Affiliate marketing in Hindi | एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए?

561

इस पोस्ट में हम बात करेंगे “Affiliate Marketing” के बारे। वैसे तो online पैसे कमाने के बहुत सारे तरीके है। जैसे कि: E-commerce store, Advertising, Services providing, online selling करना इत्यादि|

पर Affiliate Marketing ऐसा तरीका है जिसे, ऑनलाइन पैसा कमाने में सबसे ऊपर रखा जाता है| यदि आप एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जानते हैं, तो मैं आपको एक चीज स्पष्ट कर दूं कि विश्व की नंबर वन E-commerce website – Amazon, Affiliate marketing Program के दम पर ही नंबर वन है|

Affiliate marketing, win win situation की तरह काम करती है| यानी कि इसमें सभी पक्षों को फायदा होता है| Buyer को अपनी मनपसंद का product  खरीदने में आसानी होती है, Affiliate marketer को अपनी मेहनत के बदले commission मिल जाता है, जिसका Affiliate programme है, उसका प्रोडक्ट बिक जाता है| 

तो दोस्तों हो गई ना win-win सिचुएशन! 

इस पोस्ट में हम निम्न विषयों को cover करेंगे:

  • Affiliate Marketing क्या है ?
  • Affiliate Marketing कैसे काम करती है ?
  • Affiliate Marketing Program से Payment कैसे मिलती है?
  • कौन-कौन सी Popular Affiliate Marketing sites हैं?
  • Affiliate Marketing Program को join कैसे करें?
  • Affiliate Marketing की कुछ जरूरी definitions
  • Affiliate Marketing से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ: Frequently Asked Questions)

तो चलिए दोस्तों! एक-एक करके इन सबको अच्छी तरह से समझते हैं।

पर उससे पहले “Affiliate meaning in Hindi” जान लेते हैं|

Affiliate meaning in Hindi: “सहबद्ध, मिलाना, संबद्ध करना”

Affiliate Marketing क्या है ? (एफिलिएट मार्केटिंग क्या है?)

Affiliate Marketing, marketing का एक ऐसा तरीका है, जिसमे कोई व्यक्ति अपने किसी भी source, जैसे कि: Website/blog, Youtube channel, email marketing के द्वारा, किसी अन्य organization या कंपनी के products को recommend करता है या promote करता है (प्रचार करता है)|

जब भी कोई उसके promote किए हुए product को उसके affiliate link के द्वारा खरीदता है तो, वह कंपनी या आर्गेनाईजेशन उस व्यक्ति को पहले से तय कुछ commission देती है। 

यह कमीशन अलग-अलग products के हिसाब से अलग-अलग होता है। कुछ कंपनियां कमीशन के रूप में सेल का कुछ प्रतिशत हिस्सा देती हैं तथा कुछ कंपनियां commission पहले से ही commission fix करके रखती हैं|

यह products, physical तथा digital किसी भी रूप में हो सकते हैं| 

जैसे कि: Web hosting Affiliate, Website plugin affiliate, Mattress (गद्दे) से लेकर कर cloth या electronics.

Web hosting के बारे में अधिक जानने के लिए यह पोस्ट पढ़ें: Web hosting क्या होता है तथा dedicated hosting vs cloud hosting

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करती है?

जब भी कोई company या organization अपने products प्रमोट करना चाहती है तो, वह अपना एक Affiliate Program offer करती है। 

किसी भी कंपनी के product की Affiliate Marketing करने से पहले इस Affiliate Program को join करना पड़ता है|

Affiliate programme join करने के बाद यह कंपनियां या ऑर्गनाइजेशन उस व्यक्ति को एक unique ID दे देती हैं|

इसके बाद यह कंपनियां या ऑर्गेनाइजेशन अपने product की promotion के लिए कोई Banner या Link आदि देती है|

Next step में यह व्यक्ति  इस Banner या Link Blogger, youtuber अपनी website या youtube channel के माध्यम से प्रमोट करते हैं| 

जब भी कोई visitor उस blog/website या youtube channel, facebook page इत्यादि के माध्यम से उस link या banner  को क्लिक करता है तो,  वह visitor  उस affiliate program owner की वेबसाइट पर पहुंच जाता है|

इस affiliate program को offer करने वाली company या Organization की वेबसाइट से,  यदि वह visitor product खरीदता है या किसी service के लिए sign up करता है तो, affiliate marketer का task पूरा हो जाता है|  

अब! बदले में वह कंपनी उस affiliate marketer को तय कमीशन देती है| 

एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम से Payment कैसे मिलती है?

अलग-अलग affiliate program, Payment देने के लिए अलग-अलग प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर करते हैं, परंतु लगभग सभी program payment के लिए PayPal और bank transfer का इस्तेमाल जरुर करते हैं|

Affiliate Marketing Program में ऐसे कुछ terms use होते हैं जिनके आधार पर affiliate marketer को commission दिया जाता है| जैसे की:

1- CPS (Cost Per Sale): यह amount affiliate को तब मिलता है जब उसके blog के visitor products को खरीदता लेता है. जितने ज्यादा लोग affiliate link से उस products को खरीदेंगे, उसके आधार पर ही हर एक purchase पर affiliate marketer को commission मिलता है.

2- CPM (Cost Per 1000 impressions): यह एक ऐसा amount है जो merchant के द्वारा (यानि की product के मालिक द्वारा) affiliate marketer (यानि की जो उनके product को promote कर रहा है) को उसके blog के page पर लगाये हुए उन products के Ads पर 1000 views हो जाने पर, merchant affiliate को उसके आधार commission देता है.

3- CPC (Cost per click): इसमें affiliate marketer के blog पर लगाये हुए Text affiliate link, advertisement, affiliate banner link पर visitor के प्रत्येक click पर उसको commission मिलता है|

वैसे तो  Internet पर आपको बहुत सारे affiliate marketing companies मिल जाएंगी, परंतु मैं आपको कुछ popular affiliate और best affiliate companies के बारे मे बताऊंगा|

यह एफिलिएट कंपनियां या ऑर्गेनाइजेशन ज़्यादा commission प्रदान करती हैं.

किसी भी affiliate program को join करने से पहले आपको  उसके बारे में सभी जरूरी जानकारियां ले लेनी चाहिए| 

जब भी आप किसी कंपनी के एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम के विषय में जानना चाहें तो, आपको केवल गूगल सर्च इंजन पर उस कंपनी के नाम के आगे एफिलिएट लिखना है| यदि उस कंपनी का कोई Affiliate programme होगा तो वह सर्च रिजल्ट में आ जाएगा| 

Best Affiliate Marketing Program Sites:

1- Amazon Affiliate

2- Flipkart Affiliate

3- Clickbank

4- Commission Junction

5- eBay

6- WP Rocket (Cache plugin for WordPress)

नोट: मुझे पर्सनली Amazon Affiliate Program बहुत पसंद है| 

Affiliate Marketing Program को join कैसे करें?

यदि आप कोई भी Affiliate Marketing Program को join करना चाहते हैं, तो यह बहुत ही आसान है| इसके लिए आपको कुछ steps का follow करना होगा जिसके बाद आप, आसानी से अपना Affiliate income शुरु कर सकते हैं|

यहाँ में Amazon Affiliate Program को कैसे join करें? इसके बारे में बताऊंगा|

सबसे पहले आपको amazon पर एक अकाउंट बनाना होगा| इसमें आपसे कुछ ज़रूरी जानकारी पूछी जाती है जैसे की:

आपका नाम क्या है?

पता क्या है?

आपका ईमेल एड्रेस क्या है?

मोबाइल नंबर क्या है?

आपकी पैन कार्ड का नंबर क्या है?

आप जिस Website/Blog/youtube channel का URL Link (जहां पर आप अमेजॉन एफिलिएट प्रोडक्ट को प्रमोट करेंगे)

Payment  Details: (जिस भी बैंक का अकाउंट में आपको अपनी पेमेंट चाहिए उसकी डिटेल)

इसके बाद आपकी ईमेल आईडी पर एक कंफर्मेशन मेल आएगा, रजिस्टर करने के बाद जब आप लोग पर क्लिक करेंगे तो आपके पास ऐसा डैशबोर्ड आएगा जहां पर आपको प्रोडक्ट का एफिलिएट लिंक दिखाई देगा|  इस लिंक को को कॉपी करके आपको अपनी वेबसाइट पर, बस! प्रमोट करना है, जहां से लोग इस प्रोडक्ट को खरीदें और आपकी कमाई हो सके|

Affiliate Marketing की कुछ जरूरी definitions

इस topic को अच्छी तरह से समझने के लिए इन definitions को समझना बहुत जरूरी है| 

Affiliates: “Affiliates उन व्यक्तियों को कहा जाता है जो किसी Affiliate program को join करके, उनके products को अपने sources जैसे की: website/blog/youtube channel पर promote करते हैं।”

Affiliate ID: Affiliate Programs join करने के बाद हर एक Affiliate को एक unique ID दी जाती है, इसी यूनीक आईडी की मदद से affiliate Sales का data जुटाने में मदद मिलती है।

Affiliate Marketplace: “कुछ ऐसे portals भी मौजूद है, जो अलग-अलग categories में Affiliate Programs को offer करती हैं, इन्हीं पोर्टल्स को Affiliate Marketplace कहा जाता है।”

Affiliate link: हर एक Affiliate Marketer को अलग-अलग products के promotion के लिए कुछ links provide किये जाते हैं, इन links पर click करके Visitors किसी अन्य website पर पहुँच जाता है, जहाँ वह कोई product खरीद सके। इन links के द्वारा ही Affiliate program वाले sales की tracking भी करते है।

Commission: वह राशि (Amount) होती है, जो प्रत्येक Affiliate sale के हिसाब से प्रदान की जाती है। यह sale का कुछ percent हिस्सा भी हो हो सकती है या पहले से निश्चित कोई धनराशि भी हो सकती है।

Link Clocking: जादातर Affiliate links बहुत लंबे होते हैं| यह links देखने में अजीब से लगते है। ऐसे links को URL shorteners का इस्तेमाल करके छोटा करना Link Clocking कहलाता है।

Affiliate Manager: कुछ Affiliate programs में Affiliates की मदद और उन्हें सुझाव (टिप्स) देने के लिए कुछ व्यक्ति नियुक्त किये जाते है, इन्हे Affiliate Manager कहते हैं।

Payment Mode: पेमेंट मोड का मतलब उस माध्यम से है जिसके द्वारा आपको, आपकी एफिलिएट कमीशन दी जाएगी| अलग-अलग Affiliates अलग-अलग modes offer कर सकते हैं| जैसे कि: wire transfer, cheque, PayPal, payoneer इत्यादि।

Payment Threshold: वह न्यूनतम (minimum) धनराशि, जिसे जब आप earn कर लेंगे तो आपको आपकी payment की जायेगी। अलग-अलग programs की payment threshold धनराशि अलग-अलग होती है। 

FAQs: Affiliate Marketing in Hindi

Affiliate Marketing के बारे में इतना सब जान लेने के बाद कुछ ऐसे प्रश्नों के उत्तर जानते है जो, अक्सर आपके मन में, Affiliate Marketing के विषय में आते हैं।

क्या एक ही या वेबसाइट पर Affiliate Marketing और Ad Networks जैसे कि Adsense को इस्तेमाल किया जा सकता है?

जी हाँ, Affiliate Marketing और Ad Networks को एक साथ इस्तेमाल किया जा सकता है। कई लोगो के लिए Affiliate Marketing, Ad networks के मुकाबले, कमाई का बढ़िया जरिया है।

क्या Affiliate Marketing के लिए Blog/Website होना जरूरी है?

जरूरी तो नहीं हैं, परंतु फिर भी Affiliate Marketing से पैसे कमाने का सबसे बढ़िय जरिया Blog/website ही है।

Affiliate Marketing join करने लिए क्या कोई खास course इत्यादि करना पड़ता है?

जी नहीं, बस! आपको इस के सम्बन्ध में कुछ चीज़ों की जानकारी होनी चाहिए। बस आपको इसके लिए लगातार प्रैक्टिस करनी पड़ेगी|

कौन-कौन सी companies या organizations Affiliate programs offer करती है ?

हर कोई company या organization Affiliate programs offer नहीं करती। आपको यह पता लगाना होता है की कौन सी companies या organizations Affiliate programs offer करती है।

यह कैसे पता लगाया जा सकता है कि कौन-कौन सी companies या organizations Affiliate programs offer करती है?

इसके लिए आपको Google Search पर, simply उस कंपनी का नाम ‘Affiliate’ word के साथ सर्च करना है| यदि उस कंपनी का कोई एपलेट प्रोग्राम होगा तो वह सर्च रिजल्ट में आ जाएगा| इस प्रकार आप जान पाएंगे की वह कंपनी Affiliate Program offer करती है या नहीं। इसके अलावा Internet पर ढेरों websites/blogs हैं, जहाँ आप आसानी से पता कर सकते है कि कौन सी companies या organizations यह program offer करती है? यहां तक कि आप उनके बारे में रिव्यु पढ़कर निर्णय भी ले सकते हैं|

Affiliate Marketing से कितने पैसे कमा सकते है?

यह एफिलिएट मार्केटिंग का सबसे चर्चित प्रश्न है| यह पूरी तरह से आपके ऊपर निर्भर करता है कि आपकी ब्लॉग या वेबसाइट पर कितने विजिटर आते हैं, यदि आपने बहुत ही अच्छी पोस्ट लिखी है जिससे यूजर को कुछ वैल्यू मिल रही है और वह आपके एफिलिएट लिंक पर क्लिक करके एफिलिएट प्रोग्राम वेबसाइट पर जा रहा है तो निश्चित ही आपकी अधिक सेल्स जनरेट होगी

कम ट्रैफिक में ब्लॉगिंग से अधिक पैसा कमाया जा सकता है या एफिलिएट मार्केटिंग से?

निश्चित ही, कम ट्रैफिक में एफिलिएट मार्केटिंग से ब्लॉगिंग के मुकाबले अधिक पैसा कमाया जा सकता है|

Affiliate marketing में सफलता कैसे पाएं?

Affiliate marketing में सफलता पाने का कोई भी शॉर्टकट नहीं है| अपने यूजर को सही एवं महत्वपूर्ण जानकारी दें| अपनी वेबसाईट/ब्लॉग की विश्वसनीयता बढ़ाएँ| इस प्रकार आप affiliate marketing में सफल हो सकते हैं|

क्या में अपना affiliate link से खुद या अपने दोस्तों के द्वारा इस्तेमाल कर सकता हूँ?

यह गलती बिल्कुल न करें| सभी affiliate program आपको ट्रैक करते हैं| ऐसा करने पर आपका affiliate account block/suspend हो जाएगा|

affiliate link से खरीदने पर प्राइस पर क्या फर्क पड़ता है?

कुछ फर्क नहीं पड़ता, वही प्राइस रहते हैं|

एक अमेज़न एफिलिएट लिंक से कितने शॉपिंग कर सकते हैं

एक अमेज़न एफिलिएट लिंक से अनलिमिटेड लोग शॉपिंग कर सकते हैं

क्या एफिलिएट मार्केटिंग की वेबसाइट पे Google Adsense अप्रूवल ले सकते हैं?

जी हाँ ले सकते हैं, परंतु जब भी आप google Adsense के लिए apply करें, अप्रूवल आने तक अपनी वेबसाईट से affiliate link हट दें|

क्या Amazon एक हिंदी ब्लॉगर के लिए Affiliate Marketing प्रदान करता है?

जी हाँ, Amazon एक हिंदी ब्लॉगर के लिए Affiliate Marketing प्रदान करता है|

साथ ही है भी अवश्य देखें:

Online Money कमाने के तरीके

बिना website बनाये कैसे online business करें?

E-Marketing कैसे करें?

CIBIL Score क्या होता है?

इस पोस्ट से आपने क्या सीखा? 

इस पोस्ट के द्वारा हमने एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में हिंदी में जाना है| जैसे कि: एफिलिएट मार्केटिंग क्या होती है? (affiliate marketing in Hindi), कौन से एफिलिएट प्रोग्राम बेस्ट प्रोग्राम है?  इत्यादि| 

 दोस्तों, उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट “ Affiliate marketing in Hindi (एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए?)” पसंद आई होगी|

इसी प्रकार Online earning  से संबंधित अगली पोस्ट में, मैं फिर मिलूंगा तब तक के लिए नमस्कार 

धन्यवाद 

Previous articleDimensions of business environment in Hindi | कारोबारी माहौल के आयाम
Next articleCustomer Base क्या होता है और यह आपके Business के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?
प्यारे दोस्तों, मैं नवीन कुमार एक बिज़नेस ट्रैनर हूँ| अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको - आयात-निर्यात व्यवसाय (Export-Import Business), व्यापार कानून (Business Laws), बिज़नेस कैसे शुरु करना है?(How to start a business), Business digital marketing, व्यापारिक सहायक उपकरण (Business accessories), Offline Marketing, Business strategy, के बारें में बताऊँगा|| साथ ही साथ मैं आपको Business Motivation भी दूंगा| मेरा सबसे पसंदीदा टॉपिक है- “ग्राहक को कैसे संतुष्ट करें?-How to convince a buyer?" मेरी तमन्ना है की कोई भी बेरोज़गार न रहे!! मेरे पास जो कुछ भी ज्ञान है वह सब मैं आपको बता दूंगा परंतु उसको ग्रहण करना केवल आपके हाथों में है| मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सब मित्र खूब तरक्की करें! धन्यवाद !!