Article of association क्या होता है? | MoA तथा AoA में क्या अंतर होता है?

591

कंपनी में Article of association क्या होता है? पिछली पोस्ट कंपनी कैसे खोलें में आपने पढ़ा था कि कंपनी के तीन मुख्यदस्तावेज होते हैं|

1-मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन

2-आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन 

3- प्रस्पेक्टस

इस पोस्ट में आप पढ़ेंगे आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन क्या होता है? तथा मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन तथा आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन में क्या अंतर होता है? 

What is article of association in Hindi

दोस्तों,  सबसे पहले हम यह जान लेते हैं कि आखिर आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन क्या होता है? तथा कोई भी कंपनी अपना आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन कैसे बना सकती है

चलिए!  शुरू करते हैं! 

  • आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन (AoA) में किसी भी कंपनी के आंतरिक संबंधों के बारे में बताया जाता है| आर्टिकल  ऑफ एसोसिएशन में बताया जाता है कि कंपनी में क्या नियम कायदे तय किए गए हैं?

जैसे कि:-  किसी भी डायरेक्टर की नियुक्ति किस प्रकार होगी?,  उसे हटाया कैसे जा सकता है?, किसी कर्मचारी की नियुक्ति किस प्रकार करनी है?, इत्यादि

यानी अगर मैं सरल शब्दों में समझाऊं तो AoA  के अंदर किसी भी कंपनी के आंतरिक नियम तथा कायदे (या नियम और विनियमन) तय किए गए हैं? यह लिखा होता है| 

  • सामान्यत: सभी कंपनियां अपना आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन स्वयं ही बनाती हैं क्योंकि हर कंपनी का काम करने का तरीका अलग हो सकता है तथा सभी कंपनियों का आंतरिक ढाँचा भी अलग होता है|

नोट :- यदि कोई कंपनी अपनी  अपना आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन स्वयं नहीं बनाना चाहती तो उसके लिए कंपनी अधिनियम में Article of association के बहुत सारे प्रारूप (Format)  दिए हुए हैं| 

फ़ॉर्मेट में अपनी कंपनी के हिसाब से छोटी-मोटी काट-छांट करके आप अपनी कंपनी का आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन बना सकते हैं| 

  • किसी भी कंपनी के article of association में डायरेक्टर्स के सिग्नेचर अपेक्षित (Required) होते हैं|
  • यह आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन दो गवाहों के हस्ताक्षरों के साथ सत्यापित (Attest) होना अनिवार्य है|
  • इसे आप किसी भी कंपनी का संविधान भी कह सकते हैं| यानी जिन नियमों का पालन करके वह कंपनी चलती है| 

इस विषय को और भी अच्छी तरह समझाने के लिए मैं आपको मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन तथा आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन में अंतर भी बता देता हूं|  इसके बाद आपको यह कंसेप्ट बिल्कुल अच्छी तरह क्लियर हो जाएगा 

इसके बाद आप कभी भी  कोई भी कंपनी खोलना चाहेंगे –  (चाहे वन पर्सन कंपनी हो, सेक्शन 8 कंपनी हो, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या फिर पब्लिक लिमिटेड कंपनी हो) आपको कभी भी मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन तथा आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन के बारे में समझने में कोई भी परेशानी नहीं आएगी|

तो चलिए!  शुरू करते हैं!

Difference between memorandum of association and article of association

S.No.भेद का आधार मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशनआर्टिकल ऑफ एसोसिएशन 
1Natureयह कंपनी का सबसे मुख्य दस्तावेज होता है|  इसे कंपनी का  चार्टर या प्रिंसिपल डाक्यूमेंट्स भी कहा जा सकता है| यानी मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन के बिना किसी कंपनी का अस्तित्व नहीं होता|  इसके द्वारा कोई भी बाहरी व्यक्ति किसी कंपनी के बारे में जान सकता है| यह कंपनी का आंतरिक कानून होता है|  इसमें कंपनी के अंदर क्या नियम कायदे चलेंगे उनके बारे में लिखा जाता है| इंग्लिश में इसे Bye-laws  भी कह सकते हैं| 
2Scopeइसके द्वारा किसी भी कंपनी का क्या लक्ष्य है? उद्देश्य क्या है? कंपनी का विस्तार कितना हो सकता है? कंपनी की शक्ति कितनी है? इत्यादि विषय के बारे में पता चलता है| इसके द्वारा कंपनी के आंतरिक नियमों के बारे में पता चलता है जिससे कि कंपनी को रोज़मर्रा किस प्रकार से चलाना है? इसके बारे में आसानी से पता चल जाए| 
3Statusमेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन का किसी भी कंपनी में आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन से ज्यादा महत्व होता है| अर्थात  यह किसी भी कंपनी का आधार भूत दस्तावेज़ होता है किसी भी कंपनी का supplementary (पूरक) दस्तावेज़ होता है| 
4Legal effectकिसी भी मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन से बाहर जाकर किया गया कार्य शून्य  माना जाएगा| यानी कि सामान्य शब्दों में कहूं  तो मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन के दायरे के अंदर रहकर ही कार्य करना वैलिड माना जाता है| इसके बाहर जाकर किया गया कोई भी कार्य ठीक नहीं किया जा सकता| आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन के बाहर जाकर किया गया कोई भी कार्य इसके शेयर होल्डर्स के द्वारा ठीक किया जा सकता है| 
5Compulsionकिसी भी कंपनी के लिए मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन बनाना अनिवार्य है| आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन को आप कंपनी अधिनियम में दिए गए फ़ॉर्मेट में काट-छांट कर के भी बना सकते हैं| 
6Relationshipइसमें कंपनी के बाहरी संबंधों के विषय में बताया जाता है| इसमें कंपनी के अंदरूनी नियम-कायदे कानून के बारे में बताया जाता है| 
7AlterationMOA में  काट-छांट  करना बहुत ही मुश्किल भरा तथा लंबा कार्य  होता है| इसमें किसी भी नियम-कायदे में बदलाव करना बहुत ही आसान है| 
8Nameमेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन को Doctrine of Outdoor management कहा जाता है| आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन को Doctrine of Indoor management कहा जाता है| 
Difference table between memorandum of association and article of association

Summary

किसी भी कंपनी में आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन को बनाने का मकसद उसके अंदर के कार्यप्रणाली की रूपरेखा तैयार करना होता है| जैसे कि भर्तियां किस प्रकार होंगी?,  वित्तीय दस्तावेजों का किस प्रकार रखरखाव किया जाएगा?, शेयर किस प्रकार इशू किए जाएंगे? वोटिंग किस प्रकार होगी?  इत्यादि| 

यानी कि इसमें कंपनी के अंदरूनी कार्यप्रणाली का लेखा-जोखा होता है|

आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन पर आधारित प्रश्न-उत्तर

मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन तथा आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन में से कौन सा दस्तावेज़ मुख्य होता है?

मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन कंपनी का मुख्य दस्तावेज़ होता है| 

AoA  का दूसरा नाम क्या है? 

Doctrine of Indoor management

आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन को सरलता से बनाने का तरीका क्या है?

कंपनी अधिनियम में इसके प्रारूप दिए गए हैं उनमें काट-छांट करके इसे सरलता से बनाया जा सकता है| 

आपने इस पोस्ट में  सीखा Article of association क्या होता है? मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन तथा आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन में क्या अंतर होता है?

उम्मीद करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे तथा आपके सभी सवालों के जवाब भी मिल गए होंगे|

साथ ही इसे अवश्य पढ़ें:

एक्सपोर्ट इंपोर्ट बिज़नेस कैसे शुरू करें?

कंपनी क्या होती है?, भारत में कैसे खोले?

पार्टनरशिप फर्म क्या होती है? इसे खोलने के फ़ायदे तथा नुकसान क्या होते हैं?

LLP (limited liability partnership) क्या होती है?

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब अवश्य करें साथ ही साथ इस पोस्ट को अधिक से अधिक मात्रा में शेयर भी अवश्य करें|

धन्यवाद

Previous articleप्राइवेट लिमिटेड कंपनी क्या होती है? | Pvt. Ltd. कंपनी खोलने के क्या फ़ायदे होते हैं?
Next articleProspectus of a company क्या होता है? | प्रस्पेक्टस कितने प्रकार के होते हैं?
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!