापार प्रणाली का क्रम अपनाता है यानी सिस्टम से चलता है उसका नुकसान लगने की संभावना 0% रह जाती हैं|

अब लोग यह तो बता देते हैं कि मेरे किसी जानकार का नुकसान लग गया पर वह यह नहीं बताते कि किस प्रकार लग गया?

अतः सुनने वाला उनकी बातों को सुनकर अंदर ही अंदर अपना मनोबल खो बैठता है इसलिए सकारात्मक मित्रों का विशेष महत्व होता है| 

लक्ष्य तय – Goal Set

अपने ग्राहक को माल बेचते समय आपको अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेना चाहिए|

लक्ष्य में आपको उसे  किस कीमत पर माल बेचना है वह राशि आपके दिमाग में भली-भांति स्पष्ट होनी चाहिए|

इससे आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में ज्यादा कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा|

आपको उस समय  केवल ग्राहक पर तथा उसकी बातों पर ही फोकस रखना चाहिए|

आप जितनी भी देर ग्राहक के साथ रहें आपको ग्राहक को अटेंशन देनी चाहिए|

जो भी विद्यार्थी 100 अंक लाने के लक्ष्य के हिसाब से पढ़ाई करता है वह कभी भी इस बात की चिंता नहीं करता – कि वह पास तो हो जाएगा?

उसका लक्ष्य इतना बड़ा होता है की पास होने का लक्ष्य वह बहुत ही जल्दी प्राप्त कर लेता है|

इसी प्रकार आपको अपना लक्ष्य तय होना चाहिए आपका लक्ष्य बड़ा होगा तो आपकी तरक्की भी जल्दी होगी|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: एक्सपोर्ट बिज़नेस में ग्राहक कैसे ढूंढे?

दिमागी रूप से क्या तैयारी करनी है?

किसी भी उत्पाद को बेचने के लिए आपको दिमागी रूप से तैयार हो जाना चाहिए|

यदि आप दिमागी रूप से तैयार नहीं होंगे तो आप अपना लक्ष्य प्राप्त करने में दिक़्क़तों का सामना कर सकते हैं

इसके लिए आपको अपने प्रोडक्ट के बारे में सारी जानकारी लेना, ट्रांसपोर्टेशन किस तरह से होगा?, प्रोडक्ट की क्वालिटी क्या है?

महिलाओं के साथ कैसा व्यवहार करें?

एक अच्छा व्यापारी होने के साथ-साथ आपको एक अच्छा मनुष्य भी होना आवश्यक है|

इसके लिए आपको महिलाओं के प्रति अपने मन में सदैव सम्मान रखना होगा|

जब आप अंतरराष्ट्रीय व्यापार के क्षेत्र में कदम रखेंगे तो आपको समय-समय पर महिलाओं के संपर्क में आना ही होगा|

जैसा कि मैं पहले ही बता चुका हूं कि आपको अपना लक्ष्य निर्धारित रखना है|

इस विषय के संदर्भ में आप ज़रा सा भी डिगे तो आप अपने लक्ष्य से भटक जाएंगे|

इसके लिए आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना है कि – जब भी आप महिलाओं से बात करें तब हमेशा उनके साथ सम्मान सूचक शब्दों के साथ ही बात करें|

किसी भी तरह की दो अर्थी बातें करने का प्रयास ना करें|

यह सब मैं इसलिए बता रहा हूं क्योंकि आपको क्या करना है और क्या नहीं करना सारी ही बातें बतानी है?

यह भी उसका एक बहुत जरूरी हिस्सा है इसलिए मैं नहीं समझता था कि इस टॉपिक को मुझे छोड़ना चाहिए|

मेरे हिसाब से यह विषय बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि मैंने अच्छे-अच्छे व्यापारियों को इन कार्यों में बर्बाद होते हुए देखा है|

मैंने अपनी यह Post इतनी सरल भाषा में लिखी है और इतने चयनित शब्दों का इस्तेमाल किया है कि शायद ही कोई विषय होगा जो आपको समझ में नहीं आया हो| 

अच्छी डील छूटने का डर होना चाहिए?

एक अच्छी डील छूटने का डर हर किसी को  होता है| यह एक सामान्य प्रक्रिया है|

जब आप किसी ग्राहक से कोई मुलाकात करके आते हैं

तो आपके मन में  डर यह भी होता है कि यह डील आपके हाथ से तो नहीं निकल जाएगी?

इस बात में मैं आपको एक चीज अच्छी तरह समझा देना चाहता हूं कि जो कुछ भी सोचना, समझना, बताना,कहना, पूछना, दिखाना, हो वह अपने ग्राहक से वार्तालाप के समय ही कर ले|

इसके लिए आप पूरी तैयारी करके जाएं कि आपको क्या पूछना है?

क्या दिखाना है?

अब आपको ग्राहक के संपर्क करने का इंतजार रहना चाहिए|

आप कभी भी भूल कर बहुत जल्दी जल्दी या बहुत अधिक समय में ऑर्डर पाने के लिए बार-बार ग्राहक को फोन ना करें|

यदि आप उस ग्राहक को अपनी मुलाकात के समय अच्छी तरह से समझा कर आए हैं तो निश्चित रहिए वह कहीं नहीं जाएगा|

आपके पास और जो अन्य ग्राहक हैं अब उनमें व्यस्त हो जाइए|

पर आपको ऐसा भी नहीं करना है कि आप उस ग्राहक को फोन ही ना करें|

कहने का मतलब यह है कि – आपको सही समय का इंतजार करना है ना तो वह बहुत जल्दी हो और ना ही वह बहुत देर में|

इसके लिए आपको अपने अंदर एक विशेष प्रतिभा का विकास करना पड़ेगा| 

यह प्रतिभा अपने आप आपके पास आती चली जाएगी|

एक अच्छी सेल्समैनशिप के लिए आपको किसी मनोविज्ञानी की तरह दिमाग पढ़ना आना चाहिए|

यह वह कला है जो धीरे-धीरे विकसित होती जाती है| 

ग्राहक क्या सोचेगा?

जब भी आप अपने ग्राहक से बात करेंगे तब आपको अपने द्वारा कही गई एक एक बात का पूर्वानुमान लगाकर चलना है|

आपको यह सोचना है की आपके द्वारा किसी भी कही गई बात का ग्राहक क्या मतलब निकाल सकता है?

आपको अपने द्वारा किसी बात को इस प्रकार से नहीं कहना है कि उसका ध्यान उस विषय पर चला जाए जहां आप नहीं चाहते|

कुछ भी बोलने से पहले आप तसल्ली से पहले ग्राहक की बात सुने|  ग्राहक को बीच में टोकना नहीं चाहिए|

उसे कहीं भी ऐसा नहीं लगना चाहिए कि आप उसको अटेंशन नहीं दे रहे हो|

आपको उसके सामने  ऐसे भी पेश नहीं आना है कि आप उससे ज्यादा जानते हो|

कभी-कभी हमारे द्वारा कहीं गई एक बात भी पूरी डील का सत्यानाश कर देती है|

जितनी देर भी आप ग्राहक से बातचीत करेंगे उतनी देर आपको अपने दिमाग को कहीं और खोने नहीं देना है|

आपको सारा ध्यान उस  डील पर ही लगा कर रखना है|

एक वाक़या याद आ गया तो सोचा उसे लिख दूं| 

यह बात में खुदरा दुकानदारी के समय  की बता रहा हूं| यह सामान्य से गलती हम लोगों से अक्सर हो जाती है|

उस समय एक ग्राहक मेरे से 7 दिन पहले दो गद्दे (Mattresses)खरीद कर ले गया था|

जब ग्राहक वापस आया तो उसने मुझसे आकर यह कहा कि

वही वाले दो गद्दे(Mattresses) निकाल दो”|

अब मैं उनका गद्दों का रेट भूल गया कि मैंने ग्राहक को वह गद्दे (Mattresses)कितने के  दिए थे?

अब यदि मैं ग्राहक से पूछता तो ग्राहक कम प्राइस बताता|

अगर मैं अपने आपसे कुछ कीमत लगाता हूँ और वह पहले दी गई कीमत से कम होती तो ग्राहक मेरे से कहता कि – आपने मुझको पहले वाले गद्दे (Mattresses) महंगे क्यों दिए?

तो दोस्तों, इस सिचुएशन से निकलने का सबसे अच्छा सा तरीका यह है कि आप सबसे महंगी कीमत बोल दो|

ग्राहक स्वयं से ही बता देगा कि वह कितने का लेकर  गया था|

अगर वह 5000 का लेकर गया होगा और आप उसे कहोगे ₹7000 तो वह कहेगा

“नहीं-नहीं भैया हम तो 5000 का लेकर गए थे”

तो आप भी कह दो कि नहीं 5000 का नहीं ले कर गए होगे आप को ध्यान नहीं है|

बस इसी वार्तालाप को थोड़ा सा लंबा खींच दीजिए|

आपका भी काम बन  जाएगा और ग्राहक का भी काम बन जाएगा|

साथ ही यह अवश्य पढ़ें: बैंक गारंटी क्या होती है? बहुत ही आसान तरीके से समझें

ग्राहक का मन कैसा होता है?

कीमत के संबंध में ग्राहक का सदैव एक सा मन होता है|

वह हमेशा यह अपेक्षा करता है कि उसे अधिक कीमत वाली वस्तु कम कीमत वाली वस्तु के दाम में मिल जाए|

यह एक तरह का मानव व्यवहार ही  है|

मान लो किसी वस्तु A का दाम 5000 है  तथा वस्तु B का दाम 7000 है|

तब ग्राहक हमेशा अपने मन में यह अपेक्षा करता है कि उसे B  उत्पाद A के दाम पर मिल जाए|

इस प्रकार आप भी अपनी वस्तुओं को किस दाम  में बेचना है यह आसानी से तय कर सकते हो |

Pricing Offers – मूल्य निर्धारण प्रस्ताव

जब भी आप यह प्राइसिंग का खेल समझ जाएंगे उस दिन समझ जाना कि आप ग्राहक के दिमाग को पढ़ना समझ चुके हैं|

अब मैं आपको कुछ उदाहरणों के द्वारा मैं यह तथ्य स्पष्ट करता हूं|

इससे आप समझ जाएंगे की मूल्य निर्धारण प्रस्ताव का माल बेचने से क्या संबंध है?

उदाहरण:-

मान लीजिए कि मैंने अपनी एक  पुस्तक का मूल्य रखा ₹4999|

मैं इसको अभी एक विशेष छूट के द्वारा आपको ₹2999 का उपलब्ध करा रहा हूं|

अब मैंने इसमें एक चीज़ और जोड़ दी की आने वाली 25 तारीख को 2 दिन के लिए इस पुस्तक का मूल्य 1999 रखा जाएगा

तथा यह दाम केवल शुरुआती 500 पुस्तकों के लिए ही होगा|

आप कल्पना कर सकते हैं! कि मैं इतने कम दाम में बेच कर भी अन्य दिनों के मुकाबले ज्यादा किताबें बेच सकता हूं|

तथा बहुत ही आसानी से मैं अपने ग्राहकों को आकर्षित कर सकता हूं|

बड़ी-बड़ी कंपनियां इसी प्रकार ही  ग्राहकों के दिमाग से खेलती हैं|

इसके लिए उन्होंने बड़े-बड़े न्यूरो सर्जन अपने  यहां नौकरी पर रखे हुए हैं|

बहुत सी वेबसाइट इस प्रकार की आ गई है|

आप जब भी इंटरनेट पर काम करते हैं|

उस समय वह आपका डाटा इकट्ठा करती रहती हैं कि आपको क्या चीज पसंद है?

आप क्या चीज खरीदना चाहते हो?

आप किन चीज़ों को इंटरनेट पर खोज रहे थे?

इन सारे डेटा की मदद से  यह कंपनियां आसानी से अपना माल बेचने में सफल हो जाती हैं|

जबकि इसके पीछे कुछ नहीं एक साधारण सा विज्ञान है|

बस आपको यह पता होना चाहिए कि यह ग्राहक यह चीज़ खरीदना चाहता है|

इसका इतना बजट है तथा आप उसको वह चीज़ उसके बजट में प्राप्त करा रहे हैं| 

उदाहरण:-

आप ग्राहक से यह भी कह सकते हैं कि आपको यह स्टॉप क्लियर करना है|

इसलिए आप इसे सस्ते में निकाल रहे हो|

अब जो माल आएगा उसकी कीमत इससे ज्यादा होगी यह पुरानी कीमत का माल है|

इस तरह  के अच्छे ऑफर्स के माध्यम से आप भी अपने ग्राहक को लुभा सकते हो| 

आपका उत्पाद लागत कम क्यों है?

आपको अपने ग्राहक को यह बात अच्छी तरह समझा देनी है कि आपका उत्पाद कम कीमत का क्यों है? 

इसके लिए उसको आपको यह  बता सकते हो कि आप नगद में माल खरीदते हो

जिससे आपको सस्ता पड़ता है तथा अच्छी क्वालिटी का मिलता है|

आप फिजूलखर्ची नहीं करते| एक बार में ज्यादा क्वांटिटी में माल खरीदने पर भी सस्ता पड़ता है|

आप सीधे मैन्युफैक्चर से माल खरीदते हो इससे बिचौलियों का कमीशन  बच जाता है|

इस तरह की बातों का इस प्रकार से समन्वय बिठाना है

कि आपके ग्रह के दिमाग में एक बात तो यह फिट हो जाए कि इनकी परचेसिंग सस्ती है

इसीलिए इनके माल की क्वालिटी अच्छी होते हुए भी दाम कम है|

जैसे ही आप अपने ग्राहक को यह बात समझाने में सफल हो जाओगे समझ लीजिए कि आपका काम बन चुका है|

आप कीमतों में ग्राहक को चकमा (Bluff ) दे सकते हो पर कभी भी माल की गुणवत्ता के साथ समझौता मत करना|

आप हमेशा उत्तम क्वालिटी का ही माल बनाने की कोशिश करना तथा उत्तम क्वालिटी का ही माल बेचने की कोशिश करना|

आपको पता भी नहीं चलेगा कि कब आप तरक्की के शिखर पर पहुंच गए| 

उन शब्दों का उपयोग करें जिन्हें वे सुनना पसंद करते हैं

Use words they like to hear

अच्छी सेल्समैनशिप के लिए कुछ जादुई शब्द बोलने बहुत जरूरी हैं| यह शब्द वही शब्द हैं जो हमें भी सुनने में

बहुत अच्छे लगते हैं| इन के कुछ उदाहरण हैं – विशेष रूप से, मुफ़्त, निःशुल्क, नया (Latest), ज़्यादा और तुरंत। ग्राहक हमेशा ही यह शब्द सुनकर आकर्षित होते हैं| 

उम्मीद करता हूँ मेरे इस पोस्ट – selling skills in Hindi: के द्वारा आपको प्रोडक्ट बेचने के विषय में काफी जानकारी मिली होगी|

पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद

Previous articleconsumer behaviour: study tips & tricks: Selling Skills: in Hindi
Next articleबेचने के सर्वोत्तम तरीके | Sales marketing & selling tips in Hindi
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!